Tuesday, April 30, 2013

The Solution to Kashmir? - Dr Subramanian Swamy

Subramanian  Swamy
I believe that the Kashmir "issue" can no more be solved by dialogue either with the Pakistanis or the Hurriyat. This is because the Pakistan army has now a majority of Captains and Colonels owing allegiance to the Taliban. In another five years, they will reach, by promotions, the Corps Commander level. We know that the Government in Pakistan is controlled by the seven Corps Commanders of the Army. Therefore, a Taliban Government in Pakistan is inevitable; and a Jihad against Hindustan the logical consequence. In turn, the Hurriyat is an organization that cannot go against Pakistan.
So, Hindustan has about five years to prepare for a decisive and defining War with Pakistan, and we must prepare to win it. We, therefore, have to throw out of office in the coming elections all those Hindustani politicians who crave or preen themselves on being popular in Pakistan by sounding reasonable and Secular, as also equivocating on every issue. For the survival of the ancient civilization of Hindustan, we have to win that inevitable War and recover the whole of Kashmir.
I will not blame the Jihadis for the coming War. They are, after all, programmed for that Way by Islamic theology. I will blame ourselves for not understanding the fundamentals of Islam as propounded in the Sira and the Hadith. It teaches that if Muslims are in a majority, they must rule (Darul Islam), and then everyone else is adhimmi and a kafir, who do not have equal rights of worship. Thus, in Saudi Arabia, you cannot even display a picture of a Hindu God inside your own home! When Muslims are in a hopeless minority, then Sira and Hadith urge Muslims to make a deal with the majority and make no demands (Darul Ahad). In the US and Australia, for example, Muslims will, therefore, never ask for separate Sharia personal law. If Muslims are not hopelessly in a minority, Islam directs that true Muslims conduct subversions and act against all human values to leverage their position (Darul Harab) to become of defining influence in the polity, and ultimately become rulers. We saw this in Kashmir recently when the Government was made to cave in on the most humane gesture of allotting land to make Hindu pilgrims feel comfortable while on arduous journey to the Amarnath caves. And we have it on the authority of the Chief Minister of the State that the agitation against the allotment was financed by Pakistan and Saudi Arabia.
It is foolish, therefore, in the face of this reality to expound the banal sentiment that "all Muslims are not terrorists or fanatics". Of course, that is true. Or that Koran is a message of peace. May be it is. However, the Islam of the cutting edge of Muslim thought propounded by leaders such as Osama Bin Laden is in Sira and Hadith, which calls on the faithful to wage war against the infidels who cannot strike back effectively and crush them.
The struggle for Kashmir by the Jihadis thus is not just for Independence. They, instead, want a Darul Islam there and for the State to become a part of theCaliphate. Hindus are a special target because despite Iran, Iraq, Egypt and other countries becoming majority Muslim after less than two decades of conquest and brutalization, Hindusthan after a thousand years of massacres, mayhem and rape remained dominantly Hindu. This is a living affront for the fundamentalist Muslim, and in their seminaries andmadrassas in Iran and Saudi Arabia, they even today debate and agonize over it.
Contrary to the British imperialist propaganda, the Hindus did not just lie down and be conquered by foreign invaders. The Hindu fighting spirit had never dimmed, even if weakened, by traitors within. Periodically, the Hindus rose in revolt symbolized by the Vijayanagaram Empire (which lasted 300 years), or in Shivaji's bravery, or Guru Gobind Singh's campaigns, or the Marathanational onslaught.
Most of us thus remained Hindus, defiant, even if in poverty and misery, singing  Vande Mataram. This is the true history of Hindusthan which the fundamentalist Muslim and the British imperialist historians cannot bear to acknowledge.
Accommodation and compromise with Islamic terrorists is self-defeating and suicidal. We have, instead, to fight back, for which Kashmir is the starting point.
Hindu renaissance, long overdue, will be nurtured if we look for an opportunity to seize back the occupied areas of Kashmir, and make the Jihadis feel that in Hindusthan there can only be Darul Ahadfor Muslims. We had opportunities earlier to demonstrate that, for example, in 1948, 1971, 1999, and 2001. But we let it go.
So, let there be no more intellectual confusion about the identity of Hindusthan as a Hindu Rashtra (Nation), which means a land of Hindus and those others who acknowledge proudly that their ancestors are Hindus. If Muslims acknowledge this truth, then they are welcome as a part of our family. And those who do not so acknowledge, cannot be equal citizens in Hindusthan. Therefore, we shall not agree to any more truncation of Hindusthani territory.
We have to, therefore, disown UN Resolutions and Hindustan-Pakistan Treaties, such as signed in Simla in 1972, as unauthorized Nehruvian policy blunders.
The legality of the Instrument of Accession signed in favour of Hindusthan by the then Maharaja of J&K on October 26, 1947 has to prevail.
Otherwise, it will create a plethora of legal issues, including what will become the status of the Maharaja if we abrogate this Instrument.
Will Dr. Karan Singh, the son of Maharaja Hari Singh, have then a claim to be regarded again as an independent and sovereign King of J&K? In the Junagadh issue, Pakistan had held the Instrument once signed is "final, irrevocable, and not requiring the wishes of the people to be ascertained". That is the correct position. But the Junagadh Nawab after signing the Instrument in favour of Pakistan, invaded the neighbouring princely states, states which had acceded to Hindusthan. So when the Hindusthani Army was moved by Patel to defend these areas, the Nawab ran away to Pakistan. His subjects were mostly Hindu, who then welcomed the Hindusthani army.
Furthermore, on what legal basis, can we now seek to ascertain the wishes of the people of J&K when the India Independence Act of 1947, passed by the British Parliament, makes no provision for the same? After all, it was this same Act which created a legal entity called Pakistan, carved out from the united Hindusthan. Hindusthan, under the Act, was a settled and continuing entity, out of which the British Parliament made a new entity called Pakistan. Never in previous history there was ever a country called Pakistan. The concept itself was formulated only in 1947.
By what mechanism can then Pakistan today seek to amend, or even de-recognise, the Act, without unwittingly undermining the legal status of Pakistan itself? That is, if the Instrument of Accession is called into question, will not the Partition itself be subject to challenge, as without legal basis on the same consideration? I raise this question also because in the case of Beruberi in Eastern Hindusthan, the transfer of that area to Bangla Desh although agreed to, has been enmeshed in prolonged litigation in the Hindusthani Supreme Court because of Article 1 of the Hindusthani Constitution which bars de-merger of any Hindusthani territory after 1950.
Hindusthani Army Jawans created Bangla Desh out of Pakistan. But despite that, and drunk with their Darul Islam status, the Bengali Muslims have not only driven out the Hindus, or butchered them, or forcibly converted them, but millions of Bengali Muslims have sneaked into Hindusthan and are happily working with Hindus in Hindusthan. The Partition was agreed to by Hindus only for those Muslims who could not bear to live under Hindu hegemony. And, after getting their territory, they cannot now say that they are happy to live in Hindusthan with the Hindus.
Therefore, a virat Hindu Rashtra (Nation) should tell Bangla Desh to take back their Muslims, or hand over one-third of Bangla Desh territory as compensation. If they do not agree, then we must send two divisions of the Hindustani Army from Sylhet to Khulna, and annex one-third of north Bangla Desh as our due, for bearing the economic and political burden of Bangla Deshis in our country. This will make our access to Assam and the North-East much easier too. But, more strategically, it will send a powerful and salutary signal to Pakistani terrorists that Hindus will no more be passive.
These actions are possible if we gear up diplomatically for it. Today, the world is sick of the terrorism and the greed of Muslims nations to make money out of the sale of oil which they have got by sheer accident of geology. Therefore, we must make strong allies. Israel is one such country. We must find ways to make China see our interests. It can be done if we know how to come to an understanding with them. This is essential for isolating Pakistan. At present, China has begun to see the tinder box that Pakistan has become. Uighurs from Xinjiang have been to madrassas of Pakistan for training in subversion in Urumuchi and to sabotage the Beijing Olympics This worries China. It should concern us, too.
Therefore, to lay the foundation for the liberation of Kashmir, we must have President's Rule for some time. Hindustan should refuse to engage in any dialogue on Kashmir in which the other side does not accept the whole of Kashmir as an integral and inalienable part of Hindustan. The people of Kashmir should be left in no doubt in their minds where the citizens of Hindu Rashtra stand on the future of the state: that it lies with us. Every Hindu has a claim on Kashmir. I, for one, claim it because my Gotra (lineage, clan) is Kashyapa. It was Rishi Kashyapa who invented Kashmir out of the Dal Lake. Hence, my claim.
We should undo the "cleansing" of the state of Kashmiri Hindu Pandits by sending 1 million ex-servicemen and families into the Kashmir Valley for re-settlement. Article 370 of the Constitution will have to be removed for that purpose; but according to the Constitution itself, it is supposed to be a "temporary provision" not requiring a Parliamentary two-thirds majority for amendment. It can be erased by a Presidential Notification on the recommendation of the Union Cabinet.
Then, we await a War. We do not have to go to War with Pakistan on Kashmir because a Talibanised Pakistan will provide us with the opportunity. What I am advocating here is that we prepare mentally and militarily for that eventuality, and having been provided that opportunity, go for the jackpot -- to use an American slang.
-         Subramanian Swamy

