Thursday, January 31, 2013

Wednesday, January 30, 2013

Is there anything like Hindu terrorism


Is there such a thing as 'Hindu terrorism',

Francois Gautier


Is there such a thing as 'Hindu terrorism', as Home Minister Shinde is heavily hinting at? Well, I am one of that rare breed of foreign correspondents — a lover of Hindus! A born Frenchman, Catholic-educated and non-Hindu, I do hope I'll be given some credit for my opinions, which are not the product of my parents' ideas, my education or my atavism, but garnered from 25 years of reporting in South Asia (for Le Journal de Geneve and Le Figaro). In the early 1980s, when I started freelancing in south India, doing photo features on Kalaripayattu, the Ayyappa festival, or the Ayyanars, I slowly realised that the genius of this country lies in its Hindu ethos, in the true spirituality behind Hinduism.
                           The average Hindu you meet in a million villages possesses this simple, innate spirituality and accepts your diversity, whether you are Christian or Muslim, Jain or Arab, French or Chinese.
It is this Hinduness that makes the Indian Christian different from, say, a French Christian, or the Indian Muslim unlike a Saudi Muslim. I also learnt that Hindus not only believed that the divine could manifest itself at different times, under different names, using different scriptures (not to mention the wonderful avatar concept, the perfect answer to 21st century religious strife) but that they had also given refuge to persecuted minorities from across the world—Syrian Christians, Parsis, Jews, Armenians, and today, Tibetans.In 3,500 years of existence, Hindus have never militarily invaded another country, never tried to impose their religion on others by force or induced conversions.
You cannot find anybody less fundamentalist than a Hindu in the world and it saddens me when I see the Indian and western press equating terrorist groups like SIMI, which blow up innocent civilians, with ordinary, angry Hindus who burn churches without killing anybody. We know also that most of these communal incidents often involve persons from the same groups—often Dalits and tribals—some of who have converted to Christianity and others not.
However reprehensible the destruction of Babri Masjid, no Muslim was killed in the process; compare this to the 'vengeance' bombings of 1993 in Bombay, which wiped out hundreds of innocents, mostly Hindus. Yet the Babri Masjid destruction is often described by journalists as the more horrible act of the two.
            We also remember how Sharad Pawar, when he was chief minister of Maharashtra in 1993, lied about a bomb that was supposed to have gone off in a Muslim locality of Bombay.I have never been politically correct, but have always written what I have discovered while reporting.
                    Let me then be straightforward about this so-called Hindu terror. Hindus, since the first Arab invasions, have been at the receiving end of terrorism, whether it was by Timur, who killed 1,00,000 Hindus in a single day in 1399, or by the Portuguese Inquisition which crucified Brahmins in Goa. Today, Hindus are still being targeted: there were one million Hindus in the Kashmir valley in 1900; only a few hundred remain, the rest having fled in terror. Blasts after blasts have killed hundreds of innocent Hindus all over India in the last four years. Hindus, the overwhelming majority community of this country, are being made fun of, are despised, are deprived of the most basic facilities for one of their most sacred pilgrimages in Amarnath while their government heavily sponsors the Haj..
                They see their brothers and sisters converted to Christianity through inducements and financial traps, see a harmless 84-year-old swami and a sadhvi brutally murdered. Their gods are blasphemed. So sometimes, enough is enough.At some point, after years or even centuries of submitting like sheep to slaughter, Hindus—whom the Mahatma once gently called cowards—erupt in uncontrolled fury. And it hurts badly. It happened in Gujarat. It happened in Jammu, then in Kandhamal, Mangalore, Malegaon, or Ajmer.
               It may happen again elsewhere. What should be understood is that this is a spontaneous revolution on the ground, by ordinary Hindus, without any planning from the political leadership. Therefore, the BJP, instead of fighting over each other as to whom should be the next party president, or who will be their PM candidate for the 2014 elections, should do well to put its house together. For it's evident that the Congress has decided on this absurd strategy of the absurd, the untrue, the unjust, the treacherous, only to target Mr Narendra Modi, their enemy number One.It should also fight the Untrue with Truth: there are about a billion Hindus, one in every six persons on this planet. They form one of the most successful, law-abiding and integrated communities in the world today. Can you call them terrorists? Let the BJP compile a statistics of how many Hindus were killed by Muslims since 1947 and how many Muslims by Hindus. These statistics will speak by themselves

Is Colonel Purohit guilty?

