Tuesday, March 26, 2013


Sunday, March 24, 2013

Fwd: March 23 : Martyrdom Day of Bhagat Singh, Sukhdev and Rajguru

Inspiration for today's youths: Bhagat Singh, Sukhdev & Rajguru

From Left : Bhagat Singh, Sukhdev and Rajguru
From Left : Bhagat Singh, Sukhdev and Rajguru

O People ! Do not be so ungrateful to Revolutionaries so as to forget them !

23 March is the day that Bhagat Singh, Rajguru and Sukhdev attained Martyrdom. One example of the resoluteness of Sardar Bhagat Singh and his associates remains inspirational even today. In order to disgrace Sardar Bhagat Singh and his associates, the then British Government informed them,' If you feel that you should be spared from being hanged, then you must apply for mercy.' The spirited answer to that advice, as given by Sardar Bhagat Singh, was as follows-

"The Government says that we should apply for mercy. But why should we do so? Are we thieves or dacoits or goondas? We are political prisoners in this war for freedom. The blood of complete freedom is circulating in every blood vessel of ours. Whatever bold action we did was for the sake of freedom alone ! We may not be worshippers of non-violence; our path may not be devoid of atrocities but is it not true that we are freedom-fighters? If the government has even a fraction of justice left within it, it has to treat us as political prisoners. We will never beg for mercy.

We do not intend to face this death sentence by saying 'Do whatever you like but spare us from being hanged'. We dislike even climbing on the foot board meant for hanging. We are brave soldiers and true men ! Hence treat us like that by either shooting us with bullets or blast us with cannons. Who wants to face such a feeble sentence as hanging? We request you to respect this last wish of ours!"

Our politicians have seemingly dismissed memories of revolutionaries' sacrifice completely. Their martyrdom appears to have no value for those with a political agenda.

O People, though the politicians have forgotten these revolutionaries, you at least do not be ungrateful to Revolutionaries by forgetting them !

Learn more at : http://www.hindujagruti.org/news/4306.html

Saturday, March 23, 2013

Fwd: Islam will not change, Muslims will. - Taslima Nasreen


Islam will not change, Muslims will.


Some ex-Muslims believe Islam is resistant to change. They think there are a few reasons why the Islamic tradition is more resistant to change and the creation of a secular liberal breathing space for adherents than many other religious traditions appear to be.

The reasons are:

(1).... Islam has historically had an expansionist and political dimension.

It was formulated at a time of war and is completely embroiled in the Arab imperialistic ambitions of the time.

While there is war and brutality in the Old Testament, there is no call for global war – the conflicts are quite local. In effect Islam became a kind of meta-tribalism when it was formulated.

Also, orthodox Islam explicitly sees no distinction between the sacred and the secular: social spheres have to be patterned according to sacred dictates.

Contrast this with Christianity, in which Jesus reportedly tells his followers to render unto Caesar his due, and unto God his due.

(2)... Islam sees its core text, the Quran, as being, more or less, God incarnate.

What Jesus is to Christianity, the Quran is to Islam.

Jesus is the logos in Christianity, the Word-made-flesh, whereas in Islam, it is the Quran that is the logos, the Word-made-flesh.

This is problematic because it means that Muslims have a hard time accepting that parts of the Quran are highly situated in very specific temporal contexts. Add to this the idea that Islam believes it is the final religion and the Quran is therefore the final text for all time and all places, and you can see that the seeds of literalism are sown right into the orthodox, classical tradition itself.

By contrast the idea of an eternally infallible text is not found in Christianity (the Bible is considered inspired, but still the work of human minds) or in the Indian / Asian religions.

(3)... Islam has somehow gotten saddled with this arrogant claim of Muhammad being not only the final prophet, but also the best human being to have ever existed in human history.

This is in contrast to the prophets of Israel in the Old Testament, who are seen as being basically human beings dealing with the challenges of life and existence as best as they could.

My impression of Muhammad as a man is that he seems to have started off as a humble and honest merchant, but the second half of his life shows that some major transformation took place: he behaved no differently from an average Arab warlord of that era (not that I am judging it by modern-day ethical standards — just observing), and it looks like the military conquests, multiple wives and influx of concubines and slaves just went to his head.

Many people have pointed out the differences between the conciliatory Meccan and more aggressive Medinan suras of the Quran.

(4) Unlike Hinduism or Buddhism or other Eastern religions, it can be reduced to a single man and a single scripture.

The same is true for Christianity as well of course, and Judaism to a lesser extent. This kind of reductionism encourages a religion to be a more closed system and discourages diversity and pluralism.

(5) The traditional Sunni orthodoxy is anti-innovation to the core, and all new ideas are considered as the devil's handiwork and to be approached as cautiously as possible.

This has caused Islam to stagnate remarkably and has prevented its growth or evolution in any meaningful way. Here even Christianity and Judaism are different from Islam and have shown some fairly strong progressive and innovative movements through the ages (most recently, witness the rise of Emergent Christianity under which even evangelicals are taking a post-modern turn, and Process Theology inspired by Alfred North Whitehead, a contemporary of Bertrand Russell).

(6) Every orthodoxy needs a heterodoxy to keep it from stagnating too much, and every heterodoxy needs an orthodoxy to keep it from becoming reckless.

This is true not just for religion but also for science and for virtually every human endeavor.

Whether we are conservative or liberal, the future terrifies us even as it beckons us, and it is just natural to want to regress to the comforts of what is stable and known no matter how stale it has become.

But the Sunni Islamic tradition has exaggerated this fear of the unknown to such monumental proportions that it has squashed freedom of expression and thus every single heterodox movement. The only "heterodoxy" that has survived is the Shi'ites, and they only differ with the Sunnis on doctrinal issues that don't have much of a bearing as far as social realities go.

(7) Islam is, to my mind, the only religion in the world with developed orthodox doctrines on how to treat unbelievers and apostates, and convinced of its universalizing mission which can even be implemented by coercion.

In other words identity politics are built right into the orthodox Islamic tradition. This makes the radical politicization of Islam even more problematic and endangers all those who dare to question the received wisdom.

Christianity is also a universalizing, prosyletizing religion, but its imperialistic ambitions (a) were not really based on the teachings of Jesus of Nazareth who was nonviolent (see also the comment above about rendering unto Caesar his due and rendering unto God his); and (b) have largely been surrendered in today's context.

( 8 ) There is hardly a female voice to be found in Islam.

Christianity still has the figure of the Virgin Mary and even Mary Magdalene in the non-canonical Gospels, as well as numerous female Christian saints. Christ definitely had a feminine side and used to take female disciples, which was revolutionary for his era. Some of the Hindu scriptures are partially authored by women, and likewise for Buddhism. Both Hinduism and Buddhism have Tantric schools that elevate women to the status of goddesses and also certain very spiritual schools of thought according to which experience is supposed to trump intellectual dogmas which has allowed them to evolve.


Some of the reasons are good but nothing can prevent religion or religious people from changing, reforming and evolving. I am more interested in modern humans than ancient religions.