Monday, April 29, 2013

चीन की अशोभनीय पैंतरेबाजियां

दैनिक भास्कर

26 अप्रैल 2013


चीन की अशोभनीय पैंतरेबाजियां


             चीन गज़ब का पैंतरेबाज मुल्क है| एक ओर वह भव्य और गरिमामय महाशक्ति का आचरण करते हुए दिखाई देना चाहता है और दूसरी ओर वह ओछी छेड़खनियों से बाज नहीं आता| अभी 15 अप्रैल को उसकी फौज ने सीमांत के दौलत बेग ओल्डी क्षेत्र में घुसकर अपने तंबू खड़े कर दिए हैं| वे ​नियंत्रण-रेखा के पार भारतीय सीमा में 10 किमी तक अंदर घुस आए हैं| लगभग ऐसा ही उन्होंने जून 1986 में सोमदोरोंग चू में किया था| वहां से उन्होंने 1995 में अपने आप वापसी करके भारत को प्रसन्न कर दिया था|

            वास्तव में भारत-चीन सीमा चार हजार कि.मी. से भी ज्यादा लंबी है| उसमें जंगल, पहाड़, झरने नदियां, झीलें तथा अनेक अबूझ क्षेत्र हैं| यह पता ही नहीं चलता कि कौनसी जगह चीनी है और कौनसी भारतीय? नियंत्र्ण-रेखा भी अनेक स्थानों पर अंदाज से ही जानी और मानी जाती है| ऐसी स्थिति में दोनों ओर से नियत्रंण-रेखा का उल्लंघन आसानी से होता रहता है| जान-बूझकर भी होता ही होगा लेकिन अक्सर दूसरे पक्ष को आपत्ति होने पर पहला पक्ष अपनी जगह वापस लौट जाता है लेकिन इस बार चीनी फौज पिछले 10-12 दिनों से भारतीय सीमा क्षेत्र में ऐसे जम गई है, जैसे कि वह सोमदोरोंग चू में जम गई थी| दो बार दोनों पक्षों के अफसरों की बैठक भी हो गई है लेकिन अभी तक कोई नतीजा नहीं निकला| चीनी सरकार के प्रवक्ता का कहना है कि उन्होंने नियंत्रण-रेखा का कहीं कोई उल्लंघन नहीं किया है| उनके तंबू उनकी सीमा में लगाए गए हैं| उन्हें हटाने का प्रश्न ही नहीं उठता|

            चीनी फौज या सरकार के प्रवक्ता यह बताने की स्थिति में नहीं है कि आखिर यह घुसपैठ उन्होंने क्यों की है? यह घुसपैठ बड़े नाजुक वक्त में की गई है| हमारे रक्षा मंत्री ए के एंटनी की चीन-यात्र और चीनी प्रधानमंत्री सी केकियांग की भारत-यात्रा की तैयारियां जोरों से चल रही हैं| यदि घुसपैठ का यह मामला तूल पकड़ ले तो दोनों यात्राएं रद्द हो सकती हैं और दोनों देशों के बीच मनमुटाव हो सकता है| चीन को इसी वक्त ऐसी क्या आ पड़ी थी कि उसने यह उत्तेजक कार्रवाई कर डाली?

            चीनी फौज यों तो चीनी कम्युनिष्ट पार्टी के नियंत्र्ण में रहती है| वह पाकिस्तानी फौज की तरह पूर्ण स्वायत्त नहीं है लेकिन फिर भी वह भारतीय फौज की तरह आज्ञाकारी भी नहीं है| चीनी फौज शायद अपने नए प्रधानमंत्री को चीनी कूटनीति का पुराना पैतरा सिखाना चाहती है याने किसी पराए देश के साथ दोस्ती जरुर बघारिए लेकिन उसके गले मिलते वक्त उसकी चिकौटी जरुर काट लीजिए| उसे बता दीजिए कि आपके मुंह में राम है लेकिन बगल में छुरी भी है| चीनी प्रधानमंत्री की भारत-यात्रा के पहले फेंके गए इस पासे से तय हो जाएगा कि भारत को चीन की कितनी गर्ज है? अगर भारत को गर्ज है तो वह इस बदसलूकी को भी बर्दाश्त कर लेगा|

            चीनी फौज का दूसरा मंतव्य अपने नये और अपेक्षाकृत युवा प्रधानमंत्री को यह संकेत देना भी हो सकता है कि पड़ौसियों के साथ बहुत नरमी से पेश आना भी ठीक नहीं है| चीनी नेतृत्व साम्यवादी है लेकिन चीनी फौज तो उग्र राष्ट्रवादी है| उसने भारत से ही नहीं, अपने लगभग दर्जन भर पड़ौसी देशों से पंजे भिड़ा रखे हैं| जापान, वियतनाम, फिलीपींस, ताइवान, कोरिया, मलेशिया, रुस आदि कौनसा ऐसा देश है, जिससे उसका सीमा-विवाद नहीं है? सिर्फ दो देशों से उसके सीमा विवाद सुलझे हुए हैं पाकिस्तान और बर्मा! क्योंकि ये भारत के पड़ौसी हैं|

            यह ठीक है कि चीन साम्यवादी देश होते हुए भी तंग श्याओ फिंग के नेतृत्व में एक महाजन राष्ट्र बन गया है और महाजनों का ध्यान पैसा बनाने में लगा होता है| वे लड़ाई-झगड़ों में विश्वास नहीं करते लेकिन चीनी फौज महाजन नहीं है| उसने जितने लंबे युद्घ लड़े हैं, दुनिया की किसी फौज ने भी नहीं लड़े हैं| फौज की नीति की उपेक्षा करना चीनी नेताओं के बस की बात नहीं है| चीनी फौज और चीनी कूटनीति का चोली-दामन का साथ है| इसीलिए हम देखते हैं कि जब 2006 में चीनी राष्ट्रपति हू जिनताओ भारत आए तो उसके पहले चीनी राजदूत ने कह दिया कि सारा अरुणाचाल प्रदेश ही चीन का है| इसी प्रकार 2010 में प्रधानमंत्र्ी विन च्या पाओ की भारत-यात्र के पहले चीन ने वीज़ा-विवाद खड़ा कर दिया था| भारत के कश्मीरी नागरिकों को उनके पासपोर्ट पर नहीं, अलग कागज़ पर वीज़ा दिया जाने लगा था| यह विवाद भी बाद में चीन ने स्वत: हल कर लिया|

            इस तरह से अचानक विवाद खड़े करना और उन्हें सुलझाने के प्रपंच को क्या कहा जाए? यह किसी सोची समझी नीति के अन्तर्गत किया जाता है या यह सब प्रशासनिक अराजकता का परिणाम है? इसे प्रशासनिक अराजकता तो हम तब कह सकते थे जबकि चीन की केंद्रीय सरकार या फौज के प्रवक्ता इन मामलों से अपनी अनभिज्ञता प्रकट करते| वे तो उल्टे इन अटपटे कदमों का पेइचिंग से समर्थन करते हैं| अभी-अभी पेइचिंग ने कहा है कि दौलत बेग ओल्डी में चीन ने तंबू इसलिए गाड़े हैं कि भारत ने पूर्वी लद्दाख के विवादित क्षेत्र् में सीमेंट-कांक्रीट के स्थायी बंकर बना लिये हैं| हटें तो दोनों साथ हटें|

            इसमें शक नहीं है कि इन तात्कालिक उत्तेजनाओं को विस्फोटक रुप देना उचित नहीं है लेकिन भारत को जरुरत से ज्यादा नरमी दिखाने की भी जरुरत नहीं है| यदि आज चीन भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार है तो गर्ज उसकी भी है और कम नहीं है| भारत से ज्यादा सस्ता कच्चा लोहा उसे और कहां से मिल सकता है? चीन को यह भी समझना चाहिए कि भारत कितना जिम्मेदार देश है कि वह अमेरिका की चीन-विरोधी किलेबंदी में शामिल नहीं हो रहा है| अफगानिस्तान से अगले साल अमेरिका की वापसी के बाद की स्थिति पर आखिर भारत चीन से बात क्यों कर रहा है? एशिया की राजनीति में चीन को भारत उचित महत्व दे रहा है| ऐसी स्थिति में चीन भारत के साथ गरिमापूर्ण बर्ताव करने में बार-बार क्यों चूक जाता है? डर यही है कि भारत-चीन संबंधों के सहज विकास पर ये छोटी-मोटी चिकौटियां कभी भारी न पड़ जाएं| चीन एक स्वयंसिद्घ महाशक्ति है और एक महान सभ्यता का संवाहक राष्ट्र है| तुच्छ पैंतरेबाजियां उसे शोभा नहीं देतीं|