Is Colonel Purohit guilty?

- RSN Singh 


RSN Singh is a former military intelligence officer who later served in the Research and Analysis Wing, or R&AW

Date : 18 Jul , 2012



                     Lt Col Srikant Purohit Going by the selective and flip-flop leaks by the Anti Terrorist Squad (ATS) of Maharashtra, and the manner in which the media is lapping it up, it appears that there is a concerted and rather a desperate bid to make an 'Osama bin Laden' out of Lt Col Purohit and prove that the Sadhavi Pragya and her accomplices are the new 'Hindu Jehadis'.  The credulity of the general public is being stretched on various scores.


            Firstly, the speed at which fresh revelations is being disseminated by the ATS on a daily basis, in complete disregard to professional propriety and in gross prejudice to the ongoing investigation.


Secondly, the unprecedented number of 'Narco Tests', the accused are being subjected to.


Thirdly, there is a total blank-out with regard to the version of the accused.


Fourthly, with every passing day, the network is being enlarged, as if to suggest that the entire country is being consumed by 'Hindu Terrorism', and has pan-Indian rather regional and global dimension.


The approach of 'two wrongs make a right' or 'one wrong is equal to another wrong' does not address the root causes of a problem.


Fifthly, if intercepts of some of the accused was available much prior to the blasts as suggested, then why no pre-emptive measures were taken.


Sixthly, no army representative has been included in the interrogation team.


Seventhly, the most intriguing aspect is the timing and the developing political tenor of the investigations i.e. during the eve of elections.



No two security problems especially those having religious and social overtones have the same character, motivation and orientation. Any attempt to draw parallels between terrorism of all kinds though politically beneficial can be counter-productive, and detracts the security agencies.


Each form of terrorism, whether home-grown or externally inspired—like Maoist, religious, social, secessionist, and political terrorism—has to be dealt on different planes. Even though, one terrorism feeds on another, the tendency to link various terrorisms, as is happening in the wake of 'Malegaon case', must at all costs be avoided.


          This is not to say that the entire investigation process is a miscarriage of truth and justice. It was only expected that the chain of terrorist strikes across the nation over the years, wherein innocent people and the country's integrity and economic interests have been targeted, would at some point of time provoke retaliatory measures in unknown ways. Although words like 'retaliation' or 'reaction' have become blasphemous in the present Indian context, it however cannot be wished away.



                   It is an exercise of responsible and perspicuous governance to ensure that the retaliatory susceptibilities are contained, rather given a positive direction. The approach of 'two wrongs make a right' or 'one wrong is equal to another wrong' does not address the root causes of a problem. It only contributes to creation of new undesirable elements and organizations, and further polarizes the society.

         In my interactions with various segments of the society, the polarization inaftermath of 'Malegaon blasts' , appears to have grown more acute.


           The  investigation following the 'Malegaon blasts', is extremely complex in nature due to the alleged involvement of an Army officer belonging to the Military Intelligence. The media therefore needs to be extremely cautious and circumspect about the manner in which it reports the briefs by the ATS. I have deep apprehension that the complete truth, as and when it unfolds in the future, could have several unsavoury and damaging twists.

                 The Colonel is a legitimate intelligence operative. Interaction with the police authorities, other intelligence agencies, desirable and undesirable elements was very much a part of his duty, without which no intelligence can be gathered and no counter-intelligence operation can be effected. No intelligence agency issues written orders in pursuance of intelligence operations. The entire system is based on trust and faith. It is yet to be established how much of disconnect is there between the legitimate and illegitimate activities of the officer during the course of his duty.


