Tuesday, June 25, 2013

RSS Relief work in Uttarakhand on CNN IBN

Check out this video on YouTube:


Sent from my iPad

Fwd: RSS Flood Relief Campaign in Ahmedabad Gujarat

Vishwa Samvad Kendra

Monday, June 24, 2013

Forces must be equipped with dynamic cyber warfare tools: Kalam

Sent from my iPhone

Begin forwarded message:

From: "Manmohan Vaidya " <mmohanngp@gmail.com>
Date: 23 June 2013 11:44:11 AM GMT
To: "'Manmohan Vaidya '" <mmohanngp@gmail.com>
Subject: FW: Forces must be equipped with dynamic cyber warfare tools: Kalam




Forces must be equipped with dynamic cyber warfare tools: Kalam

PTI  Hyderabad, June 20, 2013

First Published: 18:28 IST(20/6/2013) | Last Updated: 18:29 IST(20/6/2013)

Noting that cyber attacks could cause destruction on an unprecedented scale, former president APJ Abdul Kalam on Thursday stressed on the need to equip future officers of armed forces to envisage and combat technology-driven warfare.

"The whole war environment will be a network centric warfare and it could be electronically controlled. Sometimes space encounters, deep sea encounters and ballistic missile encounters.

"The winner of future warfare will be the officer who can visualise the strength of the enemy not based on the earlier war but based on the current capacities and technology advancements in the global scenario," Kalam said, after the convocation ceremony at the Military College of Electronics and Mechanical Engineering (MCEME) in Hyderabad.

"Our armed forces officers will have to get trained in virtual reality-based, simulated warfares of all the terrains and extreme conditions of the warfare," he said.

The key to becoming a strong nation is to have economic and military strength together, he said.

"India is capable of technological advancements. We have developed expertise alongwith technology in remote-sensing, communication satellites, strategic missile system, electronic warfare system, LCA, naval system among others.

"There is a need to integrate all the technologies and build an indigenous system which will meet the needs of the defence services of our country," he said.

Referring to cyber warfare and challenges, he said in an electronically-connected world, many nations will be endangered in future due to cyber war which can create destruction effortlessly at the speed of light that even Intercontinental Ballistic Missile and other nuclear weapons can become insignificant.

"Nowadays, nations have electronically connected in all the economic, defence and national security establishments which would be the target for cyber attacks during a conflict or to create instabilities," he said, adding that a country can get defeated without a missile or aircraft attack just through intelligence cyber war.

Kalam said, "In technology-centric crimes and war, the crime may originate from a strange place outside the nation shores and may damage the organisational wealth which will be in digital form."

If information is not handled in a secure way, it can be intercepted and even modified, he said and stressed the need to put in place a system which can detect vulnerabilities and respond to the security loopholes dynamically in the event of cyber attacks.

Along with different kinds of warfare, the tools of war have also changed to economic competition, control of market forces, essential items like energy, he said, adding that in the next two decades, anti-ballistic defence systems are going to be a major force.

Earlier, the former President conferred degrees and awards to the engineering graduates. A total of 22 officers of 92 Degree Engineering Course and 22 officers of 19 Technical Entry Scheme Course were awarded Bachelor of Technology Degree from the Jawaharlal Nehru University, New Delhi during the convocation ceremony.

MCEME Commandant Lt Gen S M Mehta also spoke on the occasion.


( Connect me in professional network Linkedin)
Please follow us in Twitter-- @jobsquareindia

Hats of the Sarna Society of Jharkhand


Hats off To The Sarna Society of Jharkhand
20/06/2013 03:26:17  GSK Menon

The Times Of India, has carried a news report from Ranchi, dated 19th June 2013, about the protests raised by  the Sarna Society, of Jharkhand. The Dharmaguru  Shri.Bandhan Tigga, has protested the unveiling of a statue(idol) of  Mother Mary, wherein she is wearing a white saree with a red border. Her features have also been modified to look like that of a tribal.
The Sarna Society, has raised their voice against this foreign lady being shown wearing a saree. A saree is a Hindu dress worn by Hindu women. The white saree with a red border is used by women of the Sarna Community on auspicious occasions.

The Dharmaguru, has rightly protested "If the idol of Mother Mary is shown in the dress of a tribal woman, then 100 years from now people will think Mother Mary was a tribal from Jharkhand". The Sarna society is demanding the removal of the statue (idol), as they feel that it is a trick to convert their community.