Friday, April 26, 2013

Fwd: from M G Vaidya



डॉ. केशव बळीराम हेडगेवार


राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के संस्थापक थे डॉ. केशव बळीराम हेडगेवार| संघ विश्‍वविख्यात हो गया है, अपनी अद्वितीय संघटनशैली के कारण| उसके साथ ही उसके संस्थापक डॉ. हेडगेवार का भी नाम विश्‍वविख्यात हुआ है| कम से कम 35 देशों में संघ का कार्य प्रचलित है|


अभिजात देशभक्त

चैत्र शुक्ल प्रतिपदा डॉक्टर जी का जन्मदिन है| अंग्रेजी पंचांग के अनुसार तारीख थी 1 अप्रेल 1889| बाल हेडगेवार अभिजात देशभक्त था| 9-10 साल की आयु वैसी क्या होती है| किन्तु उस आयु में भी केशव हेडगेवार की सोच और मानसिकता कुछ और ही थी| वह प्राथमिक तीसरी कक्षा का विद्यार्थी था| इंग्लैंड की रानी, जो हिंदुस्थान की भी साम्राज्ञी हुआ करती थी, व्हिक्टोरिया के राज्यारोहण को साठ वर्ष पूरे हुये थे| उस उपलक्ष्य में इंग्लैंड में तथा जहॉं जहॉं इंग्लैंड का साम्राज्य था वहॉं वहॉं उस राज्यारोहण का हीरक महोत्सव आयोजित किया गया था| भारत में भी वह मनाया गया| उस के निमित्त प्रत्येक स्कूल में मिठाई बॉंटी गयी| केशव हेडगेवार को भी वह मिली| किन्तु केशव ने उसका भक्षण नहीं किया| कूडादान में उसे फेंक दिया| कारण एक विदेशी आक्रान्ता शासन की पुरोधा के उत्सव का वह प्रतीक था|


वन्दे मातरम् प्रकरण

कैसा वर्णन करे इस अबोध बालक के सोच का| मुझे लगता है कि यह अबोध या आकस्मिक प्रतिक्रिया नहीं थी| उसके पीछे एक विशेष सोच थी, जिसका प्रकटीकरण फिर बारह वर्षों के बाद हुआ| केशव हेडगेवार मॅट्रिक के वर्ग में यानी उस समय के 11 वी में पढ रहा था| एक शाला निरीक्षक (School Inspector) उनके स्कूल को देखने के लिये आनेवाला था| मुख्याध्यापक ने सब विद्यार्थिओं को उसकी सूचना दी| और ठीक ढंगसे, अच्छे कपडे पहन कर अनुशासन से बर्ताव करने की हिदायत दी| किन्तु केशव हेडगेवार के दिमाग में दूसरी ही योजना बनी| उन्होंने अपने वर्ग के सब विद्यार्थियों को इकठ्ठा किया और उनको मनवा लिया कि 'वन्दे मातरम्' की उद्घोषणा से उस शिक्षा अधिकारी का स्वागत करेंगे| वह साल था 1908| 1905 में उस समय के अंग्रेज व्हाईसरॉय लॉर्ड कर्झन ने बंगाल प्रान्त का विभाजन किया था| उसके खिलाफ भारत की सारी देशभक्त जनता इकठ्ठा हो गई थी| इस विभाजन विरोधी आंदोलन का मंत्र था 'वन्दे मातरम्'| उस मंत्र के प्रभाव से सम्पूर्ण देश उत्तेजित था| अंग्रेज सरकारने 'वन्दे मातरम्' की उद्घोषणा पर पाबंदी लगाई थी|


विद्यालय से निष्कासित

विद्यालय के मुख्याध्यापक के साथ निरीक्षक महोदय केशव के वर्ग में जब आये तब सम्पूर्ण वर्ग ने खडे होकर 'वन्दे मातरम्' की जोरदार उद्घोषणा कर उनका स्वागत किया| निरीक्षक महोदय आग बबूला हो गये| वर्ग के बाहर आये और मुख्याध्यापक को डॉंटफटकार कर गुस्से में स्कूल से चले गये| फिर मुख्याध्यापक 11 वी कक्षा के कमरे में आये| विद्यार्थियों से पूछा कि किसने यह षडयंत्र रचा था| कोई बोलने को तैयार नहीं था| अत: वर्ग के समूचे विद्यार्थियों को विद्यालय से निष्कासित किया|

कुछ ही दिनों में इस घटना का पता अभिभावकों को लगा| वे मुख्याध्यापक महोदय से मिले| मुख्याध्यापक ने कडा रूख अपनाकर कहा कि विद्यार्थियों को लिखित रूप में माफी मांगनी पडेगी| तभी उनको प्रवेश मिलेगा| विद्यार्थी इस के लिये तैयार नहीं हुये| तब मध्यम रास्ता निकाला गया कि मुख्याध्यापक कक्षा के द्वारपर खडे रहेंगे| एकेक विद्यार्थी से पूछेंगे कि तुमसे गलती हुई ना और विद्यार्थी सम्मतिदर्शक मुंडी हिलायेगा और कक्षा में प्रवेश करेगा| इस रीति से अन्य सारे विद्यार्थियोंने पुन: प्रवेश प्राप्त किया| किन्तु केशव ने यह समझोता भी नहीं माना| वह अकेला विद्यार्थी निष्कासित रहा| फिर नागपुर से करीब 150 कि. मी. दूरी पर स्थित यवतमाल नगर में स्थापित और सब शासकीय बन्धनों से मुक्त एक विद्यालय में प्रवेश कर उसने मॅट्रिक की परीक्षा दी और वह उसने उत्तीर्ण भी की| इस परीक्षा उत्तीर्णता के दाखिले पर 'द नॅशनल कौन्सिल ऑफ बेंगाल' इस संस्था के अध्यक्ष तथा सुविख्यात क्रांतिकारक डॉ. रासबिहारी घोष के हस्ताक्षर थे|


कोलकाटा में

केशव आगे की पढाई के लिये इच्छुक था| उसने कोलकाटा का चयन किया| इस के लिये दो कारण थे| पहिला यह कि मॅट्रिक का दाखिला बंगाल का था| और दूसरा यह कि कोलकाटा क्रांतिकारियों का गढ था| केशव की आयु 19 हो गई थी| मन से वह क्रांतिकारक बन गया था| कोलकाटा जाते ही उसने अपने शरीर को भी उस में झोंक दिया| क्रांतिकारियों की सब गतिविधियों का ज्ञान उसने प्राप्त किया| क्रांतिकारियों की केन्द्रीय समिती जो 'अनुशीलन समिति' के नाम से प्रसिद्ध थी, उसका भी वह सदस्य बना| साथ साथ डॉक्टरी की परीक्षा भी उत्तीर्ण की| डॉक्टरी की प्रात्यक्षिक शिक्षा का कार्यकाल पूरा कर केशव 1925 में नागपुर आया| अब वे डॉ. केशव बळीराम हेडगेवार बन गये थे|