                  The level and extent of intelligence interaction and cooperation with other intelligence agencies that this officer had, is also not known. That is why, it was very important to have a representative of the Military Intelligence, when the interrogation of the officer began. To that extent, a state police organization is not only under-equipped but also out of sync with central intelligence agencies in dealing with an official of Military Intelligence.

       There can be no greater travesty in the suggestion by certain quarters that the alleged involvement of Lt Col Purohit is symptomatic of a deeper malaise taking roots in the Indian Army. An officer of the Military Intelligence is not in direct command of troops.  He has only a small complement of personnel working under him.

       A Military Intelligence officer is hardly competent in providing training on Improvised Explosive Devices (IEDs). Importantly, the nation must trust in the legal procedures of the Army, which is far more stringent. The Army will brook no ideology, which impacts on the established secular character and credentials of the organization.

       As and when Lt Col Purohit is handed back to Army custody, it is inevitable that he will be meted out the appropriate punishment, if found guilty, notwithstanding any misplaced sense of patriotism that he may attempt to invoke. I would therefore request the media to be patient and for the time being spare the Army.

Sanskrit in NASA

NASA to echo Sanskrit in space, website confirms its Mission Sanskrit
> Agra: Very soon the traditional Indian language Sanskrit will be a part
> of the
> space, with the United States of America (USA) mulling to use it as
> computer
> language at NASA. After the refusal of the Indian Sanskrit scholars to
> help them
> acquire command over the language, US has urged its young generation to
> learn
> Sanskrit.
> # संस्कृत बनेगी नासा की भाषा, पढ़ने से गणित और विज्ञान की शिक्षा में
> आसानी
> On visit to Agra, Aurobindo Foundation (Indian Culture)
> Puducherry Director Sampadananda Mishra told Dainik Jagran about the
> prospects
> of Sanskrit. Mishra said, "In 1985, NASA scientist Rick Briggs had
> invited 1,000
> Sanskrit scholars from India for working at NASA. But scholars refused
> to allow
> the language to be put to foreign use."
> According to Rick Briggs,
> Sanskrit is such a language in which a message can be sent by the
> computer in
> the least number of words.
> After the refusal of Indian experts to offer
> any help in understanding the scientific concept of the language,
> American kids
> were imparted Sanskrit lessons since their childhood.
> The NASA website
> also confirms its Mission Sanskrit and describes it as the best language
> for
> computers. The website clearly mentions that NASA has spent a large sum
> of time
> and money on the project during the last two decades.
> The scientists
> believe that Sanskrit is also helpful in speech therapy besides helping in
> mathematics and science. It also improves concentration. The alphabets
> used in
> the language are scientific and their correct pronunciation improves the
> tone of
> speech. It encourages imagination and improves memory retention
> also.
> Mishra told the daily that even the call centre employees are
> improving their voice by reading Sanskrit, besides the language being
> used by
> news readers, film and theatre artist for alternative voice
> remedy.
> (JPN/Bureau)
> source :
> Ankur Saxena
> Sr.Software Engineer | TechMahindra, Noida
> email : <>
> ph : 9650221555
> Website :
> "The medium through which one acquires all kinds of development from the
> physical point of view and the philosophical point to view is called
> dharma."
> [Non-text portions of this message have been removed]
> __._,_.___
> Reply via web post
> <;_ylc=X3oDMTJxOG5oNHNkBF9TAzk3MzU5NzE0BGdycElkAzE1NDcxMzYEZ3Jwc3BJZAMxNzA1MDc3MDc2BG1zZ0lkAzI5NjQxBHNlYwNmdHIEc2xrA3JwbHkEc3RpbWUDMTM1OTEyMTcwOA--?act=reply&messageNum=29641>
> Reply to sender
> <>
> Reply to group
> <>
> Start a New Topic
> <;_ylc=X3oDMTJlYnE4OGJ2BF9TAzk3MzU5NzE0BGdycElkAzE1NDcxMzYEZ3Jwc3BJZAMxNzA1MDc3MDc2BHNlYwNmdHIEc2xrA250cGMEc3RpbWUDMTM1OTEyMTcwOA-->
> Messages in this topic
> <;_ylc=X3oDMTM2amVub20yBF9TAzk3MzU5NzE0BGdycElkAzE1NDcxMzYEZ3Jwc3BJZAMxNzA1MDc3MDc2BG1zZ0lkAzI5NjQxBHNlYwNmdHIEc2xrA3Z0cGMEc3RpbWUDMTM1OTEyMTcwOAR0cGNJZAMyOTY0MQ-->
> (1)
> Recent Activity:
> * New Members
> <;_ylc=X3oDMTJmZzQ4MnQ5BF9TAzk3MzU5NzE0BGdycElkAzE1NDcxMzYEZ3Jwc3BJZAMxNzA1MDc3MDc2BHNlYwN2dGwEc2xrA3ZtYnJzBHN0aW1lAzEzNTkxMjE3MDg-?o=6>
> 7
> Visit Your Group
> <;_ylc=X3oDMTJlOTU2YTl2BF9TAzk3MzU5NzE0BGdycElkAzE1NDcxMzYEZ3Jwc3BJZAMxNzA1MDc3MDc2BHNlYwN2dGwEc2xrA3ZnaHAEc3RpbWUDMTM1OTEyMTcwOA-->
> To Post a message, send it to:
> To Unsubscribe, send a blank message to:
> Yahoo! Groups
> <;_ylc=X3oDMTJkcjV1Z3VmBF9TAzk3MzU5NzE0BGdycElkAzE1NDcxMzYEZ3Jwc3BJZAMxNzA1MDc3MDc2BHNlYwNmdHIEc2xrA2dmcARzdGltZQMxMzU5MTIxNzA4>
> Switch to: Text-Only
> <>,
> Daily Digest
> <>
> • Unsubscribe
> <>
> • Terms of Use <> • Send us Feedback
> <>
> .
> __,_._,___