The local Cardinal (converter) Mr.Telesphor P Toppo, has defended  the sari wearing foreign lady's idol, claiming that tribal Christians have equal rights to the sari. What this Converter failed to understand is that people are protesting the Jewish lady's idol being draped in a Hindu sari. The Jewish lady would never have dressed herself in such a garment, so is it correct to drape her idol in a foreign garment ?


What is note worthy is the protest against such distortions being made by foreign religions trying to masquerade as local religions by appropriating (more correctly, Stealing) their way of worship and religious symbols. In Kerala and elsewhere in South India we are daily witnessing how the Dhwajastambha, Nilavilakku and Kuthuvilakku, panchavadyam, Bharathanatyam dances have all been cloned to give the Jew a Hindu look and feel. 

Traditional Hindu temple prasadams  like ladoo, Kheer(Payasam) are all being distributed in the Church. Are these their religious beliefs and practices. Many convert Padres arrange receptions for themselves using Punakumbham. Should we permit such degradation of our religion ? These are the people who derided our religion, culture, rituals as mythology and superstition, why are they wanting to imitate it ? Is it a new clandestine conversion modus operandi ? In Tamilnadu also one can see idols of the Jewish lady in Kancheepuram saree.

The Sarna society must be congratulated for voicing their protest and threatening to raise an agitation against such malpractices. Hindus in Kerala and other States should also protest against such wanton distortion by missionary gangs.

Sunday, June 23, 2013

Thursday, June 20, 2013

Gurjar bharati

नदियों की धारा बदलने का नतीजा उत्तराखंड की विनाशलीला


नदियों की धारा बदलने का नतीजा उत्तराखंड की विनाशलीला

सारे हालात को देखकर ऐसा लग रहा है कि एक दिन उत्तराखंड के पहाड़ी इलाक़ों में सिर्फ़ बांध ही बांध नज़र आएंगे। नदियां सुरंगों में चली जाएंगी जो इलाक़े बचेंगे उन में खनन का काम चलेगा।.

By Vivek Shukla on June 19, 2013



The secret of tragedy in Uttrakhandउत्तराखंड में जिस विनाशलीला को देश देख रहा है,उसके मूल में हमारा वहां पर प्राकृतिक के साथ खिलवाड़ करना है। उत्तराखंड पारिस्थिक तौर पर खोखला होता जा रहा है। यहां की सरकारों ने केन्द्र सरकार के साथ मिलकर राज्य में अनगिनत विद्युत परियोजनाएं शुरू की हैं।

बांध बनाने के लिए पहाड़ों में सुरंग खोदकर नदियों को एक जगह से दूसरी जगह पहुंचाने का काम जारी है। अगर सभी योजनाओं पर काम पूरा हो गया तो एक दिन जल स्रोतों के लिए मशहूर उत्तराखंड में नदियों के दर्शन दुर्लभ हो जाएंगे। इससे जो पारिस्थितिकीय संकट पैदा होगा उससे इंसान तो इंसान, पशु-पक्षियों के लिए भी अपना अस्तित्व बचाना मुश्किल हो जाएगा.

सरकार गंगा को राष्ट्रीय नदी घोषित करती है, पर भागीरथी नदी अब पहाड़ी घाटियों में ही ख़त्म होती जा रही है। अपने उद्गम स्थान गंगोत्री से थोड़ा आगे बढ़कर हरिद्वार तक उसको अपने नैसर्गिक प्रवाह में देखना अब मुश्किल हो गया है। गंगोत्री के कुछ क़रीब से एक सौ तीस किलोमीटर दूर धरासू तक नदी को सुरंग में डालने से धरती की सतह पर उसका अस्तित्व ख़त्म सा हो गया है।

उस इलाक़े में बन रही सोलह जल विद्युत परियोजनाओं की वजह से भागीरथी को धरती के अंदर सुरंगों में डाला जा रहा है. बाक़ी प्रस्तावित परियोजनाओं के कारण आगे भी हरिद्वार तक उसका पानी सतह पर नहीं दिखाई देगा या वो नाले की शक्ल में दिखाई देगी। यही हालत अलकनंदा की भी है।