मर्यादाओं का ध्यान

शासकीय सेवा में प्रवेश के लिये या अपना अस्पताल खोलकर पैसा कमाने के लिये वे डॉक्टर बने ही नहीं थे| भारत का स्वातंत्र्य यही उनके जीवन का ध्येय था| उस ध्येय का विचार करते करते उनके ध्यान में स्वतंत्रता हासील करने हेतु क्रांतिकारी क्रियारीतियों की मर्यादाएं ध्यान में आ गई| दो-चार अंग्रेज अधिकारियों की हत्या होने के कारण अंग्रेज यहॉं से भागनेवाले नहीं थे| किसी भी बडे आंदोलन के सफलता के लिये व्यापक जनसमर्थन की आवश्यकता होती है| क्रांतिकारियों की क्रियाकलापों में उसका अभाव था| सामान्य जनता में जब तक स्वतंत्रता की प्रखर चाह निर्माण नहीं होती, तब तक स्वतंत्रता प्राप्त नहीं होगी और मिली तो भी टिकेगी नहीं, यह बात अब उनके मनपर अंकित हो गई थी| अत: नागपुर लौटने के बाद गहन विचार कर थोडे ही समय में उन्होंने उस क्रियाविधि से अपने को दूर किया और कॉंग्रेस के जन-आंदोलन में पूरी ताकत से शामील हुये| यह वर्ष था 1936| लोकमान्य तिलक जी मंडाले का छ: वर्षों का कारावास समाप्त कर मु़क़्त हो गये थे| ''स्वतंत्रता मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है और उसे मैं प्राप्त करके ही रहूँगा'' उनकी इस घोषणा से जनमानस में चेतना की एक प्रबल लहर निर्माण हुई थी| डॉ. केशवराव हेडगेवार भी उस लहर के अंग बन गये| उससे एकरूप हो गये| अंग्रेज सरकार के खिलाफ उग्र भाषण भी देने लगे| अंग्रेज सरकारने उनपर भाषणबंदी का नियम लागू किया| किन्तु डॉक्टर जी ने उसे माना नहीं| और अपना भाषणक्रम चालूही रखा| फिर अंग्रेज सरकारने उनपर मामला दर्ज किया और उनको एक वर्ष की सश्रम कारावास की सजा दी| 12 जुलाई 1932 को कारागृह से वे मुक्त हुये|


संघ का जन्म

एक वर्ष के कारावास में उनके मन में विचारमंथन अवश्य ही चला होगा| उनके मन में अवश्य यह विचार आया होगा कि क्या जनमानस में स्वतंत्रता की चाह मात्र से स्वतंत्रता प्राप्त होगी| वे इस निष्कर्षपर आये कि स्वतंत्रता के लिये अंग्रेजों से प्रदीर्घ संघर्ष करना होगा| उस हेतु जनता में से ही किसी एक अंश को संगठित होकर नेतृत्व करना होगा| जनता साथ तो देगी किन्तु केवल जनभावना पर्याप्त नहीं होगी| स्वतंत्रता की आकांक्षा से ओतप्रोत एक संगठन खडा होना आवश्यक है, जो जनता का नेतृत्व करेगा, तभी संघर्ष दीर्घ काल तक चल सकेगा| जल्दबाजी से कुछ मिलनेवाला नहीं है| अत: कारावास से मुक्त होनेपर इस दिशा में उनका विचारचक्र चला और उसके परिणामस्वरूप राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का जन्म हुआ|


संघ की कार्यरीति

यह संगठन हिन्दुओं का ही होगा, यह भी निश्‍चय उनका हो गया था| क्यौं कि इस देश का भाग्य और भवितव्य हिन्दु समाज से निगडित है| अन्य समाजों का साथ मिल सकता है| किन्तु संगठन की अभेद्यता के लिये केवल हिन्दुओं का ही संगठन हो इस निष्कर्षपर वे आये| अंग्रेज चालाख है| फूट डालने की नीति में कुशल है और सफल भी थे| यह डॉक्टर जी ने भलीभॉंति जान लिया| इस लिये उन्होंने हिन्दुओं का ही संगठन खडा करने का निश्‍चय किया| हिन्दु की परिभाषा उनकी व्यापक थी| उस में सिक्ख, जैन और बौद्ध भी अन्तर्भूत थे| वे यह भी जानते थे कि हिन्दु एक जमात (community) नहीं है| वह 'राष्ट्र' है| अत: उन्होंने, अनेक सहयोगियों से विचार कर उसका नाम 'राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ' रखा|

हिन्दुओं का संगठन खडा करना यह आसान बात नहीं थी| अनेक जातियों में, अनेक भाषाओं में, अनेक संप्रदायों में हिन्दु समाज विभक्त था| इतनाही नहीं तो अपनी अपनी जाति के, भाषा के और संप्रदाय के अभिमान भी उत्कट थे| साथ ही जातिप्रथा के कारण उच्चनीच भाव भी था| अस्पृश्यता का भी प्रचलन था| इन सब बाधाओं का विचारकर, उन्होंने अपनी अलोकसामान्य प्रतिभा से एक अभिनव कार्यपद्धति का निर्माण किया| वह पद्धति यानी संघ की दैनंदिन शाखा की प्रद्धति| हम अपने समाज के लिये, अपने देश के लिये कार्य करना चाहते हैं ना, तो अपने २४ घण्टों के समय में से कम से कम एक घण्टा संघ के लिये देने का उन्होंने आग्रह रखा| और उनकी दूसरी विशेषता यह थी, समाज में के भेदों का जिक्र ही नहीं करना| बस् एकता की बात करना| अन्य समाजसुधारक भी उस समय थे| उनको भी जातिप्रथा के कारण आया उच्चनीच भाव तथा अस्पृश्यता को मिटाना था| किन्तु वे जाति का उल्लेख कर उसपर प्रहार करते थे| डॉक्टर जी ने एक नये मार्ग को चुना| उन्होंने तय किया कि व्यक्ति की जाति ध्यान में नहीं लेंगे| केवल सब में विराजमान एकत्व की यानी हिन्दुत्व की ही भाषा बोलेंगे| इस कार्यपद्धति द्वारा उन्होंने शाखा में सब को एक पंक्ति में खडा किया| एक पंक्ति में कंधे से कंधा मिलाकर चलने को सिखाया और क्रांतिकारी बात यह थी एक पंक्ति में सबको भोजन के लिये बिठाया| 'एकश: सम्पत्' यह जो संघ शाखापद्धति की विशिष्टतापूर्ण आज्ञा है वह डॉक्टर जी की मौलिक विचारसरणी का प्रतीक है| मैं तो कहूँगा कि वह एक क्रांतिकारी आज्ञा है| सारा संघ उस आज्ञा के भाव से आज तक अनुप्राणित है|


खास तरीका

इसका एक उदाहरण मेरे स्मरण में है| बात 1932 की है| प्रथम बार नागपुर में संघ के शीत शिबिर में जिनको समाज अस्पृश्य मानता था, उस समाज से स्वयंसेवक आये| उनके ही पडोस के मुहल्ले से आये हुये अन्य जाति के स्वयंसेवकों ने डॉक्टर जी से कहा कि, हम इनके साथ एक पंक्ति में बैठकर भोजन नहीं करेंगे| डॉक्टर जी ने उनको यह तो नहीं कहा कि आप शिबिर से चले जाइये| उन्होंने उनसे कहा 'ठीक है, आप अलग पंक्ति बना कर भोजन कीजिये| मैं तो उनके साथ ही भोजन करूँगा|'' उस दिन उस विशिष्ट जाति के 10-12 स्वयंसेवकों ने अलग पंक्ति में बैठकर भोजन किया| अन्य करीब तीनसौ स्वयंसेवकोंने, डॉक्टर जी समेत, समान पंक्तियों में बैठकर अपना भोजन किया| दूसरे दिन चमत्कार हुआ| उन 10-12 स्वयंसेवकों ने भी सब के साथ पंक्ति में बैठकर भोजन किया| बोर्डपर विद्यमान किसी रेषा को छोटी करनी हो तो उसके लिये दो तरीके हैं| एक यह कि डस्टर लेकर उस रेषा को किसी एक छोर से मिटाये| और दूसरा यह कि उस रेषा के ऊपर एक बडी रेषा खींचे| वह मूल रेषा आपही आप छोटी हो जाती है| डॉक्टर जी ने दूसरे तरीके को अपनाया| सब के ऊपर हिन्दुत्व की बडी रेषा खींची| बाकी सब रेषाएं आप ही आप छोटी हो गई| इस पद्धति की सफलता यह है कि संघ में किसी व्यक्ति की जाती पूछी ही जाती नहीं| इस तरीके से संघ में जातिभेद मिट गया| छुआछूत समाप्त हुई| 1934 में महात्मा जी ने भी संघ की इस विशेषता का, उनके आश्रम के समीप जो संघ का शिबिर लगा था, उस में जाकर स्वयं अनुभव किया| संघ जातिनिरपेक्ष, भाषानिरपेक्ष, पंथनिरपेक्ष बना| और बिखरे हुये हिन्दुओं का संगठन करने में सफल बना|



संघ की कार्यशैली की दूसरी विशेषत: यह है कि संघ की जो भी आवश्यकताएं र्है वे संघ के स्वयंसेवक ही पूर्ण करेंगे| संस्था चलाने के लिये धन चाहये ही| वह कौन देगा| अर्थात् स्वयंसेवक देंगे| संघ किसी से दान नहीं लेता| जो भी देना है वह स्वयंसेवक देंगे| और वह भी समर्पण भावना से, दान की भावना से नहीं| दान की भावना अहंकार को जन्म देती है| देनेवालो का हाथ हमेशा ऊपर रहता है| संघ की गुरुदक्षिणा की पद्धति के कारण संघ पूर्णत: स्वतंत्र है| किसी का भी दबेल नहीं है|


गुरु कौन?