Wednesday, January 23, 2013

उठो जागो और लक्ष्य की प्राप्ति तक मत रुको

स्वामी विवेकानंद और उनके कथन 

अगले पचास वर्ष तक मन से सभी देवी-देवताओं को हटा दो, अपने हृदय के सिंहासन पर भारत माता को आराध्य देवता के रूप में प्रतिष्ठित करो। अब तो अपने स्वदेश बंधु ही अपने इष्ट देव हैं।''
मनुष्य बनो | अपनी संकीर्णता से बहार आओ और अपना दृष्टिकोण व्यापक बनाओ | देखो , दूसरे देश किस तरह आगे बढ़ रहे है ! क्या तुम मनुष्य से प्रेम करते हो ? क्या तुम अपने देश को प्यार करते हो ? तो आओ , हम उच्चतर तथा श्रेष्ठतर वस्तुओं के प्राणपण से यत्न करें |पीछे मात देखो ; यदि तुम अपने प्रियतमों तथा निकटतम सम्बन्धियो को भी रोते देखो , तो भी नहीं | पीछे मात देखो , आगे बढ़ो |

बडे-बडे दिग्गज बह जायेंगे। छोटे - मोटे की तो बात ही क्या है! तुम लोग कमर कसकर कार्य में जुट जाओ, हुंकार मात्र से हम दुनिया को पलट देंगे। अभी तो केवल मात्र प्रारम्भ ही है। किसी के साथ विवाद न कर हिल-मिलकर अग्रसर हो - यह दुनिया भयानक है, किसी पर विश्वास नहीं है। डरने का कोई कारण नहीं है, माँ मेरे साथ हैं - इस बार ऐसे कार्य होंगे कि तुम चकित हो जाओगे। भय किस बात का? किसका भय? वज्र जैसा हृदय बनाकर कार्य में जुट जाओ।
लोग तुम्हारी स्तुति करें या निन्दा, लक्ष्मी तुम्हारे ऊपर कृपालु हो या न हो, तुम्हारा देहान्त आज हो या एक युग मे, तुम न्यायपथ से कभी भ्रष्ट न हो।
धर्म का रहस्य आचरण से जाना जा सकता है, व्यर्थ के मतवादों से नहीं। सच्चा बनना तथा सच्चा बर्ताव करना, इसमें ही समग्र धर्म निहित है। जो केवल प्रभु - प्रभु की रट लगाता है, वह नहीं, किन्तु जो उस परम पिता के इच्छानुसार कार्य करता है वही धार्मिक है। यदि कभी कभी तुमको संसार का थोडा-बहुत धक्का भी खाना पडे, तो उससे विचलित न होना, मुहूर्त भर में वह दूर हो जायगा तथा सारी स्थिति पुनः ठीक हो जायगी।
तुम तब तक हिन्दू कहलाने के अधिकारी नही हो जबतक हिन्दू शब्द सुनते ही तुम्हारे अंदर बिजली न दौड़ने लगे 