ध्यान रहे कि इस तरह के हालात तो गंगा की प्रमुख सहायक नदियों भागीरथी और अलकनंदा का है। बाक़ी नदियों से साथ भी सरकार यही बर्ताव कर रही है। एक अनुमान के मुताबिक़ राज्य में सुरंगों में डाली जाने वाली नदियों की कुल लंबाई क़रीब पंद्रह सौ किलोमीटर होगी। इतने बड़े पैमाने पर अगर नदियों को सुरंगों में डाला गया तो जहां कभी नदियां बहती थीं वहां सिर्फ़ नदी के निशान ही बचे रहेंगे।

पानी के नैसर्गिक स्रोत ग़ायब हो गए हैं। कहीं घरों में दरारें पड़ गई हैं तो कहीं पर ज़मीन धंसने लगी है। भूस्खलन के डर से वहां के कई परिवार तंबू लगाकर खेतों में सोने को मजबूर रहते हैं।

जोशीमठ जैसा पौराणिक महत्व का नगर पर्यावरण से हो रहे इस मनमाने खिलवाड़ की वजह से ख़तरे में है। उसके ठीक नीचे पांच सौ बीस मेगावॉट की विष्णुगाड़-धौली परियोजना की सुरंग बन रही है। डरे हुए जोशीमठ के लोग कई मर्तबा आंदोलन कर अपनी बात सरकार तक पहुंचाने की कोशिश कर चुके हैं। लेकिन उनकी मांग सुनने के लिए सरकार के पास वक़्त नहीं है. कुमाऊं के बागेश्वर ज़िले में भी सरयू नदी को सुरंग में डालने की योजना पर अमल शुरू हो चुका है।

अपने अस्तित्व के इतने साल गुजर जाने के बाद भी उत्तराखंड में पानी की समस्या हल नहीं हो पाई है.। ये हाल तब है जब उत्तराखंड पानी के लिहाज़ से सबसे समृद्ध राज्यों में से एक है. ठीक यही हाल बिजली का भी है।

हैरत की बात है कि उत्तराखंड जैसे छोटे भूगोल में पांच सौ अठावन छोटी-बड़ी जल विद्युत परियोजनाएं प्रस्तावित हैं। इन सभी पर काम शुरू होने पर वहां के लोग कहां जाएंगे इसका जवाब किसी के पास नहीं है।

राज्य और केंद्र सरकारें इस हिमालयी राज्य की पारिस्थिकीय संवेदनशीलता को नहीं समझ रही है। सरकारी ज़िद की वजह से टिहरी में बड़ा बांध बनकर तैयार हो गया है। यहां के कई विस्थापितों को तराई की गर्मी और समतल ज़मीन पर विस्थापित किया गया।

दुनियाभर के भूगर्ववैज्ञानिक इस को कई बार कह चुके हैं कि हिमालयी पर्यावरण ज़्यादा दबाव नहीं झेल सकता इसलिए उसके साथ ज़्यादा छेड़छाड़ ठीक नहीं। लेकिन इस बात को समझने के लिए हमारी सरकारें बिल्कुल तैयार नहीं हैं।

आज पहाड़ी इलाकों में विकास के लिए एक ठोस वैकल्पिक नीति की ज़रूरत है। जो वहां की पारिस्थितिकी के अनुकूल हो. ऐसा करते हुए वहां की सामाजिक, सांस्कृतिक और भूगर्वीय स्थितियों का ध्यान रखा जाना ज़रूरी है।

इस बात के लिए जब तक हमारी सरकारों पर चौतरफ़ा दबाव नहीं पड़ेगा तब तक वे विकास के नाम पर अपनी मनमानी करती रहेंगी और तात्कालिक स्वार्थों के लिए कुछ स्थानीय लोगों को भी अपने पक्ष में खड़ा कर विकास का भ्रम खड़ा करती रहेंगी. लेकिन एक दिन इस सब की क़ीमत आने वाली पीढ़ियों को ज़रूर चुकानी होगी.

आज उत्तराखंड में अनगिनत बांध ही नहीं बन रहे हैं बल्कि कई जगहों पर अवैज्ञानिक तरीक़े से खड़िया और मैग्नेसाइट का खनन भी चल रहा है. इसका सबसे ज़्यादा बुरा असर अल्मोड़ा और पिथौरागढ़ ज़िलों में पड़ा है. इस वजह से वहां भूस्खलन लगातार बढ़ रहे हैं. नैनीताल में भी बड़े पैमाने पर जंगलों को काटकर देशभर के अमीर लोग अपनी ऐशगाह बना रहे हैं. अपने रसूख का इस्तेमाल कर वे सरकार को पहले से ही अपनी मुट्ठी में रखे हुए हैं.