गुरुदक्षिणा तो प्रारंभ हुई| किन्तु गुरु कौन? डॉक्टर जी ने बताया कि कोई व्यक्ति संघ में गुरु नहीं| भगवा ध्वज अपना गुरु| वह ध्वज त्याग का, पवित्रता का, तथा पराक्रम का प्रतीक है| गुरुदक्षिका में उसका पूजन तथा उसी को समर्पण| इस पद्धति के कारण संघ में व्यक्तिमाहात्म्य नहीं| किसी भी व्यक्ति का जयघोष नहीं| 'डॉ. हेडगेवार की जय' यह भी घोष नहीं तो औरों की बात ही क्या? संघ में केवल एकमात्र जयघोष है 'भारत माता की जय'|



किसी भी संस्था चलाने के लिये कार्यकर्ता चाहिये| वे कहॉ से आयेंगे| डॉक्टर जी ने वे संघ से ही निर्माण किये| उत्कट देशभक्ति और निरपेक्ष समाजनिष्ठा की भावना से डॉक्टर जी ने तरुणों को अनुप्राणित किया| और 18-20 वर्ष की आयुवाले तरुण, अननुभवी होते हुये भी, रावलपिंडी, लाहोर, देहली, लखनौं, चेन्नई, कालिकत, बेंगलूर ऐसे सुदूर स्थित अपरिचित शहरों में गये| प्राय:, शिक्षा का हेतु लेकर ये तरुण गये| किन्तु मुख्य उद्देश्य था वहॉं संघ की शाखा स्थापन करना| इन तरुणों ने अपने समवयस्क तरुणों को अपने साथ यानी संघ के साथ जोडा| और शिक्षा समाप्ति के पश्‍चात् भी वे वहीं कार्य करते रहे| उनके परिश्रम से संघ आसेतु हिमाचल विस्तृत हुआ| उस समय 'प्रचारक' यह संज्ञा रूढ नहीं हुई थी| किन्तु ये सारे प्रचारक ही थे| आज भी उच्चविद्याविभूषित तरुण, 'प्रचारक' बनकर अपना सारा जीवन संघ के लिये समर्पित करते दिखाई देते हैं| इन कार्यकर्ताओं के प्रयत्नों को अभूतपूर्व यश मिला और 1940 के नागपुर में हुये संघ शिक्षा वर्ग में एक असम का अपवाद छोडकर उत्तर से लेकर दक्षिण तक और पूर्व से लेकर पश्‍चिम तक के सब प्रान्तों से शिक्षार्थी स्वयंसेवक उपस्थित थे| डॉक्टर जी अपनी आँखों में हिंदुस्थान का लघुरूप देख सके| उस शिक्षा वर्ग के समाप्ति के पश्‍चात् केवल 11 दिनों के बाद ही यानी 21 जून 1940 को डॉक्टर जी ने इहलोक की जीवनयात्रा समाप्त की| 51 वर्षों का उनका जीवन कृतार्थ हुआ|

आज डॉक्टर जी ने स्थापन किया हुआ संघ भारत के सभी जिलों में फैला है| और भारत के बाहर ३५ देशों में उसका विस्तार हुआ है| अंतर इतना ही कि विदेश स्थित संघ का नाम हिंदू स्वयंसेवक संघ है| आज की बिगडी हुई सामाजिक स्थिति के परिप्रेक्ष्य में संघ ही एकमात्र जनता की आशा का स्थान है| डॉक्टर जी के जन्मदिन के शुभ अवसर पर उनको सादर प्रणाम|



मा. गो. वैद्य




Thursday, April 25, 2013

: Rising Islamofascism

Tarek Fatah, Jamia Millia Islamia and Rising Islamofascism

....Third factor has to do with the social structure of the Muslim society. It is not usually acknowledged that Muslim rule on India was the Imperial rule of the foreign dynasties entrenched in the urban centres like Delhi. Turani, Irani, Mughlani had all the powers concentrated in their hands with some crumbs thrown for the Hindustani nobility......

By Abhinav Prakash Singh / In Featured / April 16, 2013



Tarek Fatah in his own words is "an Indian born in Pakistan who is a Canadian citizen". He is a Canadian writer, broadcaster and a secular Muslim anti-Islamist activist. He was associated with the left movement of Pakistan and has the dubious honour of being jailed by every dictator of Pakistan, from Ayub to Zia. He was compelled to leave Pakistan and finally ended up in Canada, which he adopted as his "Karambhumi". He is one of the few Muslims who are fighting Islamists at the frontline for secularism, democracy and liberty. His two books deserve more limelight in India then they have received.

First is the " Chasing the Mirage: The Tragic Illusion of an Islamic State".

The book traces the political dynamics and the interwinding of the religion since the early days of the Islamic world. It deconstructs the much romanticised notion of an "Islamic nation", Caliphate and Islamic state. In fact, so powerful is the work that Tarek has become the hate figure of Islamists and the book was dropped by its Indian publisher after the first print citing potential for communal disharmony!

His second book "The Jew is not My Enemy:

Unveiling the Myths that fuel anti-Semitism" takes on the demonization of the Jews in the Muslim world. He is also a columnist and a regular appearance on the talk shows on Islam and Islamism.

At the age of 63, he is on his first visit to India with his wife. In his own admission, he feels like coming back to his "Janambhumi". He is here to do the research on the his upcoming book " Jinnah's Orphans" which traces the many of the problems facing the Indian sub-continent- political, social or religious- to the Muslim separatism of the last century. Be it Kashmir, Pakistan, ongoing decimation of the Indian civilization including Indo-Islamic culture, stateless Bihari Muslims in Bangladesh, genocide of Balouch and Shias, purging of the local cultures of Sindh and Punjab due to Urdu supremacism, rising Islamic extremism and fascism, all can be traced back to the Muslim separatism and the dream to create Islamic supremacy in India.

He was invited by Jamia Millia Islamia, Delhi to deliver a lecture in the shamelessly named "Yasser Arafat" hall on 11th April, 2013. But his talk was cancelled at the last moment due to "unavoidable reasons". The story is that gang of several Islamofascist students had threatened to disrupt the speech. Also, many of the Islamic "academics" also had reservations about allowing a "Secular Muslim" to speak in what Tarek has aptly called "Mini-Pakistan" in Delhi. As expected, the usual statement deploring the "unfortunate incident" by liberal and academic establishment was not heard who are otherwise quick to breath fire on almost any issue anywhere in the world. No left activists, organisations like Sahmat and others, no alumni association, no liberal group has come forward to defend Tarek's right to speak and student's right to listen him.

But fortunately, the whole incident has once again brought to light the rising power of the Islamofascism in India. This is not an isolated incident but comes in the backdrop of monthly communal riots in U.P, ethnic cleansing of tribals by illegal Muslim Bangladeshi settlers in the North-East, Owaisi's speech in Hyderabad, violence in Azad Maidan in Mumbai, vandalism of Buddha's statue in Lucknow to protest for Rohingya Muslims in Myanmar and banning of films, plays and exhibitions even remotely critical of Islam or even Muslim extremists. It seems that today, Muslims are the only religious group, who are totally incapable of listening to any criticism, not only of Islam but anything related to the Islamic history and polity.

They protest if you criticise Ghaznavi and Aurangzeb, they defend the Islamic Imperialism by citing "benefits" it brought in the form of Taj Mahal! Imagine Indian Christians springing to a fight if you call British foreigners and plunderers! And at the same time, Muslims don't think twice before criticising the others and their religion & society even to the point of demagoguery, not only Zakir Naik, Owaisi and the cheering crowds but the Muslim academics, journalists too.

Why do Muslims suffer from such extreme self-righteousness and supremacism is a curious question in itself? Why such a naked double standard and hostility towards non- Islamic people and cultures? The reasons must be explored in the depth if one wishes to understand and rectify it. Otherwise strains of fascism will assert themselves again and again like they did in 1947 India, in 1990 Kashmir or today in what is left of India.

First reason is the very philosophical nature of Abrahmic religions. The messianic religions wedded to the prophetic cult of one true God and only one true path are behind the most of the horrors inflicted upon the humanity in recorded history.

By their very nature they are not about simply believing in one supreme power, as it is claimed, but in an idea of God which mandates the belief in prophets, book of the God, God-made rules for humans to order their social and political life etc. The claim of believing only in God is only so much true.