अमेरिकी बहनों और भाइयों,

आपने जिस सौहार्द और स्नेह के साथ हम लोगों का स्वागत किया हैं, उसके प्रति आभार प्रकट करने के निमित्त खड़े होते समय मेरा हृदय अवर्णनीय हर्ष से पूर्ण हो रहा हैं। संसार में संन्यासियों की सब से प्राचीन परम्परा की ओर से मैं आपको धन्यवाद देता हूँ; धर्मों की माता की ओर से धन्यवाद देता हूँ; और सभी सम्प्रदायों एवं मतों के कोटि कोटि हिन्दुओं की ओर से भी धन्यवाद देता हूँ।

मैं इस मंच पर से बोलनेवाले उन कतिपय वक्ताओं के प्रति भी धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ, जिन्होंने प्राची के प्रतिनिधियों का उल्लेख करते समय आपको यह बतलाया हैं कि सुदूर देशों के ये लोग सहिष्णुता का भाव विविध देशों में प्रचारित करने के गौरव का दावा कर सकते हैं। मैं एक ऐसे धर्म का अनुयायी होने में गर्व का अनुभव करता हूँ, जिसने संसार को सहिष्णुता तथा सार्वभौम स्वीकृति, दोनों की ही शिक्षा दी हैं। हम लोग सब धर्मों के प्रति केवल सहिष्णुता में ही विश्वास नहीं करते, वरन् समस्त धर्मों को सच्चा मान कर स्वीकार करते हैं। मुझे ऐसे देश का व्यक्ति होने का अभिमान हैं, जिसने इस पृथ्वी के समस्त धर्मों और देशों के उत्पीड़ितों और शरणार्थियों को आश्रय दिया हैं। मुझे आपको यह बतलाते हुए गर्व होता हैं कि हमने अपने वक्ष में यहूदियों के विशुद्धतम अवशिष्ट को स्थान दिया था, जिन्होंने दक्षिण भारत आकर उसी वर्ष शरण ली थी, जिस वर्ष उनका पवित्र मन्दिर रोमन जाति के अत्याचार से धूल में मिला दिया गया था । ऐसे धर्म का अनुयायी होने में मैं गर्व का अनुभव करता हूँ, जिसने महान् जरथुष्ट्र जाति के अवशिष्ट अंश को शरण दी और जिसका पालन वह अब तक कर रहा हैं। भाईयो, मैं आप लोगों को एक स्तोत्र की कुछ पंक्तियाँ सुनाता हूँ, जिसकी आवृति मैं बचपन से कर रहा हूँ और जिसकी आवृति प्रतिदिन लाखों मनुष्य किया करते हैं:

रुचिनां वैचित्र्यादृजुकुटिलनानापथजुषाम् । नृणामेको गम्यस्त्वमसि पयसामर्णव इव ।।
- ' जैसे विभिन्न नदियाँ भिन्न भिन्न स्रोतों से निकलकर समुद्र में मिल जाती हैं, उसी प्रकार हे प्रभो! भिन्न भिन्न रुचि के अनुसार विभिन्न टेढ़े-मेढ़े अथवा सीधे रास्ते से जानेवाले लोग अन्त में तुझमें ही आकर मिल जाते हैं।'
यह सभा, जो अभी तक आयोजित सर्वश्रेष्ठ पवित्र सम्मेलनों में से एक हैं, स्वतः ही गीता के इस अद्भुत उपदेश का प्रतिपादन एवं जगत् के प्रति उसकी घोषणा हैं:

ये यथा मां प्रपद्यन्ते तांस्तथैव भजाम्यहम् । मम वर्त्मानुवर्तन्ते मनुष्याः पार्थ सर्वशः ।।
- ' जो कोई मेरी ओर आता हैं - चाहे किसी प्रकार से हो - मैं उसको प्राप्त होता हूँ। लोग भिन्न मार्ग द्वारा प्रयत्न करते हुए अन्त में मेरी ही ओर आते हैं।'
साम्प्रदायिकता, हठधर्मिता और उनकी बीभत्स वंशधर धर्मान्धता इस सुन्दर पृथ्वी पर बहुत समय तक राज्य कर चुकी हैं। वे पृथ्वी को हिंसा से भरती रही हैं, उसको बारम्बार मानवता के रक्त से नहलाती रही हैं, सभ्यताओं को विध्वस्त करती और पूरे पूरे देशों को निराशा के गर्त में डालती रही हैं। यदि ये बीभत्स दानवी न होती, तो मानव समाज आज की अवस्था से कहीं अधिक उन्नत हो गया होता । पर अब उनका समय आ गया हैं, और मैं आन्तरिक रूप से आशा करता हूँ कि आज सुबह इस सभा के सम्मान में जो घण्टाध्वनि हुई हैं, वह समस्त धर्मान्धता का, तलवार या लेखनी के द्वारा होनेवाले सभी उत्पीड़नों का, तथा एक ही लक्ष्य की ओर अग्रसर होनेवाले मानवों की पारस्पारिक कटुता का मृत्युनिनाद सिद्ध हो।
आओ हम नाम, यश और दूसरों पर शासन करने की इच्छा से रहित होकर काम करें। काम, क्रोध एंव लोभ -- इस त्रिविध बन्धन से हम मुक्त हो जायें और फिर सत्य हमारे साथ रहेगा।
पूर्णतः निःस्वार्थ रहो, स्थिर रहो, और काम करो। एक बात और है। सबके सेवक बनो और दूसरों पर शासन करने का तनिक भी यत्न न करो, क्योंकि इससे ईर्ष्या उत्पन्न होगी और इससे हर चीज़ बर्बाद हो जायेगी। आगे बढो तुमने बहुत अच्छा काम किया है। हम अपने भीतर से ही सहायता लेंगे अन्य सहायता के लिए हम प्रतीक्षा नहीं करते। मेरे बच्चे, आत्मविशवास रखो, सच्चे और सहनशील बनो
यदि कोई तुम्हारे समीप अन्य किसी साथी की निन्दा करना चाहे, तो तुम उस ओर बिल्कुल ध्यान न दो। इन बातों को सुनना भी महान पाप है, उससे भविष्य में विवाद का सूत्रपात होगा।
हिंदू जन्म लेने पर मुझे गर्व है मेरे कारण नहीं, परन्तु मेरे देश, संस्कृति और पूर्वजों के कारण |जब में भूतकाल को देखता हूँ तो अनुभव करता हूँ की, मैं चट्टान की भांति मजबूत नींव पर खड़ा हूँ |
हम लोग हिन्दू हैं। मैं 'हिन्दू' शब्द का प्रयोग किसी बुरे अर्थ में नहीं कर रहा हूँ और न मैं उन लोगों से सहमत हूँ जो समझते हैं कि इस शब्द के कोई बुरे अर्थ हैं। प्राचीनकाल में इस शब्द का अर्थ केवल इतना था- ''सिन्धु तट के इस ओर बसने वाले लोग।" आज भले ही हमसे घृणा रखनेवाले अनेक लोग इस शब्द पर कुत्सित अर्थ आरोपित करना चाहते हों, पर केवल नाम में क्या धरा है? यह तो हम पर निर्भर करता है कि 'हिन्दू' नाम ऐसी प्रत्येक वस्तु का द्योतक हो जो महिमामय है, आध्यात्मिक है अथवा वह केवल कलंकित, पददलित, निकम्मी और धर्मभ्रष्ट जाति का प्रतीक है। यदि आज 'हिन्दू' शब्द का कोई बुरा अर्थ लगाया जाता है, तो उसकी परवाह मत करो। आओ! हम सब अपने आचरण से संसार को यह दिखा दें कि संसार की कोई भी भाषा इससे महान् शब्द का आविष्कार नहीं कर पायी हैं।