Muslim rulers have been using Islam for their own interests, they keep people in ignorance, women in slavery, and allow the persecution of the people of different faiths. They do not allow criticism of Islam.

You suppress critical thinking means you suppress the ability to think clearly and rationally, to engage in reflective and independent thinking. If criticism of Islam is allowed in the Muslim countries, I believe many Muslims will become agnostic or atheists, or become secular and will ask for secular state, secular laws and secular education.

It is not true that Islam can not be changed, Islamic laws have been slightly or considerably reformed in many different Islamic countries. But this is not enough. Revolution is always better than reformation. It doesn't matter how much you sugarcoat myths, myths will never be facts.

Ignorance about true Islam is one of the main reasons for most Muslims to resist changes in Islam. Changes happened in most of the Western countries because free thinkers were allowed to criticize churches, priests, and Christianity.

Educated and enlightened people in the Christian societies abolished religious rules, separated state and religion before other religious communities did.

We now see more non-religious people are in the Western Christian countries than in the Muslim countries. Muslim men and women whoever leave Islam or criticize Islam still get killed, harassed, tortured, exiled. But I do not think Muslims will take much time to be secular and liberal if Muslim rulers instead of talking action against the people who criticize Islam, take action against the religionists who violate other's human rights and the right to freedom of expression.

Christians were not less violent than Muslims. If Christians can change themselves, Muslims can. They are all humans.

There is no need to make ancient religions evolve to modern religions. Religion will always have conflicts with rationality and science. Religious scriptures and religious laws are not compatible with the modern concepts of human rights, women's rights and the laws that are based on equality. All religious scriptures are out of place, out of time. Religion alone is powerless. People have enormous power to make a religion survive for centuries, or to go extinct.

I am hopeful that someday Muslims will make Islam die out. Zeus, Poseidon, Hermes, Athena, Apollo, Neptune, Jupiter, Odin, Thor and thousands of gods died, Allah will die too.

Fwd: What Every Teacher Should Know


20 Fundamentals: What Every Teacher Should Know About Learning


What makes a teacher successful?

Having an expertise in reading, writing, math or science is necessary, but the ability to transfer that knowledge into another person is what makes an excellent instructor stand out. What good is it if a teacher has all the facts, but cannot communicate them in a way that others can comprehend?

Aside from comprehending the curriculum content, teachers should have a basic understanding of how people acquire and absorb knowledge. The following list highlights 20 principles of learning every teacher should know.

1. Students Learn Differently

It may seem obnoxiously obvious, but how many classrooms are currently designed with one learning style in mind?

Worksheets and flashcards work well for students who absorb knowledge visually, but for a child who needs to hear the information in order to grasp it, traditional methods of teaching force him or her to use a physical sense that is not as well-developed.

The visual learner doesn't have the same opportunity to stretch his or her other senses. If a teacher comes to the classroom with the basic knowledge that students learn differently, they will be better equipped to arrange the lessons in such a way that all senses are activated.

2. Reinforce

Take geography as an example. If a teacher is instructing a class of kids about the fifty states and capitals in the United States, it should be reinforced three different ways.

For the visual learner, use maps and worksheets. For the auditory learner, create a song that helps them remember what state and capital go together. For kinesthetic learners, activate the body. Perhaps a teacher could do hand motions with the song, or do a map game on the floor, where students have to hop from state to state as the capitals are called out.

3. Consider Kinesthetic Learners

Of all three types of learning, the kinesthetic learners are the hardest bunch to teach in a traditional setting. Oftentimes, they need to touch, taste, and move through knowledge in order to absorb it. This requires space and opportunity that many traditional classrooms do not allow for.

Kinesthetic learners need to be allowed to try something, watch it fail, and learn from the experience. While this can be difficult logistically with a large class, implementing kinesthetic strategies will not just help a few kids, but will stretch the other students who aren't naturally bent towards that type of learning.

4. There Are Seven Learning Styles


  1. Visual: Using sight
  2. Auditory: Using songs or rhythms
  3. Verbal: Speaking out loud the information
  4. Kinesthetic: Using touch and taste to explore the information
  5. Logical: A more mathematical approach to concepts
  6. Interpersonal: Learning in groups
  7. Intrapersonal: Learning alone

5. Make It Relevant

Bored students

Information is only stored permanently when it relates to day-to-day living. For example, math concepts must be reinforced in real life examples or the student will have no reason to absorb the information beyond the exam.

History is one of the more difficult subjects to bring into the present, since it mainly deals with past events, dates, and people. Finding strategies to bring it to life will help with learning.

As much as possible, history should be experienced through first-hand accounts, museums, field trips and other enrichment activities.

6. Failure Is a Fabulous Teacher

People learn from failure. In fact, ask any major successful person what helped them and usually it will involve a story that harkens back to a big "mess-up". Failure teaches even better than a perfect score on a test.

Classic grading systems don't help with this theory, as grades have become inflated, feared, and used as judge and jury about who learned what. Contrary to popular belief, learning from failure is anything but easy. It's not just about "reflecting" upon what you did.


7. Integrate The Curriculum

Rather than keeping each subject separate, curriculums that use thematic units work well to blend knowledge together in a way that is useful and memorable.

For example, a unit on Egyptian history could incorporate history lessons, a unit on linguistics and language (with the hieroglyphics), a science unit (physics and the building of the pyramids), a writing unit (a report on a child's favorite Egyptian monument), and reading a book about the ancient culture.

8. Define "Learning"

The word "learn" has various definitions. In the classroom, it can be the ability to spout back facts and information on a test. While this is one form of learning, there are other forms of learning that are just as important.

  • Memorization
  • Acquiring facts or procedures
  • Understanding reality
  • Making sense of the world

9. Care For Introverts

 introversion vs extraversion.

It's easy to assume that "group work" is always the best approach. That students who raise their hands are attentive. And that students who prefer to work alone are loners. All of which, are not necessarily true.

10. Create Space

Lecture hall

This is a psychological and logistical suggestion. Creativity is the birthplace of true learning, where a student can initiate thoughts, ideas, problems, and make connections between concepts.

Creativity requires the activation of the right side of the brain. Space allows the opportunity for creativity to ignite. Logistically, give students a place to stretch out, move away from a desk, or gaze at the sky outside. In the context of a lesson, allow for brainstorming sessions. Leave gaps in the order so students can create their own projects using the facts and theories in the lesson.

A teacher enables a student to learn when he or she becomes a quiet mentor on the sidelines, rather than the dictator of every move or step.


11. Brief And Organized "Bites"

When a person wants to memorize a phone number, they divide the digits into easy to remember patterns.

This is because the brain struggles to hold onto a long list of numbers, but can do so when they are organized meaningfully. The same principle applies to lectures. A 30-minute lecture that is not structured with categories, or organized into easy-to-recall bullets, will not be as effective.

Using another example, the media produces the news in sound bytes because they know they only have a small window of time in which to grab a person's attention; teachers would do well to study the marketing techniques of media in order to assemble information that is retainable.

12. Use Several Different Angles

For example, if a science teacher is lecturing on photosynthesis, the students will benefit from hitting the same concept at different angles.