This belief in God-made social and political laws leads to attempts to impose the true interpretations of the true book of the true God which in history has led to nothing but wars, death and destruction of entire civilizations and regression of scientific and rational thoughts. It must be understood that intolerance towards what is considered heresy or kufr, Inquisition and Jihadi vandalism, like in Timbuktu or Bamiyan are not an aberration but a zealous expression of the Abrahamic monotheism.

From the belief that God is infallible, to that his book is infallible, to that his prophet is infallible, to that his religion is infallible, and to that followers of that God's religion are infallible is but a short step.

Second reason goes back to the earliest history of Islam itself. Within a very short period early Muslim Arabs had carved out a huge Empire for themselves. The tribal fierceness, unity provided by zeal of the newfound expansionist religion, capable charismatic leaders and other geo-strategic reasons ensured that Muslims emerged victorious in their assaults on established powers of Iran, Byzantine Middle-East and others. Egypt, Syria, Berber states, Iran etc fell with ease to the forces of Islamic Imperialism.

Ultimately, this victorious march was halted in southern France in the west, desert in the South, Byzantium in the north and Battle of Rajasthan in the east. But the early victories had affirmed in the collective consciousness of the Muslims that these victories were due to their faith and steadfastness on the God's true religion. Sovereignty belongs to Allah and he chooses followers of his rightful religion to rule and establish his divine order in the world. The halt was temporary as the victorious march of imperialism began with new vigour in 12th century.

The Indian lines were breached by the Turks who succeeded in establishing the Delhi Sultanate and at the same time Turks were increasingly successful in rolling back the power of Byzantium which culminated in the conquest of the Constantinople in 1453.

Islamic Imperialism was the order of the day and even Europe cowered under the shadow of "Sword of Islam" until late 17th century. In India, the early Muslim period was that of wholesale death and destruction, brutal repression and religious persecution. Buddhism was all but wiped out from Bamiyan to Bengal. The depopulation of the older urban centres and founding of new settlers colonies was an important feature of this period. All this imbued the ruling upper-caste Muslims with an unshakable sense of superiority over the dark skinned coward Hindus who could be crushed at will.

This indeed was true until 14th century when Vijaynagar and Rajput confederacy under Rana Sanga began to reverse the fortunes. The game began to change by 18th century, Marathas and Sikhs decisively broke the power of the Imperialism in India and European states were embarking on their own Imperial endeavours, routing the forces of the Islamic Imperialism wherever they went. It may be lost to the people cheering likes of Owaisi that Muslims have suffered defeat after defeat whenever they met the "Hindu Baniya" in the battlefield in the last three centuries.

Battle of Panipat, 1761, was an aberration and anyway from 1771, the Saffron flag of Marathas unfurled over Red Fort (Mughal Emperor ruled under Maratha protection) while Afghans were thrown out of the equation after the war. But still the myth of invincibility and bravado remains among a large section of the Muslims of the sub-continent especially among Jihadist and Armed corps of the Pakistani army. The false sense of being the rulers for a thousand years is deeply entrenched and gives rise of intense contempt for the pagan Hindus.

Third factor has to do with the social structure of the Muslim society. It is not usually acknowledged that Muslim rule on India was the Imperial rule of the foreign dynasties entrenched in the urban centres like Delhi. Turani, Irani, Mughlani had all the powers concentrated in their hands with some crumbs thrown for the Hindustani nobility.

The ruling feudal upper-caste Muslims were the ones who were hit hardest by the eclipse of the Islamic Imperialism. It was hard enough to be under the heels of the British but it was abhorrent to see the "dark skinned Hindus" returning to the power.

In fact, genesis of the Muslim separatism and Pakistan goes back to the early 18th century. Besieged by the Marathas in the Deccan, rising British power in Bengal, Sikhs on the North-East and "Kafir Shia" Iran in the West, the landed gentry of the upper-caste Muslims were later horrified by the idea of the democracy in the non-Muslim majority India. This complex interplay of the superiority complex, fear and now inferiority complex of being out of power has resulted in the sulking of the entire community.

Add to this the massive undercurrents of the assertion of rights and pride by the Pasmanda Muslims and one have the upper-caste Muslim elites running for the cover of religion. This is the class to which likes of Owaisi belongs.

It is a last ditched attempt to safeguard the old power and privilege by whipping up the religious passion and uniting Muslim population by raising that eternal cry of  "Islam in Danger". Otherwise it is clear that forces of democracy and modernisation will sweep the old guard including Mullahs and Maulavis off their feet. Therefore, it is necessary to shield the Muslims masses from any rational discourse on religion, history & politics and keep perpetuating the myths of glories of past and blaming others for their misfortune. How on the earth, then, can persons like Tarek Fatah be allowed to speak?

Also, the collapse of their imperial glory has left the Muslims perplexed. Why are they behind dis-believers in each and every aspect? How come God's true followers are being defeated by the kafirs everywhere? Has God abandoned them? But why? Surely, Muslims are best of the people and if they are falling behind others then it certainly must be wickedness and treachery of dis-believers, that Hindu Baniya and eternal Jew, which has robbed them of their rightful place in the world! The superiority complex and self-righteousness has prevented them from any rational examination of their faults.

Certainly, people who are on the right path by following the true religion can do no wrong! So, it must be the wickedness of the others, which has succeeded because Muslims have strayed from the true message of Islam. Hence, there is an upsurge of the revivalist and puritan movements in the Islamic world. The increasing conservatism, textual orthodoxy and desire to establish the seventh century laws to find that right path which once propelled them to the top of the power pyramid is all too visible. It can be seen even in the relatively moderate Muslim communities of India, Indonesia, and Turkey etc.

It has led to the remarkable increase in the intolerance towards non-Muslims and secular/liberal Muslims. Any criticism of Islam or Islamic world or personalities immediately incites huge protests and violence. Muslims, even educated ones, are increasingly becoming "touch me not" type, who are quick to anger and prone to threats of violence if they disagree with anyone on matters even remotely related to Islam. That is why people like Tarek Fatah are treated with such hostility as they deconstruct the dominant narrative of the Islamic world which glorifies imperialism and conquests and harbours sympathy with terrorist groups like Taliban. Also, intolerance towards non-Muslims is reaching the boiling point, be it in Europe or India or the Muslim countries themselves.

Only recently, The Hindu reported that Muslims are objecting to the Hindu festivals in the villages where they are in majority, case of Islamisation of Kerala is all too well known to be repeated here. The No-Go Sharia zones are mushrooming in Europe at an alarming rate with the majority of the second generation Muslims wanting sharia to be imposed on the secular democratic countries of their residence. None of this is a good indication for the future of both Muslims and non-Muslims alike.

But what is more surprising is that Left has abandoned whatever wisdom it had to become the running dog of Islamic Imperialism. It has abandoned the protesters at the Shahbag Square in Bangladesh, tribals of the North-East, its fellow leftist in Iran, Egypt, North Africa, ex-Muslim writers like Taslima, Rushdie etc., it has sided with the Islamofascist of Kashmir, Jamaat-e-Islami, with theocracy of Iran , terrorist groups like Hamas and "understands where the Taliban is coming from"!

It is quick to defend the Islamofascists by labeling any criticism as Islamophobic, racist, communal and fascist! Not surprising given that it was the communists who had provided sophisticated arguments to the Muslim League by converting the communal demand for Pakistan into a struggle between Muslim peasantry and Hindu zamindars.

It was the communists who sided with the Islamofascists during the Islamic Revolution in Iran, 1979. In both cases they paid a heavy price as they were the first to be eradicated, both in Iran and Pakistan. But still it seems that they have not learnt any lessons from history.

I don't think that they side with Islamists simply because of the old dictum of the enemy of the enemy being a friend. I think that the rot runs much deeper but this is not the place to elaborate on it. What matters is that Jamia Millia incident has once again exposed the alarming rate with which forces of fascism are taking hold in the country and how they are being greeted by the deafening silence.