पर्यारण से हो रही इस छेड़छाड़ की वजह से ग्लोबल वार्मिंग का असर उत्तराखंड में लगातार बढ़ रहा है. वहां का तापमान आश्चर्यजनक तरीक़े से घट-बढ़ रहा है. ग्लेशियर लगातार पिघल रहे हैं. इस सिलसिले में पिछले दिनों राजेंद्र पचौरी की संस्था टेरी और पर्यावरण मंत्रालय के बीच हुआ विवाद का़फी चर्चा में रहा.

वे इस बात पर उलझे रहे कि हिमालयी ग्लेशियर कब तक पिघल जाएंगे. लेकिन इसकी तारीख़ या साल जो भी हो इतना तय है कि सुरक्षा के उपाय नहीं किए गए तो भविष्य में ग्लेशियर ज़रूर लापता हो जाएंगे। तब उत्तर भारत की खेती के लिए वरदान माने जाने वाली नदियों का नामो-निशान भी ग़ायब हो सकता है। तब सरकारें जलवायु परिवर्तन पर घड़ियाली आंसू बहाती रहेगी।

टिहरी बांध का दंश राज्य के ग़रीब लोग पहले ही देख चुके हैं। अब नेपाल सीमा से लगे पंचेश्वर में सरकार एक और विशालकाय बांध बनाने जा रही है। ये बांध दुनिया का दूसरा सबसे ऊंचा बांध होगा। ये योजना नेपाल सरकार और भारत सरकार मिलकर चलाने वाली हैं। इससे छह हज़ार चार सौ मेगावॉट बिजली पैदा करने की बात की जा रही है। इसमें भी बड़े पैमाने पर लोगों का विस्थापन होना है और उनकी खेती योग्य उपजाऊ़ जमीन बांध में समा जानी है।. इस तरह प्राकृतिक संसाधनों से समृद्ध होना ही आज उत्तराखंड के लिए सबसे बड़ा अभिशाप बन गया है।

सारे हालात को देखकर ऐसा लग रहा है कि एक दिन उत्तराखंड के पहाड़ी इलाक़ों में सिर्फ़ बांध ही बांध नज़र आएंगे। नदियां सुरंगों में चली जाएंगी जो इलाक़े बचेंगे उन में खनन का काम चलेगा।. इस विकास को देखने के लिए लोग कोई नहीं बचेंगे। तब पहाड़ों में होने वाले इस विनाश के असर से मैदानों के लोग भी नहीं बच पाएंगे। कम से कम हमें अब जाग जाना चाहिए। अगर नहीं जागे तो उत्तराखंड में बर्बादी को हम आगे भी देखते रहेंगे।

Wednesday, June 19, 2013

Kashmir University Students Sit Through National Anthem


Kashmir University Students Sit Through National Anthem

Srinagar | Jun 17, 2013

It was an embarrassing moment for the Kashmir University as students and some faculty members of its Law Department did not stand when the national anthem was played today on the arrival of Chief Justice of India Altamas Kabir.

As soon as the Chief Justice and some other dignitaries entered the convocation hall of the university here, the national anthem was played.

The dignitaries, the High Court judges and other judicial staff stood up in respect of the national anthem.

However, the students and some staff members of the varsity remained seated.

Ironically, the students designated as stewards at the function signalled the students to sit down when some of them rose as the anthem was being played.

The officials of the Kashmir University refused to comment on the incident.

The Chief Justice visited the university, which was founded in 1948, to address the faculty and students of the Law department.

Monday, June 17, 2013

संघl और राजनीति from M G Vaidya

संघ और राजनीति

'संघ और राजनीति' इस शीर्षक का लेख लिखने के लिए मुझे प्रवृत्त किया, दि. 13 जून के 'इंडियन एक्सप्रेस' इस विख्यात अंग्रेजी दैनिक के संपादकीय लेख ने. 'इंडियन एक्सप्रेस' के उस लेख का शीर्षक है "Coming Out". हिंदी में उसका अनुवाद होगा 'प्रकटीकरण'. और भी एक कारण घटित हुआ. वह यह की 13 जून को ही  Times Now चॅनेल के मुंबई के प्रतिनिधि मुझसे मिलने आये और उन्होंने 'संघ और राजनीति' इस विषय पर मेरी मुलाकात ली. रविवार 16 जून को, 'टाईम्स नाऊ' एक घंटे की 'पॉलिटिक्स' शीर्षक से चर्चा प्रसारित करनेवाला है. उस संदर्भ में ही यह मुलाकात थी.