First, the teacher explains the overarching concept. This provides framework and context. Second, he explores each part of the process in greater detail. Third, he explains the whole process again, this time encouraging students to ask questions. Fourth, he asks the students to explain it back to him.

Finally, he takes the process and inserts it into a relevant everyday situation that stretches the students to apply the information in a real life example. As he reinforces the concept with different angles, the brain is better able to organize the information. Trying to hit all of the points in one explanation will overwhelm most students.

13. Proper Method For The Material

In the quest for "deeper" learning, some professors might dismiss the concept of shallow learning; the simple recall of theories, facts, and rules. However there is some validity to rote memorization and the ability to regurgitate rules and facts, depending on the information.

For example, to learn the multiplication tables from 0-12, shallow learning is helpful (flash cards, timed quizzes, etc.). However, implementing this technique for a history lesson will not serve the subject matter.

A student may know all the dates of important world wars, but without understanding the social themes and lessons learned from these atrocities, have they really absorbed the importance of studying history?

14. Use Technology


Never before in human history has there been such unparalleled access to knowledge and information. With the tap of a tablet or smartphone, a student can get instant answers to questions that used to mean a trip to the library's dusty encyclopedia section.

This means that memorization is no longer as necessary as it once was 100 years ago. Oral traditions and the passing along of information verbally are nearly extinct. Rather than resist the advance of technology, teachers can take the opportunity to go deeper with students, since they do not have to waste time trying to drill facts that are a fingertip away.

Rather, explore themes, study deeper sociological issues, teach the art of invention and creativity, discover the philosophy of critical thinking, and encourage innovation.

15. Let Them Teach

One of the most effective methods for absorbing knowledge is to teach the knowledge back to another. Provide students with ample opportunity to give lectures, presentations, and develop lesson plans of their own.

Teachers can instruct students to create a lesson plan for a much younger child, even if the concept is difficult. This forces students to simplify the theory, find relatable stories and real life examples, and deconstruct the concepts into bite size pieces.

16. Create Hunger And Curiosity

When students are interested in a subject, their ability to learn greatly increases. They have more focus, tenacity, initiative, engagement, and investment in the material. Teachers can give students the freedom to choose their own topics, which enhances a class that may be stuck in a rut or lacking motivation.

Learning how to whet a student's appetite for information sets them up to go after the answer with a sense of hunger.

17. Brainstorming Not Always Effective


The age old saying, "Two heads are better than one," is very true. Brainstorming is thought to be the birthplace of profound ideas.

But new studies suggest that may not be true. Brainstorming introduces groupthink – a psychological phenomenon where the group forms its own beliefs – and when it doesn't,the most charismatic one take over 

In fact, Jeremy Dean of Psyblog wrote about the subject,

"… Why not just send people off individually to generate ideas if this is more efficient? The answer is because of its ability to build consensus by giving participants the feeling of involvement in the process. People who have participated in the creative stage are likely to be more motivated to carry out the group's decision."

In other words, groups are not where ideas are born. Groups are where ideas are evaluated.

18. Forming Habits

Psychologists agree that it takes approximately 30 days for a new habit to form. Parents who are teaching children a new routine (like brushing their own teeth) have to help their child for at least 30 consecutive days before the brain turns to "auto-pilot".

This is the point at which it becomes a regular habit.

In learning, the same concept applies. Teachers can explain to students the importance of daily study rather than cramming information the night before. The small, incremental, and daily rehearsing of information paves a path in the brain that remains permanently.

Study habits can become regular with guided encouragement to keep going while the brain catches up to the new norm.

19. Feedback: Not Just What, But When

In the same way that failure stretches a person, feedback is crucial to how students learn. When they can understand their strengths and weaknesses, accept and receive constructive criticism, and be redirected to the areas that need assistance, the overall process of learning is enhanced.

That much you probably already know.

But studies have shown that when you give feedback matters just as much as  what feedback you give. Imagine taking a pill now and being able to see its effect in 5 years vs in 24 hours.

20. Teach How To Learn

"Learning" is an abstract concept to many. By helping students understand the art of learning, the techniques of learning, as well as the different learning styles, they will be empowered by the process. It can be discouraging when a new topic or theory is evasive or difficult.

Students who understand how to learn will have more patience with themselves and others as they grasp new material.


Wednesday, March 20, 2013


Sent from my iPad

Begin forwarded message:

From: haresh shani <spkmshani@gmail.com>
Date: March 19, 2013 6:55:04 PM GMT+05:30
To: ajay_geance@yahoo.com, Atul Vekariya <atul.vek@gmail.com>, atulandrina@gmail.comatulvek@yahoo.com, bharat.kaila@sunpharma.com, dharmendra.maheta@yahoo.indurgeshbabaria@yahoo.com, gautamsojitra@yahoo.co.in, giftgrace_biz@yahoo.in,  Goutam Roy <goutamroy16@gmail.com>, haresh shani <spkmshani@gmail.com>,  hiren pandya <mevadapandyaji@gmail.com>, jagdish chavda <chavdajsc@yahoo.co.in>,  "dr.jayant bhadesia" <bhadesia@hotmail.com>, Jaydeep Ramavat <jkramavat@gmail.com>, kamdhenupariser@yahoo.inkaushal_united@yahoo.co.uk, kaushall@live.com, keval80_thaker@yahoo.co.in,  m faldu <meeralikhia@gmail.com>, mthakur_dj@yahoo.co.in, nadiadvibhag@gmail.comomoom@rediffmail.com, r_aj2@rediffmail.com, r_aj2@yahoo.co.in,  Raghubhai Surat <bvvenkataraghava@gmail.com>, raj12000k@gmail.com, raj2@yahoo.co.in,  ramesh kumar <rameshnai@live.com>, rumitpatel24th@yahoo.com,  sagar salunke <salunke.007@gmail.com>, sandip_ghoniya@yahoo.co.in,  Shani Divyesh <shanidivyesh@gmail.com>, shanidivyesh@yahoo.com, shobhna_ppukm@yahoo.com,  Sunil Manilal Borisa <sborisa@gmail.com>, swapnil10000@rediffmail.com,  Tryambak Bhatt <tjbhatt@gmail.com>, Tushar Mistry <himavedi@gmail.com>, twinkle.vala@gmail.comvaidiksanskar@yahoo.com, vidyadhar vaidya <vaidya.vidyadhar@gmail.com>,  vikram.patel93@gmail.com, zarana mehta <zaranu.91@gmail.com>

From: Madhav Vaidya [mailto:babujivaidya@gmail.com]
Sent: Thursday, March 14, 2013 9:09 PM
To: Suresh Joshi
Subject: Hindi Bhashya from M G vaidya

अस्मिता की खोज में बांगला देश

हमारे देश के पडोसी बांगला देश में, एक क्रांति हो रही है. 1971 में
बांगला देश स्वतंत्र हुआ, यह सर्वविदित है. उससे पूर्व वह पाकिस्तानका
भाग था. उसका नाम पूर्व पाकिस्तान था. लेकिन पश्‍चिम पाकिस्तान अपने इस
पूर्व भाग को, मतलब वहाँ की जनता को कभी समज ही नहीं पाया. दोनों भागों
में एक ही समानता थी. और वह थी कि, दोनों ही भाग मुस्लिमबहुल थे; और उसी
आधार पर ही 14 अगस्त 1947 को भारत का विभाजन होकर पाकिस्तान की निर्मिति
हुई थी.