मेरे जीवन का यह सिद्धान्त रहा है कि मुझे अपने पूर्वजों को अपनाने में कभी लज्जा नहीं आई। मैं सबसे गर्वीले मनुष्यों में से एक हूँ। किन्तू, मैं तुम्हें स्पष्ट रूप से बता दूँ यह गर्व मुझे अपने कारण नहीं अपितु अपने पूर्वजों के कारण है। अतीत का मैंने जितना ही अध्ययन किया है, जितनी ही मैंने भूतकाल पर दृष्टि डाली है, यह गर्व मुझमें उतना ही बढ़ता गया है। उसने मुझे साहसपूर्ण निष्ठा और शक्ति प्रदान की है। उसने मुझे धरती की धूल से उठाकर ऊपर खड़ा कर दिया और अपने महान् पूर्वजों के द्वारा निर्धारित उस महायोजना को पूर्ण करने में जुटा दिया। उन प्राचीन आर्यों की सन्तानों! भगवत्कृपा से तुम भी उस गर्व से परिपूर्ण हो जाओ। तुम्हारे रक्त में अपने पूर्वजों के लिए उसी श्रद्धा का संचार हो जाय! यह तुम्हारे रग-रग में व्याप्त हो जाये और तुम संसार के उद्धार के लिए सचेष्ट हो जाओ।
यदि इस पृथ्वीतल पर कोई ऐसा देश है, जो मंगलमयी पुण्यभूमि कहलाने का अधिकारी है; ऐसा देश, जहां संसार के समस्त जीवों को अपना कर्मफल भोगने के लिए आना ही है; ऐसा देश जहां ईश्वरोन्मुख प्रत्येक आत्मा का अपना अन्तिम लक्ष्य प्राप्त करने के लिए पहुंचना अनिवार्य है; ऐसा देश जहां मानवता ने ऋजुता, उदारता, शुचिता एवं शान्ति का चरम शिखर स्पर्श किया हो तथा इस सबसे आगे बढ़कर जो देश अन्तर्दृष्टि एवं आध्यात्मिकता का घर हो, तो वह देश भारत ही है। 
जब ग्रीस का अस्तित्व नहीं था, रोम भविष्य के अन्धकार के गर्भ में छिपा हुआ था, जब आधुनिक यूरोपवासियों के पुरखे जंगलों में रहते थे और अपने शरीरों को नीले रंग से रंगा करते थे, उस समय भी भारत में कर्मचेतना का साम्राज्य था। उससे भी पूर्व, जिसका इतिहास के पास कोई लेखा नहीं, जिस सुदुर अतीत के गहन अन्धकार में झांकने का साहस परम्परागत किंवदन्ती भी नहीं कर पाती, उस सुदूर अतीत के अब तक, भारतवर्ष से न जाने कितनी विचार तरंगें निकली हैं, किन्तु उनका प्रत्येक शब्द अपने आगे शान्ति और पीछे आशीर्वाद लेकर गया है। संसार की सभी जातियों में केवल हम ही हैं जिन्होंने कभी दूसरों पर सैनिक-विजय प्राप्ति का पथ नहीं अपनाया और इसी कारण हम आशीर्वाद के पात्र है।
लोग तुम्हारी स्तुति करें या निन्दा, लक्ष्मी तुम्हारे ऊपर कृपालु हो या न हो, तुम्हारा देहान्त आज हो या एक युग मे, तुम न्यायपथ से कभी भ्रष्ट न हो।