लेख का कारण

'इंडियन एक्सप्रेस'के संपादकीय का मथितार्थ ऐसा है की संघ खुलकर राजनीति में उतरे. संघ ने स्वयं के बारे में अराजनीतिक होने की काल्पनिक कहानी (fiction) त्याग देनी चाहिए. भाजपा के लिए नागपुर (अर्थात् रा. स्व. संघ) वैसे ही है जैसे काँग्रेस के लिए 10 जनपथ (अर्थात् श्रीमती सोनिया गांधी का निवासस्थान) है. संघ को उपदेश देने का अधिकार सभी को है. इस कारण 'इंडियन एक्सप्रेस'ने ऐसा लिखने में अनुचित कुछ भी नहीं. लेकिन, इस उपदेश से, संघ के बारे में उनका अज्ञान और संभ्रम ही प्रकट होता है, यह वे भी विचारपूर्वक ध्यान में ले, इसलिए यह लेखप्रपंच.

'राष्ट्र' का अर्थ

यह सच है कि, संघ मतलब राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, यर्थाथ में समझ लेना कुछ कठिन है. कारण सार्वजनिक जीवन में जो अनेक संस्था कार्यरत है, उनके ढाँचे में संघ नहीं बैठता. लोगों के ध्यान में यह नहीं आता कि, संघ संपूर्ण समाज का संगठन है. समाजांतर्गत एक संगठित टोली नहीं. समाज व्यामिश्र (complex) होता है. मतलब उसने जीवन के अनेक क्षेत्र होते है. राजनीति या राजनीतिक क्षेत्र उनमें से एक क्षेत्र है. एकमात्र क्षेत्र नहीं. धर्म. शिक्षा, अर्थ, श्रम, उद्योग, कृषि, आरोग्य, विज्ञान, साहित्य, ऐसे अनेक क्षेत्र है. उसी प्रकार वनवासी, मजदूर, विद्यार्थी, शिक्षक, अधिवक्ता, डॉक्टर-वैद्य, आदि अपने समाज के विविध घटक है. संपूर्ण समाज के संगठन का अर्थ इन सब समाजक्षेत्रों और समाजघटकों का संगठन. इसका ही नाम राष्ट्रीय संगठन है. कारण राष्ट्र मतलब केवल राज्यव्यवस्था नहीं होता. राष्ट्र मतलब लोग है. People are the Nation यह सब को पता ही है.

सांस्कृतिक राष्ट्रवाद

किस जनसमूह का राष्ट्र बनता है, इसके बारे में कुछ निश्‍चित धारणाएँ है. मुख्य तीन धारणाएँ है. (1) जिस देश में हम रहते है, उस भूमि के विषय में हमारी भावना. (2) हमारा पूर्वजों के संबंधी ज्ञान और उनके साथ हमारा संबंध और उस जनसमूह का जो इतिहास होता है, वह उस समूह को अपना इतिहास लगना चाहिए. इतिहास में सब विजय और अभिमान के ही प्रसंग होते है, ऐसा नहीं. पराजय और लज्जा के भी प्रसंग होते है. वह सबको अपने यशापयश और अभिमान-लज्जा के प्रसंग लगने चाहिए (3) और सबसे महत्त्व की बात यह है कि, अच्छा-बुरा तय करने के समाज के मापदंड; मतलब उसकी मूल्यधारणा  (Value system). यह मूल्यधारणा मतलब संस्कृति होती है; और संघ इसे अपने राष्ट्रीयत्व का आधार मानता है. इस कारण हम कहते है कि, हमारा सांस्कृतिक राष्ट्रवाद है. ऊपर बताई तीन धारणाएँ धारण करनेवाले लोगों का सर्वपरिचित नाम 'हिंदू' होने के कारण यह हिंदूराष्ट्र है. हिंदू एक रिलिजन या मजहब नहीं. अनेक रिलिजन्स को अपने में समा लेनेवाला वह एक महासागर है. डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन् या अन्य किसी ने कहा है कि,  Hinduism is not a religion, it is a commonwealth of many religions. हम 'धर्म' शब्द का अनुवाद 'रिलिजन' करते है. इस कारण बहुत बड़ा वैचारिक संभ्रम निर्माण होता है. हमारे नित्य के व्यवहार में के कुछ शब्द लें, जैसे धर्मशाला, धर्मार्थ दवाखाना, धर्मकाटा, राजधर्म, पितृधर्म इत्यादी और इन सब शब्दों के 'धर्म' शब्द के लिए 'रिलिजन' या 'रिलिजस' विकल्प का प्रयोग करके देखे और जो मजा आएगी उसका आनंद लें.