इस्लाम और राष्ट्रभाव

लेकिन, उस समय, दोनों ओर के मुस्लिम समाज के नेता यह वास्तविकता भूले थे
कि, इस्लाम राष्ट्रत्व का आधार नहीं हो सकता. इतिहास में बहुत पीछे न
जाते भी, अब यह स्पष्ट हुआ है कि, इस्लाम कबूल करने वाले लोग एक-दूसरे के
साथ बंधु-भाव से छोड़ दे, स्नेह भाव से भी नहीं रह सकते. वैसा होता तो
इरान और इराक के बीच युद्ध ही नहीं होता. इराक कुवैत पर हमला ही नहीं
करता. अभी हाल ही में तालिबान, उनके हाथों से अफगानिस्तान की सत्ता
निकलते ही, सत्ताधारी मुसलमानों पर आत्मघाती हमले कर उन्हें जान से नहीं
मारता. अभी-अभी मतलब गत फरवरी माह में सुन्नी-पंथी बलुची लोगों ने, अपने
देश में के शिया-पंथी मुसलमानों की हत्या नहीं की होती. वह भी अन्य
निधार्मिक स्थान पर नहीं, तो पवित्र मस्जिद के आहाते में. अर्थात शियाओं
की मस्जिद के आहाते में. यह हमला इतना भीषण था कि, उसमें करीब एक सौ शिया
मुसलमान मारे गए; और अभी हाल ही की उसके बाद की ताजी घटना बताए तो
पाकिस्तान के कराची शहर में, 3 मार्च को, शिया-पंथीयों की बस्ती में बम
विस्फोट कराकर कम से कम 50 शिया मुसलमानों को मारा गया. इन सब घटनाओं से
एक ही निष्कर्ष निकलता है कि, इस्लाम, पराक्रम की, जिहाद की, बलिदान की,
या आत्यंतिक धर्म-निष्ठा की प्रेरणा दे भी सकता होगा, लेकिन वह बंधुता की
प्रेरणा नहीं दे सकता. और राष्ट्रभाव का आधार तो परस्पर बंधुभाव होता है,
धर्म-संप्रदाय नहीं होता. 70 हजार लोग जिसमें मारे गए, वह सीरिया में का
गृहयुद्ध इसी बात का प्रमाण प्रस्तुत करता है.

भाषा का महत्त्व

पूर्व पाकिस्तान की मतलब आज के बांगला देश की कुल जनसंख्या पश्‍चिम
पाकिस्तान में के चारों प्रान्तों की कुल जनसंख्या से अधिक थी. लेकिन
संपूर्ण पाकिस्तान के संसदीय चुनाव में पूर्व पाकिस्तान के नेता शेख
मुजीबुर रहमान को बहुमत प्राप्त होने के बाद भी, उन्हें प्रधानमंत्री
नहीं बनने दिया था. इस्लामी देशों में की सियासी पद्धति के अनुसार उन्हें
जेल भेजकर उनका मुँह बंद किया गया. विरोध का और भी एक मुद्दा था. और वह
था पूर्व पाकिस्तान की जनता पर उर्दू भाषा थोपने का. पूर्व पाकिस्तान के
जनता की भाषा बंागला है. उन्हें उर्दू की सक्ती पसंद नहीं आई. उर्दू
मुसलमानों की धर्म-भाषा नहीं है. कुरान शरीफ अरबी भाषा में है; उर्दू में
नहीं. सौदी अरेबिया, इराक, इरान, अफगानिस्तान इन देशों की भाषा उर्दू
नहीं है. भारत में मुगलों का आक्रमण और उसके बाद उनका शासन आने के बाद
उर्दू का जन्म हुआ. वह मुख्यत: सैनिकों के छावनी की भाषा है. वह, दिल्ली
और उसके समीपवर्ती प्रदेशों में की उस समय की हिंदी और अरबी के मिश्रण से
बनी भाषा है. वह उत्तर भारत में ही चली-बढ़ी और वहीं चल रही है. हमारे
भारत के तामिलनाडु, कर्नाटक और केरल, इन राज्यों में रहने वाले मुसलमान
क्रमश: तमिल, कानडी और मलियालम भाषा का उपयोग करते है. केरल में मुस्लिम
लीग का दबदबा है. भारत के विभाजन के लिए जिम्मेदार इस पार्टी का
अस्तित्व, भारत के अन्य भागों से करीब खत्म हो चुका है, लेकिन केरल में
वह पार्टी आज भी कायम है. फिलहाल उस पार्टी का एक गुट, काँग्रेस के
नेतृत्व की सरकार में शामिल है. इस मुस्लिम लीग के अधिकृत समाचारपत्र का
नाम है 'चंद्रिका'! मजहब एक रहते हुए भी भाषाएँ भिन्न हो सकती है, यह
सादा सहअस्तित्व का तत्त्व पश्‍चिम पाकिस्तान के उर्दू भाषिक मुसलमानों
को नहीं समझा और उन्होंने फौजी ताकत का उपयोग कर पूर्व पाकिस्तान में के,
बांगला भाषी लोगों का दमन करने की रणनीति अपनाई.

घृणास्पद अत्याचार

इस रणनीति के विरोध में पूर्व पाकिस्तान की बांगला भाषी जनता ने विद्रोह
किया. मुक्ति वाहिनी की स्थापना हुई. सशस्त्र क्रांति आरंभ हुई.
पाकिस्तान की फौज ने, इस क्षेत्र के कट्टर मुसलमानों की सहायता से उस
क्रांति को कुचलने के लिए, अन्यत्र के मुस्लिम आक्रमक जिस अघोरी, मानवता
के लिए लज्जाजनक वर्तन का अंगीकार करते है, वही प्रकार अपने बांगला भाषी
बंधुओं के बारे में किया. उन्होंने खून किए, सामूहिक हत्याएँ की और
स्त्रियों पर बलात्कार के घृणास्पद अत्याचार भी किए. हम ही हमारे मजहब की
स्त्रियों पर बलात्कार कर रहे है, इसका भी भान उन नराधमों को नहीं रहा.