Fwd: Bhashya from M G Vaidya


स्वामी विवेकानंद : हिंदू, हिंदू राष्ट्र और हिंदू धर्म


'हिंदू' शब्द को आजकल, और विशेषत: राजनीतिक क्षेत्र में, एक संकीर्ण अर्थ चिपकाने की कोशिशें जारी हैं| 'हिंदू', अन्य संप्रदायों की भॉंति एक संप्रदाय मात्र है, ऐसा प्रचारित किया जा रहा है| अत:, जो कोई हिंदू की, हिंदू-हित की, या हिंदू-राष्ट्र की बात करता है, उसे सांप्रदायिक और अराष्ट्रीय मानने की प्रवृत्ति दिख रही है| उसे 'सेक्युलर' राजनीति का शत्रु माना जा रहा है| एक अजीब बात यह है कि जो संप्रदायविशेष का विचार कर अपनी नीतियॉं और कार्यक्रम बना रहे हैं, उन्हें 'सेक्युलर' कहा जा रहा है| और जो सब पंथों को समान समझो, राजनीति और राज्यशासन पंथनिरपेक्ष होना चाहिये, ऐसा कहते हैं, उन्हें सांप्रदायिक कह कर उनकी निंदा की जा रही है| वैचारिक व्यभिचार का ऐसा विचित्र उदाहरण दुनिया में शायद ही, और कहीं मिल पायेगा|

'हिंदू' होने का अभिमान इस परिप्रेक्ष्य में, जिनकी १५० वी जयंति, अब अपने देश में मनाई जानेवाली है, उन स्वामी विवेकानंद के विचार क्या थे, यह जानना सचमुच उद्बोधक होगा| हमारे सार्वजनिक जीवन की कई भ्रांतियॉं दूर करने में वे सहायक होंगे|

स्वामीजी कहते हैं, ''हिंदू होने का मुझे अभिमान है| मैं आप का देशवासी हूँ इसका मुझे गर्व है| (Complete works of Vivekanand. vol-3, page 381) हिंदू शब्द सुनते ही, शक्ति का उत्साहवर्धक प्रवाह आपके अंदर जागृत होगा तभी आप सच्चे अर्थ में हिंदू कहने लायक बनते हैं| आपके समाज के लोगों में आपको अनेक कमियॉं देखने को मिलेंगी, किन्तु उनकी रगों में जो हिंदू रक्त है, उस पर ध्यान केन्द्रित करो| गुरु गोविंदसिंह के समान बनो| हिंदू कहते ही सब संकीर्ण झगडे समाप्त होंगे| और जो जो हिंदू है, उसके प्रति सघन प्रेम आपके अंत:करण में उमड पडेगा|'' (तत्रैव पृ. ३७९)

हिंदू- एक राष्ट्र

स्वामीजी के विचार में हिंदू यह एक राष्ट्र है, यह नि:संदिग्ध रीति से स्पष्ट होता है| अमरिका तथा यूरोप में भाषण देते समय उन्होंने कई बार 'हिंदू नेशन' इस शब्दावलिका प्रयोग किया है| इससे स्पष्ट होता है कि, उनके मन में हिंदू-राष्ट्र यही भाव रहता था| अनेकों बार तो उन्होंने 'हिंदू-राष्ट्र' इसी शब्दावलि का प्रयोग किया है| जैसे- (i) The Sages of India have been almost innumerable for, what has the Hindu Nation been doing for thousands of years except producing sages? (तत्रैव पृ. २४८)

(ii) The Hindus are perhaps the most exclusive Nation in the world. They have the same great steadiness as the English, but much more amplified. (Vol-IV Page 157)

खेत्री के महाराज को लिखे पत्र में स्वामी जी लिखते हैं - So long as they forgot the past, the Hindu Nation remained in state of stupor; and as soon as they have begun to look into their past, there is on every side a fresh manifestation of life." (Vol-IV Page 270)

१८९९ में, दूसरी बार अमरिका में जाते समय, 'पूर्व और पश्‍चिम' इस शीर्षक के अपने लेख में स्वामी जी लिखते हैं- "Now you understand clearly where the soul of this progress is! It is in religion. Because no one was able to destroy that, therefore the Hindu Nation is still living." (Vol-V Page 362)


राष्ट्र : सांस्कृतिक अवधारणा

इस लेख में स्वामी जी ने 'धर्म' के लिये 'रिलिजन' शब्द का उपयोग किया है| कारण, वे पाश्‍चात्त्य पाठकों को संबोधित करते थे| किन्तु 'धर्म' और रिलिजन का अन्तर वे जानते थे| इस की चर्चा मैं आगे करूंगा| यहॉं 'राष्ट्र' का विचार प्रस्तुत है| स्वामी जी की दृष्टि में हिंदू किसी एक जमात का नाम नहीं है| सम्पूर्ण राष्ट्र का नाम है| और राष्ट्र क्या होता है| कई बडे बडे नेता 'राष्ट्र' और 'राज्य' समानार्थी मानते हैं| किन्तु यह गलत है| इसी गलत धारणा के कारण अपने यहॉं बोला जाता है कि १५ अगस्त १९४७ को नये राष्ट्र का जन्म हुआ| तो क्या १४ अगस्त को हम 'राष्ट्र' नहीं थे? 'राष्ट्र' नहीं थे तो क्या थे? वस्तुत:, १५ अगस्त को नये 'राष्ट्र' का नहीं, नये 'राज्य' का जन्म हुआ| राष्ट्र तो बहुत प्राचीन काल से चलते आया है| राज्य एक राजकीय व्यवस्था है, जो कानून के बल पर चलती है| 'राष्ट्र' एक सांस्कृतिक और आध्यात्मिक अवधारणा है| 'राष्ट्र' लोगों का बनता है| राष्ट्र यानी लोग होते हैं| वे लोग जो अपनी भूमि को अपनी माता के रूप में देखते हैं, जो अपने अतीत को अपना अतीत मानते हैं, और जिनके जीवनमूल्य (value system) याने जिनके अच्छे-बुरे मापने के मापदण्ड समान होते हैं, याने जिनकी संस्कृति समान होती है, उनका राष्ट्र होता है| अपने देश में ऐसे लोगों का नाम हिंदू है, इस लिये यह हिंदू राष्ट्र है| अर्नेस्ट रेनॉं नाम के फ्रान्सिसी विचारवंत लिखते हैं- "The soil provides the substratum, the field for struggle and labour, man provides the soul. Man is everything in the formation of this sacred thing that we call a people. Nothing that is material suffices here. A nation is a spiritual principle, the result of the intricate workings of history, a spiritual family and not a group determined by the configuration of the earth."
वे आगे लिखते हैं- "Two things which are really one go to make this soul or spiritual principle. One of these things lies in the past, the other in the present. The one is the possession in common of a rich heritage of memories and the other is actual agreement, the desire to live together and the will to make the most of the joint inheritance. Man cannot be improvised. The nation like the individual is the fruit of a long past spent in toil, sacrifice and devotion.......... To share the glories of the past, and a common will in the present, to have done great good deeds together and to desire to do more - these are essential conditions of a people's being. Love is in proportion to the sacrifice one has made and the evils one has borne."

(भावार्थ :  भूमि आधार होती है| वह संघर्ष और परिश्रम का क्षेत्र होता है| मनुष्य उसको आत्मा अर्पण करता है| जिस पवित्र स्थिति को हम 'राष्ट्र' कहते हैं, उस के निर्माण में मनुष्यही सब कुछ होता है| कितनी भी भौतिक सामग्री पर्याप्त नहीं होती| 'राष्ट्र' यानी एक आध्यात्मिक अवधारणा है| ऐतिहासिक घटनाओं का वह परिणाम होता है| 'राष्ट्र' एक आध्यात्मिक परिवार होता है| वह भूभाग से सीमित समूह नहीं होता|
दो बातें, जो वस्तुत: एक ही है, इस आत्मतत्त्व को या कहिये आध्यात्मिक अवधारणा को, बनाती  है| इन दोनों में एक अतीत की होती है| और दूसरी वर्तमान की| एक होती है स्मृतियों का समृद्ध खजीना और दूसरी होती है प्रत्यक्ष सहमति, साथ साथ रहने की अभिलाषा और इस समृद्ध बिरासत को अधिक उज्ज्वल करने की इच्छा| मनुष्य को कृत्रिम चीजों से बनाया नहीं जाता| 'राष्ट्र' भी मनुष्य की तरह, परिश्रम, बलिदान और भक्ति में बीते अतीत का परिणाम होता है|..... अतीत में गौरव, वर्तमान में सहमति, महान् कृतियों की साथ साथ अनुभूति और इस से भी बढिया करने आकांक्षा- राष्ट्र के अस्तित्व की अनिवार्य शर्ते हैं| हमारे बलिदानों की और झेले हुये संकटों की मात्रा में अपनी प्रीति बनती है|)

दो उदाहरण

हिंदू जीवनमूल्य अन्य पंथों, संप्रदायों, मजहबों या रिलिजनों का द्वेष नहीं सिखाते| उन्हीं जीवनमूल्यों को हमने अपने आचरण में दर्शाया भी है| इसी कारण तो हिंदुस्थान में पारसी अपने मजहब के साथ सैंकडों वर्षों से सम्मान से जी रहे हैं| सोचने की बात है कि पारसी, उनकी मातृभूमि में पर्शिया में (आज का इराण) क्यौं नहीं रह सके| वैसे ही यहुदी भी| वे अपनी मातृभूमि से कटने के बाद यूरोप के कई देशों में  बिखर गये| वहॉं पर उनको घृणित अत्याचारों का सामना करना पडा | किन्तु जो थोडे हिंदुस्थान में आये वे इज्जत के साथ रह सके| ये हमारे जीवनमूल्य यानी हमारी संस्कृति है| और राष्ट्रत्व का मुख्य आधारस्तंभ संस्कृति होती है|