अर्नेस्ट रेनाँ का प्रतिपादन

यहाँ मुझे अर्नेस्ट रेनाँ इस फ्रेंच लेखक का वचन उद्धृत करने का मोह होता है. वह वचन है.

"The soil provides the substratum, the field for struggle and labour, man provides the soul. Man is everything in the formation of this sacred thing that we call a people. Nothing that is material suffices here. A nation is a spiritual principle, the result of the intricate workings of history, a spiritual family and not a group determined by
the configuration of the earth."

रेनाँ आगे कहता है

"Two things which are really one go to make this soul or spiritual principle. One of these things lies in the past, the other in the present. The one is the possession in common of a rich heritage of memories and the other is actual agreement, the desire to live together and the will to make the most of the joint inheritance. Man cannot be improvised. The nation like the individual is the fruit of a long past spent in toil, sacrifice and devotion."
तात्पर्य यह कि संघ का रिश्ता संपूर्ण राष्ट्रकारण से है; और राजनीति भी राष्ट्रकारण का ही एक अंश होने के कारण राजनीति से भी उसका संबंध है. वह आज का नहीं. बहुत पुराना है. संघ जिन्होंने स्थापन किया उन डॉ. हेडगेवार जी ने संघस्थापना के बाद सन् 1930 में जंगल सत्याग्रह में भाग लेकर कारावास भोगा था; और आपात्काल समाप्त करने के लिए जो विशाल सत्याग्रह हुआ था, उस सत्याग्रह में संघ ने मतलब संघ के स्वयंसेवकों ने बढ़-चढ़कर भाग लिया था. ये दोनों राजनीतिक आंदोलन थे. लेकिन उनका संबंध राष्ट्रजीवन के साथ था.

विशिष्ट कार्यपद्धति

संघ की एक विशिष्ट कार्यपद्धति है. जिस क्षेत्र का संगठन होना चाहिए, ऐसा उसे लगता है, उस क्षेत्र के लिए वह कार्यकर्ता देता है. कुछ क्षेत्रों के बारे में अगुवाई अन्य की रही है और संघ ने उन्हें कुछ कार्यकर्ता दिये है. भारतीय जनसंघ डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी ने स्थापन किया. उसके लिए संघ ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय, अटलबिहारी बाजपेयी, नानाजी देशमुख, सुंदरसिंग भंडारी, कुशाभाऊ ठाकरे, डॉ. महावीर त्यागी आदि श्रेष्ठ कार्यकर्ता दिये. इनमें से डॉ. महावीर त्यागी के अलावा अन्य सब संघ के पूर्णकालीन कार्यकर्ता थे. डॉ. मुखर्जी के अकाल निधन के कारण, पार्टी चलाने और उसके विस्तार की जिम्मेदारी इन लोगों पर आ पड़ी और उन्होंने वह अच्छी तरह से निभाई. 1977 में जनसंघ का जनता पार्टी में विलय होने के बाद, जनसंघ एक प्रकार से समाप्त हो गया. लेकिन जनता पार्टी के कार्यकर्ता संघ के
स्वयंसेवक नहीं रह सकेगे, ऐसी लहर उस पार्टी में निर्माण होने के कारण, संघ के साथ संबंध बना रहे, ऐसा माननेवाले स्वयंसेवक उसमें से बाहर निकले और सन् 1980 में उन्होंने भारतीय जनता पार्टी की स्थापना की. जनता पार्टी से बाहर निकलकर भाजपा की स्थापना में आगे रहनेवाले संघ के स्वयंसेवक थे. संघ की कार्यपद्धति की यह विशेषता है की, संबंधित क्षेत्र के कार्यकर्ता ही वह क्षेत्र चलाए और वृद्धिंगत करे. इस दृष्टि से हर क्षेत्र स्वतंत्र और स्वायत्त है. मतलब उनका स्वतंत्र संविधान होता है. संस्था के लिए आवश्यक निधि जमा करने की उनकी अपनी पद्धति होती है. कोई भी क्षेत्र निधि के लिए संघ पर निर्भर नहीं होता. मुझे यह अहसास है कि अन्य क्षेत्रों की चर्चा यहाँ अप्रस्तुत होगी. तथापि, यह बताना ही चाहिए कि, वनवासी कल्याण आश्रम की स्थापना श्री बाळासाहब देशपांडे नाम के सरकारी अधिकारी ने की थी. उन्हें संघ ने आरंभ में दो कार्यकर्ता दिये थे. भारतीय मजदूर संघ की स्थापना दत्तोपंत ठेंगडी इस संघ के कार्यकर्ता ने की; तो विश्‍व हिंदू परिषद की स्थापना में तत्कालीन सरसंघचालक श्री मा. स. गोळवलकर उपाख्य श्रीगुरुजी की अगुआई थी. लेकिन वे विश्‍व हिंदू परिषद के अध्यक्ष नहीं बने. पद के आकर्षण से कार्य आरंभ करनेवालों को श्रीगुरुजी का यह वर्तन अनोखा और अनाकलनीय लगेगा, तो इसमें कोई आश्‍चर्य नहीं.