स्वतंत्रता प्राप्ती के बाद

भारत की सक्रिय सहायता से, पूर्व पाकिस्तान ने, पश्‍चिम पाकिस्तान के
अत्याचारी बंधन से स्वयं को मुक्त कर लिया. जेल में ठूँसे गए शेख मुजीबुर
रहमान को रिहा किया गया. वे नए स्वतंत्र बांगला देश के सर्वाधिकारी बने.
उन्होंने पंथ निरपेक्ष (सेक्युलर) राज्य की घोषणा की. कट्टरपंथी जमाते
इस्लामी, मुस्लिम लीग, निझाम-ए-इस्लामी और वैसी ही अन्य संस्थाओं पर
पाबंदी लगाई. यह घटनाक्रम 1972 का है. लेकिन वे कट्टरपंथी दबे नहीं. 1975
में शेख मुजीबुर रहमान की हत्या की गई और फौज ने सत्ता अपने हाथों में
ली. उसके बाद सत्ता में आए फौजी शासकों ने इन संस्थाओं के विरुद्ध की
बंदी हटाई. फिर आगे चलकर जनतंत्र की हवाएँ बहने लगी. शेख मुजीबुर रहमान
की पार्टी का नाम था, 'अवामी लीग.' फिलहाल बांगला देश में आज इस अवामी
लीग की ही सत्ता है; और शेख मुजीबुर रहमान की कन्या शेख हसीना
प्रधानमंत्री है. इसके पहले भी वे प्रधानमंत्री रह चुकी है. लेकिन बीच के
कुछ समय में 'बांगला देश नॅशनॅलिस्ट पार्टी' भी सत्ता में थी. 'बांगला
देश नॅशनॅलिस्ट पार्टी'की प्रमुख खालिदा झिया भी महिला ही है. उनकी
पार्टी कट्टरवादियों के साथ है.

21 फरवरी

अवामी लीग के राज्य में, जिन्होंने 1971 के स्वाधीनता संग्राम के समय,
खून, महिलाओं पर बलात्कार, जैसे जघन्य अपराध किए थे, उनके विरुद्ध
मुकद्दमें भरने के लिए 'बांगला देश आंतरराष्ट्रीय अपराध न्यायालय'
(बांगला देश इंटरनॅशनल क्राईम ट्रिब्युनल) स्थापित किया गया. इस न्यायालय
ने, अत्यंत अधम अपराधों के आरोप लगे, जमाते इस्लामी का असिस्टंट
सेक्रेटरी जनरल -अब्दुल कादर मुल्ला- को फाँसी की सज़ा सुनाने के बदले
आजीवन मतलब 15 वर्षों के कारावास की सज़ा सुनाई. वह दिन था 4 फरवरी 2013.
और दूसरे ही दिन से इस सज़ा के विरोध में बांगला देश में के
विद्यार्थींयों और अन्य युवकों ने प्रचंड विरोध आरंभ किया. इस विरोध का
आकार और तीव्रता इतनी बढ़ी कि, 21 फरवरी को, बांगला देश की राजधानी ढाका
के शाहबाग चौक में पचास लाख युवक एकत्र हुए; वे एक ही नारा लगा रहे थे,
'कादर मोल्लार फाशी चाई' (कादर मुल्ला को फाँसी दो). 21 फरवरी इस दिन का
एक भावोत्कट महत्त्व है. इसी दिन, इसी शाहबाग में, ठीक साठ वर्ष पहले,
बांगला भाषा को, राज्यभाषा का दर्जा देने की मांग के लिए, एकत्र हुए
विद्यार्थींयों पर उस समय की पूर्व पाकिस्तान की सरकार ने गोलियाँ चलाकर
अनेक विद्यार्थींयों को मार डाला था. उस 'एकुशिये फेब्रुवारी'की वेदना आज
भी बांगला देशी विद्यार्थींयों के मन में कायम है. 21 फरवरी 2013 को वही
प्रकट हुई.

जमाते इस्लामी का हिंसाचार

विद्यार्थींयों की यह 21 फरवरी की शाहबाग चौक में की विशाल रॅली, मिस्त्र
की राजधानी कैरो के तहरिर चौक में की रॅली की याद दिलाती है. तहरिर चौक
में की इस विशाल रॅली ने मिस्त्र के तत्कालीन तानाशाह होस्नी मुबारक को
पदच्युत किया था. उसके बाद अरब जगत में नया वसंतागम होने का चित्र
निर्माण किया गया था. यह बात अलग है कि, इस वसंतागम के परिणामस्वरूप वहाँ
वसंत की सुखद हवाएँ नहीं चली. परिवर्तन हुआ. लेकिन फिर शिशिर की
कट्टरपंथी हवाएँ ही वहाँ प्रभावी सिद्ध हुई. शाहबाग चौक में की
क्रांतिकारी प्रचंडता अपना प्रभाव दिखा गई. 5 फरवरी को कादर मुल्ला सौम्य
सज़ा से छूट गया, लेकिन 28 फरवरी को इसी जमाते इस्लामी का उपाध्यक्ष दिलवर
हुसेन सईद को, उसी न्यायालय ने फाँसी की सज़ा सुनाई. उसके बाद जमाते
इस्लामी की ओर से इस सज़ा के विरोध में हिंसक आंदोलन शुरु हुआ. इस हिंसाचर
में अब तक करीब सौ लोगों ने जान गवाँई है.

यह हिंसाचार और भी भडक सकता है. कारण, जमाते इस्लामी की ताकत नगण्य नहीं.
खलिदा झिया के राज्य में वह पार्टी भी सत्ता में भागीदार थी; और आज की
सबसे बड़ी विरोधी पार्टी खलिदा झिया की 'बांगला देश नॅशनॅलिस्ट पार्टी',
जमाते इस्लामी के समर्थन में मैदान में उतरी है. खलिदा झिया ने, अपनी
नाराजगी छुपाकर नहीं रखी है. भारत के राष्ट्रपति महामहिम प्रणव मुखर्जी,
बांगला देश कोअधिकृत भेट देने गए तब, खलिदा झिया ने, उनके साथ तय अपनी
भेट रद्द की. लेकिन, बांगला देश में के विद्यार्थी भी खामोश नहीं रहेंगे.
न्यायालय ने अब्दुल कादर मुल्ला को आजीवन कारावास की सज़ा दी है, लेकिन
उसी अपराध के लिए, उसी के साथ के और एक अपराधी को फाँसी की सज़ा भी सुनाई
थी. उसका नाम है अब्दुल कलाम आझाद उर्फ बच्चू. वह भागकर पाकिस्तान गया
है. इस कारण उस सज़ा पर अमल नहीं हो पाएगा. लेकिन दिलावर हुसेन सईद की सज़ा
पर अमल हो सकता है. यह सईद कोई सामान्य आदमी नहीं. जमात की तिकट तर वह
चुना गया और 1996 से 2008 तक बाराह वर्ष बांगला देश पार्लमेंट का सदस्य
था. उसके विरुद्ध 50 लोगों की हत्या, लूटमार, महिलाओं पर बलात्कार जैसे
अपराध के आरोप है. उसे न्यायालय ने फाँसी की सज़ा सुनाने पर नई पीढी के
युवकों में आनंद है, लेकिन जिस दिन यह सज़ा अमल में आएगी, उस दिन बांगला
देश में बहुत बड़ा हो-हल्ला मचे बिना नहीं रहेगा. केवल फाँसी की सज़ा
सुनाते ही इतना हिंसाचार फँूटता है, तो वह सज़ा अमल में आने पर कितना
तीव्र हिंसाचार होगा, इसकी कल्पना करना कठिन नहीं.