संगठन का रहस्य

हिंदू राष्ट्र के सामने की चुनौतियों का भी जिक्र स्वामी जी ने किया है| एक स्थान पर स्वामीजी लिखते है- ''अपने हिंदुस्थान में शक्ति की कमी है| अन्य देशों की तुलना में हम दुर्बल हैं| शारीरिक दुर्बलता यह हमारे एक तिहाई दु:ख का कारण है| हम आलसी है| हम स्वार्थी है| हम एकत्र नहीं आ सकते| परस्पर का मत्सर किये बिना हम कोई काम ही नहीं कर सकते| हमें संगठित होने की आवश्यकता है| केवल इच्छाशक्ति से यह काम नहीं बनेगा| ऐसी एक संस्था हमें बनानी होगी जिस में लोग नियमित रूप से एकत्र आयेंगे| मेरे मित्रों, झूठी बातों से सावधान रहे| तेजस्विता आपके पीछे आयेगी| संगठित होने का एक स्वभाव भी होता है| हमारा यह स्वभाव नहीं है| उसे हमको बनाना पडेगा| इस हेतु मत्सररहितता यह प्रधान सूत्र है| अपने सहयोगियों से परामर्श करना, उनके विचारों से सहमत होना और अपने विचारों से उनको सहमत करना, इस में संगठन का रहस्य है| सब को प्रेम से जीतिये और बढते जाइये| गतिशील बने| गतिशीलताही जीवंतता का लक्षण है|''

स्वामी जी का आवाहन

''अपने अंत:करण से केवल प्रेम के शब्द प्रकट हों| ऐसा हुआ, तो अपने सब पंथो में जो कलह दीखते हैं, वे मिट जायेंगे| 'हिंदू' इस शब्द पर, 'हिंदू' यह नाम धारण करनेवाले प्रत्येक व्यक्ति पर, आत्यंतिक प्रेम करना हम सीखें| वह किसी भी प्रान्त में रहनेवाला हो, कोई भी भाषा बोलनेवाला हो, वह हिंदू है, यह ध्यान में आते ही, वह आप को अपने निकट का, अपना प्रियतम लगेगा, तभी आप आज सही अर्थ में हिंदू कहलाने लायक होंगे|''

समस्त हिंदूओं को स्वामी जी का आवाहन है- ''यह मत भूलो कि तुम्हारा जन्म व्यक्तिगत उपभोग के लिए नहीं है| भूलो मत कि तुम्हारा जन्म जगदम्बा के चरणों में समर्पित होने के लिये है| भूलो मत कि ये शूद्रवर्णीय, अज्ञानी, निरक्षर, गरीब, यह मछुआरा, यह भंगी ये सारे तुम्हारे ही अस्थिमांस के हैं| ये सारे तुम्हारे भाई हैं| तुम धैर्यशील बनो| अपने हिंदुत्व का अभिमान धारण करो| और स्वाभिमान से घोषणा करो कि मैं हिंदू हूँ| प्रत्येक हिंदू मेरा भाई है| अशिक्षित हिंदू, गरीब और अनाथ हिंदू, ब्राह्मण हिंदू और अस्पृश्य हिंदू- प्रत्येक हिंदू मेरा भाई है| तुम केवल लंगोटीधारी होंगे फिर भी गर्जना करो कि सारे हिंदू मेरे भाई हैं| हिंदुत्व यही मेरा जीवन; हिंदुस्थान की सब देवदेवताएं मेरी भी देवदेवताएं हैं| यह विशाल समाज यानी मेरे बचपन का झूला है, यौवन का नंदनवन है और बूढापे की वाराणशी है| इस हिंदुस्थान की धूलि यानी मेरे लिये इन्द्रलोक है| हिंदुस्थान का भाग्य यानी मेरा भाग्य है| अरे भाई, दिनरात इस का ही जयजयकार करो और प्रार्थना करो कि हे भगवन्, हे जगज्जननी, मुझे पुरुषार्थ दे| हे शक्तिदेवते मेरी दुर्बलता को समाप्त कर| मेरे अंदर की क्लीबता नष्ट कर और मुझे पौरुषसम्पन्न कर|'' (Vol-IV Page 412-418) इस पर और अधिक भाष्य की आवश्यकता नहीं है|


अब थोडी 'धर्म' की बात| यह बात सही हैं कि स्वामीजी ने 'धर्म' के लिये 'रिलिजन' शब्द का प्रयोग किया है| क्यौं कि वे अंग्रेजी भाषी समुदाय के सामने बोल रहे थे| किन्तु हिंदू धर्म और अन्य रिलिजन का अन्तर वे जानथे थे| स्वामी जी लिखते हैं- ''ख्रिस्ती मजहब ख्रिस्तपर आधारित है| इस्लाम महमदसाहब के ऊपर; बौद्ध भगवान बुद्ध पर, जैन जिनोंपर- इस तरह ये सारे 'रिलिजन्स' व्यक्ति पर निर्भर है| हमारा धर्म व्यक्ति पर नहीं सिद्धान्त पर आधारित है| भगवान कृष्ण भी वेदों से श्रेष्ठ नहीं| श्रीकृष्ण भी वेद को श्रेष्ठ मानते थे| श्रीकृष्ण को देवत्व का अधिकार इस लिये प्राप्त है कि उन्होंने वेदों की शिक्षा का सर्वोत्तम प्रकटीकरण अपने जीवन में किया|''

'धर्म' की परिभाषा- 'धारणाद् धर्म इत्याहु: धर्मो धारयते प्रजा:' इस प्रकार की है| वह चराचर सृष्टि की धारणा करता है| इस सृष्टि में जिस प्रकार भौतिक वस्तुएं हैं, उसी प्रकार चैतन्य भी भरा है| उस चैतन्य का भी ध्यान रखना चाहिये किन्तु सृष्टि रचना को भी भूलना नहीं चाहिये| इस लिये कहा गया है कि 'यतोऽभ्युदयनि:श्रेयससिद्धि: स धर्म:'| धर्म ऐहिक जीवन के लिये भी है और पारमार्थिक जीवन के लिये भी| धर्म के जिस अंग का सम्बन्ध केवल पारमार्थिक जीवन से, पारमार्थिक कल्याण से है, उसी को रिलिजन, या मजहब, या उपासना पंथ, या संप्रदाय ऐसा नाम है| अत: ये सब धर्म के अंग है, अंगी धर्म है| कारण वह व्यष्टि (व्यक्ति), समष्टि, सृष्टि और परमेष्ठी को जोड के रखता हैइस धर्म का नाम हिंदू धर्म है| स्वामी जी कहते हैं, यही विश्‍वधर्म है| वे यह भी कहते हैं कि एक तो कोई विश्‍वधर्म ही नहीं रहेगा| और रहेगा तो वह हिंदू धर्म ही है| क्यौ कि हिंदू धर्म ही संपूर्ण विश्‍व को याने मानवव्यष्टि, मानवसमष्टि, चराचर सृष्टि और सब के अन्दर विराजमान चैतन्य यानी परमेष्ठी को एक सूत्र में पिरोकर, उसका विचार करता है| अपने भाषा के कुछ शब्द देखिये धर्मशाला, धर्मार्थ अस्पताल, राजधर्म, पुत्रधर्म आदि| 'धर्मशाला' रिलिजस स्कूल नहीं होती और न 'धर्मार्थ अस्पताल' किसी रिलिजन का इलाज करता है| न राजधर्म, राजा का रिलिजन होता है, जो प्रजा का नहीं होता| और पुत्रधर्म पुत्र का रिलिजन नहीं होता जो उसके मॉं-बाप का नहीं है| हम अपने लिये कितना भी बडा भवन बनायें, वह धर्म नहीं, औरों के निवास की जब आप व्यवस्था निर्माण करते हैं, तब धर्मशाला खडी होती है| आप अपने लिये दवाइयों का कितना भी भण्डार बनाये, वह 'धर्म' नहीं है| जब औरों के आरोग्य की व्यवस्था तयार करते हैं, तब धर्मार्थ दवाखाना बनता है| धर्मशाला और धर्मार्थ अस्पताल के द्वारा, व्यक्ति या व्यक्तिसमूह मानवसमाज के साथ अपने को जोडता है| जो व्यापकता से अपने को जोडता है वह धर्म होता है|


-मा. गो. वैद्य
24 अप्रैल 2013