स्वतंत्र और स्वायत्त

संघ क्या करता है? वह शुरु में कार्यकर्ता देता है. वे कार्यकर्ता, संबंधित क्षेत्र में स्वायत्तत्ता से काम करते है. कभी कभार संघ के साथ परामर्श होता ही है. संघ की अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा में सब क्षेत्रों की प्रातिनिधिक उपस्थिति रहती है. लेकिन इसका अर्थ, संघ उनके पदाधिकारियों का चुनाव करता है, ऐसा करना अनुचित होगा. क्या सियासी पार्टी अपने पदाधिकारी कौन होगे यह निश्‍चित करती है?  इन पदाधिकारियों में संघ ने अधिकृत रूप से दिया हुआ कार्यकर्ता भी हो सकता है. लेकिन निर्णय संबंधित संगठन का होता है. किस मतदार संघ से लोकसभा का उम्मीदवार कौन हो, यह संघ नहीं बताता. किस प्रान्त का भाजपा का अध्यक्ष कौन होगा यह भी संघ नहीं तय करता. क्या 10 जनपथ ऐसा ही करता है, यह 'इंडियन एक्सप्रेस'के विद्वान संपादक बताए और फिर तुलना करें. किसी विशिष्ट संदर्भ में, संबंधित क्षेत्र के लोग संघ के अधिकारियों के साथ सलाह-मश्‍वरा करते है. लेकिन निर्णय उनका ही होता है. लेकिन संघ की इतनी अपेक्षा निश्‍चित ही होती है कि, संबंधित संगठन अपने संगठन से राष्ट्र को बड़ा माने. मतलब समाज और समाज की मूल्यव्यवस्था को श्रेष्ठ माने. सही कहे या गलत, लेकिन संघ यह बताता है कि, व्यक्ति श्रेष्ठ नहीं, संगठन श्रेष्ठ है, और संगठन से भी राष्ट्र श्रेष्ठ है. संघ में ऐसी ही पद्धति है. इसलिए संघ में 'डॉ. हेडगेवार की जय' या 'श्रीगुरुजी की जय' जैसे घोष-वाक्य नहीं है. संघ का एक ही घोष-वाक्य है और वह है 'भारत माता की जय'. इसका तात्पर्य समझना कठिन नहीं लगना चाहिए, ऐसा मुझे लगता है.