इसलिए कहा जा सकता है कि, बांगला देश को अपनी अस्मिता खोजनी है. आंदोलन
करने वाले छात्र, बांगला देश के स्वतंत्रता युद्ध के बाद जन्मे है.
उन्होंने अपने आंदोलन का नाम ही 'मुक्ति-जोद्धा प्रजन्म कमेटी' मतलब
'मुक्ति-योद्धा नई पिढ़ी' रखा है. बांगला देश की विद्यमान सरकार सेक्युलर
राज्य व्यवस्था के लिए अनुकूल है. लेकिन आज के संविधान ने बांगला देश का
अधिकृत धर्म इस्लाम है, यह भी घोषित कर रखा है. क्या बांगला देश की सरकार
में यह हिंमत होगी, कि वह संविधान में संशोधन कर हमारा राज्य सेक्युलर
रहेगा, ऐसा घोषित करेगी? तुरंत तो यह बदल संभव नहीं लगता. कुछ माह बाद
मतलब 2013 में बांगला देश की संसद का चुनाव है. प्रमुख विरोधी पार्टी
'बांगला देश नॅशनॅलिस्ट पार्टी' और जमाते इस्लामी का गठबंधन है. क्या इस
गठबंधन को हराकर, शेख हसीना की अवामी लीग फिर सत्ता में आएगी, यह प्रश्‍न
है. आंदोलक विद्यार्थींयों की शक्ति पूर्णत: अवामी लीग के पीछे खड़ी
रहेगी, ऐसा मान भी ले, तो भी चुनाव का फैसला क्या रहेगा, यह आज कहा नहीं
जा सकता. इसलिए कहना है कि बांगला देश, अपनी अस्मिता की खोज में है.
तहरिर चौक के आंदोलन के बाद भी मिस्त्र में हुए चुनाव ने कट्टरपंथी
मुस्लिम ब्रदरहूड को ही सत्ता दिलाई थी. बांगला देश में भी वैसे ही तो
नहीं होगा! सही समय पर ही इस प्रश्‍न का उत्तर मिल सकेगा. हाँ, यह सही है
कि बांगला देश में कट्टरपंथी इस्लामिस्ट राज्य के बदले, पंथनिरपेक्ष या
सर्वपंथादर रखने वाला, राज्य बनाने के लिए बड़ी युवा शक्ति, उस देश में
खड़ी है. बांगला देश और भारत की भी दृष्टि से यह शुभसंकेत है.

- मा. गो. वैद्य


Tuesday, March 19, 2013

Fwd: FW: Hindi Bhashya from M G Vaidya

आतंकवाद से मुकाबला और राज्यों के अहंकार


हमारे देश में आतंकवाद की भीषण समस्या है, आतंकवाद हमारे देश पर का एक महान संकट है, इस बारे में हमारे देश में दो मत होगे ऐसा नहीं लगता. अपवाद करना ही होगा, तो वह, आतंकवादी कारवाईंयॉं करने वाले दो प्रकार के समूहों का करना होगा. एक समूह जिहादी आतंकवादियों को है, तो दूसरा माओवादी आतंकवादियों का है. हर समूह में अनेक गुट है, उनके नाम भी भिन्न-भिन्न है. पहले जिहादी आतंकवादियों में लष्कर-ए-तोयबा, इंडियन मुजाहिद्दीन, सीमी आदि नाम धारण करने वाले गुट है, तो दूसरे में माओवादी, नक्सली, पीपल्स वॉर ग्रुप आदि नाम के गुट है. इन दोनों गुटों का परस्पर सहकार्य नहीं है, लेकिन दोनों के उद्देश्य समान है. वह है हिंसा का आधार लेकर भारत को कमजोर बनाना और अपनी सत्ता स्थापन करना. पहले को इस्लामी राज चाहिए, तो दूसरे को मार्क्सवादी.


संपूर्ण भारत ही आघातलक्ष्य

इन आतंकवादी गुटों की हिंसक कारवाईंयॉं किसी एक राज्य तक मर्यादित नहीं. राजधानी दिल्ली, पुणे, मुंबई, बंगलोर, हैद्राबाद इन स्थानों पर आतंकवादियों ने किए बम विस्फोट अब सर्वपरिचित है. उन्होंने सैकड़ों निरपराध लोगों की हत्या की है. इन सब आघातों का लक्ष्य और भक्ष्य केवल वे शहर नहीं थे, संपूर्ण भारत को बरबाद करना, यह उनका उद्दिष्ट था. वामपंथी विचारधारा के आतंकवादी वनवासी क्षेत्र में सक्रिय है. बिहार, झारखंड, ओडिशा, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र और आंध्र इन राज्यों में उनकी कारवाईंयॉं शुरु रहती है. पहले गुट का आघातलक्ष्य मुख्यत: नागरी लोग और संस्था है, तो दूसरे गुट का आघातलक्ष्य पुलीस और अर्धसैनिक दल है.


इन आतंकवादियों की हिंसक कारवाईयॉं अलग-अलग राज्यों में होती रहती है, फिर भी वह समस्या उन-उन राज्यों की समस्या नहीं है; और इस कारण इन हिंसक चुनौतियों का सामना कर, उन्हें समाप्त करना यह केन्द्र सरकार की जिम्मेदारी है. इस दृष्टि से केन्द्र सरकार ने कुछ कदम उठाए भी है. लेकिन हमारा, मतलब हमारे देश का दुर्भाग्य यह कि, केन्द्र सरकार के उस संदर्भ के उपक्रमों को और नीतिनिर्धारण को राज्यों का मन से समर्थन नहीं मिलता. देश की सुरक्षा की अपेक्षा उन्हें अपने राज्य के स्वायत्तता की अधिक चिंता है. वे यह भूल ही जाते है कि, आखिर देश है, इसलिए तो उनका अस्तित्व है, उनका घटकत्व है. संपूर्ण देश को स्वातंत्र्य मिला इसलिए तो वे भी स्वातंत्र्य भोग रहे है.


नक्षली हिंसाचार के संबंध में कहे तो वह समस्या अनेकसंलग्न राज्यों में है. एक राज्य में हिंसाचार कर नक्षली अन्य राज्यों में भाग जाते है. इसलिए सब राज्यों को अपने कक्षा में लेने वाली, उनके बंदोबस्त की व्यवस्था आवश्यक है. यह आवश्यकता केन्द्र सरकार ही पूर्ण कर सकती है.


संपूर्ण देश की समस्या

इस संदर्भ में केन्द्र सरकार ने कुछ कदम उठाए भी है. एक नॅशनल इन्व्हेस्टिगेशन एजन्सी की (एनआयए) मतलब राष्ट्रीय अपराध-अन्वेषण यंत्रणा की निर्मिति की है. राष्ट्रीय सुरक्षा के संदर्भ में इस यंत्रणा को कुछ विशेष अधिकार है. राज्यों का भी पुलीस दल होता है. कानून और व्यवस्था बनाए रखने की जिम्मेदारी उनकी है. वह किसी ने छीनी नहीं. लेकिन राष्ट्रीय सुरक्षा का प्रश्‍न आने पर राज्य के पुलीस विभाग के अधिकार को परे रखने का अधिकार एनआयए को है. इसमें गलत क्या है? क्या राज्य का पुलीस विभाग इतना सक्षम है कि, स्वयं अपने बुते पर आतंकी हमलों का बंदोबस्त कर सकता है? मुंबई पर हुए हमले महाराष्ट्र की पुलीस क्यों रोक नहीं पाई? उस विभाग से संलग्न खुफिया विभाग क्यों कमजोर साबित हुआ? अभी हाल ही में हैदराबाद में बम विस्फोट हुए. अनेक निरपराधी मारे गए. आतंकवादियों ने बताया कि, अफजल गुरु को, जिसने हमारे संसद भवन पर हमला किया, फॉंसी पर लटकाया गया और अजमल कसाब जिसे मुंबई के बम विस्फोट में शामिल होने के कारण फॉंसी पर लटकाया गया, उसका बदला लेने के लिए हमने यह हमले किए थे. क्या आंध्र प्रदेश की सरकार यह हमले रोक पाई? सब जिहादी संगठनों की जड़ें पाकिस्थान में है. वहॉं से इन संगठनों को प्रेरणा और शक्ति मिलती है. क्या उस पाकिस्तान का मुकाबला कोई एक राज्य अपने बुते पर कर पाएगा? वस्तुत: यह किसी भी एक राज्य की जिम्मेदारी नहीं. वह जिम्मेदारी केन्द्र सरकार की है. स्वयं प्रधानमंत्री ने ही यह जिहादी 'टेरर मशीन' पाकिस्तान में है और पाकिस्तान उसे नियंत्रण में रखें, ऐसा वक्तव्य किया है. हाल ही में पाकिस्तान की संसद ने प्रस्ताव पारित कर अफजल गुरु को फॉंसी पर लटकाने के लिए भारत की निंदा की है. एक प्रकार से पाकिस्तान ने स्वयं ही यह स्पष्ट किया है कि, भारत में की जिहादी आतंकवादी कारवाईयों को उसका समर्थन है.


हमारा राज्य 'फेडरल' नहीं

इस आतंकवाद को नियंत्रण में लाने के लिए केन्द्र सरकार ने राष्ट्रीय स्तर पर एक आतंकवाद विरोधी केन्द्र (नॅशनल काऊंटर टेररिझम् सेंटर -एनसीटीसी) स्थापन करना तय किया है. इस केन्द्र को, मतलब  'एनसीटीसी' को अपराध की खोज करने, अपराधियों की जॉंच करने, उन्हें गिरफ्तार करने, उनपर मुकद्दमें दायर करने के अधिकार देना संकल्पित है. इसमें क्या गलत है? अभी तक आतंकवाद विरोधी केन्द्र सक्रिय नहीं हुआ है. उसके सक्रिय होने की आवश्यकता है. लेकिन उसे अमल में लाने में राज्यों के अहंकार आडे आते है. कहा जाता है कि उनका आक्षेप है कि, इस केन्द्र के कारण राज्यों के अधिकार बाधित होंगे. उनका कहना है कि, हमारा संविधान फेडरल स्टेट (संघीय राज्य व्यवस्था) की गारंटी देता है. मतलब राज्य स्वायत्त है. उनके इस संविधान प्रदत्त स्वायत्तता पर इस एनसीटी के कारण आक्रमण होता है. मेरा प्रश्‍न है कि, हमारे संविधान में 'फेडरल' शब्द कहा है? अमेरिका के संयुक्त संस्थान के समान हमारे देश की राज्य रचना नहीं है. वहॉं एक-एक राज्य, अलग-अलग पद्धति से अस्तित्व में आए और बाद में उन्होंने एक होकर संघ बनाया. पहले वे स्वतंत्र थे और बाद में वे 'संयुक्त' मतलब 'युनाईटेड' हुए. हमारे देश के न नामाभिधान में, न रचना में, ऐसा युनाईटेड (संयुक्त) शब्द है. हमारे संविधान का शब्द 'युनियन' है. हमारे संविधान की पहली धारा बताती है कि, India that is bharat is a union of States. 'युनाईटेड' शब्द में बाद में आने वाली संयुक्तता है, तो 'युनियन' शब्द में अंगभूत एकत्व का भाव है.


एक देश, एक जन

व्यक्तिश: मेरा, 'युनियन ऑफ स्टेट्स' इस शब्दावली को ही विरोध है. इस शब्दावली में राज्य आधारभूत एकक (unit) कल्पित है. यह मूलत: गलत है. इस गलत शब्द के कारण ही स्वायत्तता के ख्वाब संजोने के लिए प्रोत्साहन मिलता है. अमेरिका के संयुक्त संस्थान की तरह यह देश किसी प्रस्ताव या समझौते से नहीं बना है. वह मूलत: एक है. आज नहीं. २६ जनवरी १९५० से नहीं. अंग्रेजों का राज्य आने के बाद नहीं. या उनके पहले जो मुगल आए, तब से नहीं. बहुत प्राचीन समय से है. 'समुद्रपर्यन्ताया एकराट्' यह वेदों का वचन है. 'एकराट्' का अर्थ 'एक राष्ट्र' करे या 'एक राज्य' करे, वह वचन संपूर्ण देश के एकत्व का बोधक है. विष्णुपुराण में उसका विस्तार बताया है.


उत्तरं यत् समुद्रस्य, हिमाद्रेश्चैव दक्षिणम्|

वर्ष तद् भारतं नाम भारती यत्र संतति: ॥


ऐसा वह वचन है. उसका अर्थ स्पष्ट है. समुद्र के उत्तर में और हिमालय के दक्षिण में जो प्रदेश है, उसका नाम भारत है और वहॉं के लोग भारती (भारतीय) है. रघुवंश में राजाओं का वर्णन करते हुए महाकवि कालिदास ने 'आसमुद्रक्षितीशानाम्' विशेषण का प्रयोग किया है. उसका अर्थ 'समुद्र तक फैली भूमि के राजा' है. श्रीरामचंद्र के मन में भी यही भाव था. उसने जब वाली को मारा, तब वाली ने उससे प्रश्‍न किया कि, ''तूने मुझे क्यों मारा? मैंने तेरा क्या अपराध किया था?'' उस पर श्रीरामचंद्र का उत्तर प्रसिद्ध है. श्रीरामचंद्र कहते है,


''ईक्ष्वाकूणामियं भूमि: सशैलवनकानना |

मृगपक्षिमनुष्याणां निग्रहानुग्रहेष्वपि ॥


अर्थ है, यह पर्वत, वन, कानन सहित संपूर्ण भूमि इक्ष्वाकू की है; और अधर्माचरण करने वालों को दंड आणि धर्माचरण करने वालों पर अनुग्रह करने का हमें अधिकार है.