अडवाणी प्रकरण

अब अभी का ताजा प्रकरण, श्री लालकृष्ण अडवाणी के त्यागपत्र का. उस त्यागपत्र का सही कारण वे ही बता सकेगे. उन्होंने अपने  त्यागपत्र में पार्टी से कुछ अपेक्षाएँ व्यक्त की है. वे अपेक्षाएँ ठीक ही है. उनका त्यागपत्र अचानक आने के कारण सब को धक्का लगा. सरसंघचालक को भी लगा होगा. मेरी ऐसी जानकारी है कि, भाजपा के ही किसी वरिष्ठ नेता ने इसकी जानकारी सरसंघचालक जी को दी और वे अडवाणी जी से बात करे, ऐसा सूचित किया. प्रथम दूरध्वनि किसने किया? अडवाणी जी या भागवत जी ने? ऐसे प्रश्‍न उपस्थित करने में कोई मतलब नहीं. भाजपा में संकट निर्माण हुआ है, वह दूर हो, ऐसा ही भाजपा के सब हितचिंतकों को लगता होगा. अन्यथा, भाजपा के संसदीय मंडल ने अडवाणी जी का त्यागपत्र तुरंत मंजूर कर प्रश्‍न वही सदा के लिए समाप्त किया होता. लेकिन उन्होंने त्यागपत्र मंजूर नहीं किया. कारण उन्हें निश्‍चित ही ऐसा लगा होगा कि, अडवाणी जी जैसे वयोवृद्ध, अनुभवसमृद्ध, ज्येष्ठ नेता ने पार्टी में रहना चाहिए और उसी दृष्टि से किसी ने सरसंघचालक जी से अडवाणी जी के साथ बात करने की बिनति की होगी. इसमें अनुचित क्या है? अपने कार्यकर्ता चला रहे कार्य सही तरीके से चलते रहे, उसमे मतभेद होने पर भी मनभेद  न हो, क्या ऐसा लगना स्वाभाविक नहीं?

संघ का निर्धार

'इंडियन एक्सप्रेस'के संपादक ने उपदेश किया है कि, संघ खुलकर राजनीति में आये. लेकिन संघ वह उपदेश मान्य नहीं करेगा. कारण उसे राजनीति की अपेक्षा राष्ट्रकारण महत्त्व का लगता है; और राजनीति ने भी राष्ट्रकारण का श्रेष्ठत्व मान्य करना चाहिए, ऐसी संघ की अपेक्षा है. चुनाव की राजनीति में उतरने से कोई भी संघ को रोक नहीं सकता. लेकिन राजनीति जैसे समाजजीवन के एक क्षेत्र के साथ एकरूप नहीं होना, यह संघ की भूमिका है और निर्धार भी है. हमारे शास्त्र में आत्मतत्त्व या प्राणतत्त्व का संपूर्ण ऐहिक जीवन के साथ जो और जैसा संबंध होता है, वैसा संघ का इन सब क्षेत्रों के साथ है. इस कारण, वह उन सब क्षेत्रों से संबंद्ध भी है और संबंद्ध नहीं भी. ईशोपनिषद् आत्मतत्त्व के इस ऊपरी परस्परविरुद्ध वर्तन का इस प्रकार वर्णन करता है

तदेजति तनैजति। तद् दूरे तद्वन्तिके।

तदन्तरस्य सर्वस्य। तदु सर्वस्यास्य बाह्यत:।

इस मंत्र का सरल अर्थ है - ''वह हलचल करता है, और वह हलचल नहीं करता. वह दूर है और वह पास है. वह सबके भीतर है और वह सबके बाहर है.''

संघ, अपने नाम के 'राष्ट्रीय' इस आद्यपद के साथ सुसंगत, राष्ट्रजीवन के आत्मतत्त्व के अनुसार कहे अथवा प्राणतत्त्व के समान है.

- मा. गो. वैद्य
नागपुर, दि. 14-06-2013


Friday, June 14, 2013

Fwd: Petrol



Petrol Price Hike Again….



























































































 Mukesh Patel


P Please don't print this e-mail unless you really need to.

The information contained in this electronic message and in any attachments to this message is confidential, legally privileged and intended only for the person or entity to which this electronic message is addressed. If you are not the intended recipient, please notify the system manager and you are hereby notified that any distribution, copying, review, retransmission, dissemination or other use of this electronic transmission or the information contained in it is strictly prohibited. Please accordingly also note that any views or opinions presented in this email are solely those of the author and may not represent those of the Company or bind the Company. This message has been scanned for viruses and dangerous content by Mail Scanner, and is believed to be clean. The Company accepts no liability for any damage caused by any virus transmitted by this email. www.essar.com < http://www.essar.com/ > .

------------------------------------------  Surya Global Steel Tubes Ltd, Anjar, India