देश के एकत्व का भान

तात्पर्य यह कि, यह एक देश है. यहॉं के लोग एक है. यह एक राष्ट्र है. इस एक राष्ट्र में पहले अनेक राज्यसम्मिलित थे, यह सच है. पहले अनेक गणराज्य थे. लेकिन साम्राज्य भी थे. शत्रुओं के आक्रमण के बाद, उसे पुन: स्वतंत्र करने के प्रयास जिन्होंने किए, वे किसी भी प्रदेश के हो, उन्होंने संपूर्ण देश को स्वतंत्र करने का ही स्वप्न देखा. अन्यथा छत्रपति शिवाजी महाराज को अपनी जान जोखीम में डालकर दिल्ली जाने का क्या कारण था? या नादीरशाह दिल्ली में तबाही मचा रहा था, तब पहले बाजीराव ने, दिल्ली की रक्षा के लिए उत्तर की ओर कूच करने का क्या कारण था? नादीरशाह ने पुणे पर तो आक्रमण नहीं किया था! और अभी हाल ही में जिन क्रांतिकारकों ने अपने प्राण संकट में डालकर अंग्रेजों को खदेड़ने का प्रयास किया, वह किस प्रान्त को स्वतंत्र करने के लिए? उनका प्रयास तो संपूर्ण देश को ही स्वतंत्र करने का था. सुभाषचंद्र बोस ने आझाद हिंद सेना क्यों बनाई थी? केवल बंगाल स्वतंत्र करने के लिए? उनका नारा 'जय हिंद' था. 'जय संपूर्ण हिंदुस्थान' ऐसा उसका अर्थ है. कारण उनके सामने संपूर्ण हिंदुस्थान की स्वतंत्रता का ध्येय था. सन् १९४२ में क्रिप्श मिशन भारत में, स्वतंत्रता के संबंध में चर्चा करने हेतु आया था. उसने हर प्रान्त को स्वतंत्रता देने की योजना लाई थी. कॉंग्रेस ने उसे नकारा.


संविधान में संशोधन

मेरे मतानुसार संविधान के पहली धारा की भाषा, संविधान में संशोधन कर, बदलनी चाहिए. वह धारा इस प्रकार चाहिए -  that is Bharat is one country, with one people and one culture i.e. one value system and therefore one nation, और यह करना असंभव नहीं. श्रीमती इंदिरा गांधी ने तो संविधान की प्रत्यक्ष आस्थापना में ही (प्रि-ऍम्बल) संशोधन किया था. जो शाश्‍वत और चिरस्थायी रहना चाहिए था, उसमें भी बदल किया था; और वह बदल आज कालबाह्य होने के बाद भी हम चला ले रहे है, फिर संविधान की पहली धारा की शब्दावली बदलने में क्या हर्ज है? अमेरिका के संयुक्त संस्थान (युएसए) के संविधान का अनुकरण करने के मोह में हमने यह शब्द स्वीकार किए होगे, ऐसा मुझे लगता है. हमारे देश का अतिप्राचीन इतिहास और वैचारिकता का विचार अग्रक्रम पर होता, तो यह अकारण भ्रम निर्माण करने वाली शब्दावली हम स्वीकारते ही नहीं. अमेरिका के इतिहास में भी, उस संयुक्त संस्थान की संयुक्तता कायम रखने के लिए अब्राहम लिंकन ने गृहयुद्ध मान्य किया, लेकिन दक्षिणी ओर के राज्यों को अलग नहीं होने दिया था, या घटना ध्यान में लेनी चाहिए.


तथापि, जो है, वह मान्य करने पर भी यह स्पष्ट करना चाहिए कि, विभिन्न राज्य कारोबार की सुविधा के लिए है. अंग्रेज, जैसे-जैसे प्रदेश जितते गए, वैसे-वैसे राज्य बनाते गए. अंग्रेजों के जमाने में मुंबई विभाग में, मराठवाडा और विदर्भ को छोड़कर संपूर्ण महाराष्ट्र, सौराष्ट्र को छोड़कर संपूर्ण गुजरात, आज पाकिस्तान में अंतर्भूत सिंध प्रान्त और कर्नाटक के कुछ जिले इतना विशाल प्रदेश समाविष्ट था. इसी प्रकार बंगला में बिहार का भी अंतर्भाव था. स्वातंत्र्योत्तर समय में, उग्र आंदोलनों से ही सही, कुछ योग्य राज्यरचना हुई है. लेकिन वह संपूर्ण समाधानकारक नहीं है. बीस करोड़ का एक उत्तर प्रदेश राज्य और १०-१२ लाख का मिझोराम या पचास लाख जनसंख्या से कम के अनेक राज्य, यह व्यवस्था योग्य नहीं. पुन: एक बार राज्य पुनर्रचना आयोग बिठाकर, तीन करोड़ से अधिक या पचास लाख से कम जनसंख्या के राज्य नहीं रहेगे, ऐसी व्यवस्था होनी चाहिए.


लेकिन यह स्वतंत्र विषय है. मुख्य बात यह है कि हमारी राज्य व्यवस्था संघात्मक (फेडरल) नहीं चाहिए. वह एकात्मिक (unitory) चाहिए. युनिटरी का अर्थ विकेन्द्रीकरण को विरोध नहीं होता. राज्य कारोबार के घटक छोटे ही होगे. वे वैसे ही चाहिए. उन्हें अंतर्गत कारोबार की स्वतंत्रता रहेगी. हम विकेंद्रित व्यवस्था के पक्षधर है. लेकिन केन्द्र मजबूत होना ही चाहिए. विदेशी आक्रमण, परराष्ट्र संबंध, देश की सुरक्षा व्यवस्था, देशांतर्गत विद्रोह का बंदोबस्त - जैसे जिहादी और नक्सली आतंकवाद का बंदोबस्त, नदियों के पानी का बँटवारा, आदि और इस प्रकार के अन्य सार्वदेशीय विषय केन्द्र सरकार के अधिकार क्षेत्र में ही होने चाहिए. हमने जनतांत्रिक व्यवस्था स्वीकार की है. इस कारण केन्द्र में सदा एक ही पार्टी की सत्ता रहेगी, यह संभव नहीं. अत: किस पार्टी की सत्ता है इसका विचार न कर, उस सत्ता को, देशहित की दृष्टि से, सब राज्यों का समर्थन रहना चाहिए. देशहित और हमारे राज्य के हित के बीच संघर्ष उत्पन्न हुआ, तो देशहित को ही प्राधान्य होना चाहिए. इसी दृष्टि से राज्यों ने, स्वायत्तता के भ्रम से निर्माण हुए अपने अहंकार और केन्द्र सरकार कीराजकीय पार्टी का विरोध परे रखकर, सब प्रकार का आतंकवाद जड़ से नष्ट करने के लिए एकजूटता के साथ केंद्रीय सत्ता के कंधे से कंधा मिलाकर खड़े रहना चाहिए. उसने बनाई रणनीति और व्यवस्था को राज्यों ने मन से समर्थन देना चाहिए. यह एकजूट ही देश में के आतंकवादी हिंसाचार को जड़ से उखाड़ फेकेगी, और इस हिंसाचार को प्रत्यक्षाप्रत्यक्ष मदद करने वाले पड़ोसी भारतद्वेषी राष्ट्रों के मन में धाक भी निर्माण करेगी.



- मा. गो. वैद्य