जब तक तुम लोगों को भगवान तथा गुरु में, भक्ति तथा सत्य में विश्वास रहेगा, तब तक कोई भी तुम्हें नुक़सान नहीं पहुँचा सकता। किन्तु इनमें से एक के भी नष्ट हो जाने पर परिणाम विपत्तिजनक है।
जब तक जीना, तब तक सीखना' - अनुभव ही जगत में सर्वश्रेष्ठ शिक्षक है।
हे सखे, तुम क्योँ रो रहे हो ? सब शक्ति तो तुम्हीं में हैं। हे भगवन, अपना ऐश्वर्यमय स्वरूप को विकसित करो। ये तीनों लोक तुम्हारे पैरों के नीचे हैं। जड़ की कोई शक्ति नहीं प्रबल शक्ति आत्मा की हैं। हे विद्वान! डरो मत; तुम्हारा नाश नहीं हैं, संसार-सागर से पार उतरने का उपाय हैं। जिस पथ के अवलम्बन से यती लोग संसार-सागर के पार उतरे हैं, वही श्रेष्ठ पथ मै तुम्हें दिखाता हूँ!
जो पवित्र तथा साहसी है, वही जगत में सब कुछ कर सकता है। माया-मोह से प्रभु सदा तुम्हारी रक्षा करें। मैं तुम्हारे साथ काम करने के लिए सदैव प्रस्तुत हूँ एवं हम लोग यदि स्वयं अपने मित्र रहें तो प्रभु भी हमारे लिए सैकडों मित्र भेजेंगे, आत्मैव ह्यात्मनो बन्धुः।
मैं चाहता हूँ कि मेरे सब बच्चे, मैं जितना उन्नत बन सकता था, उससे सौगुना उन्न्त बनें। तुम लोगों में से प्रत्येक को महान शक्तिशाली बनना होगा- मैं कहता हूँ, अवश्य बनना होगा। आज्ञा-पालन, ध्येय के प्रति अनुराग तथा ध्येय को कार्यरूप में परिणत करने के लिए सदा प्रस्तुत रहना। इन तीनों के रहने पर कोई भी तुम्हे अपने मार्ग से विचलित नहीं कर सकता।
'मैं कोई तत्ववेत्ता नहीं हूँ। न तो संत या दार्शनिक ही हूँ। मैं तो ग़रीब हूँ और ग़रीबों का अनन्य भक्त हूँ। मैं तो सच्चा महात्मा उसे ही कहूँगा, जिसका हृदय ग़रीबों के लिये तड़पता हो।'

माँ को समर्पित !!! :

स्वामी विवेकानंद जी से एक जिज्ञासु ने प्रश्न किया," माँ की महिमा संसार में
किस कारण से गायी जाती है? स्वामी जी मुस्कराए, उस व्यक्ति से बोले, पांच सेर
वजन का एक पत्थर ले आओ | जब व्यक्ति पत्थर ले आया तो स्वामी जी ने उससे कहा, "
अब इस पत्थर को किसी कपडे में लपेटकर अपने पेट पर बाँध लो और चौबीस घंटे बाद
मेरे पास आओ तो मई तुम्हारे प्रश्न का उत्तर दूंगा |"
स्वामी जी के आदेशानुसार उस व्यक्ति ने पत्थर को अपने पेट पर बाँध लिया और चला
गया | पत्थर बंधे हुए दिनभर वो अपना कम करता रहा, किन्तु हर छण उसे परेशानी और
थकान महसूस हुई | शाम होते-होते पत्थर का बोझ संभाले हुए चलना फिरना उसके लिए
असह्य हो उठा | थका मांदा वह स्वामी जी के पास पंहुचा और बोला , " मै इस पत्थर
को अब और अधिक देर तक बांधे नहीं रख सकूँगा | एक प्रश्न का उत्तर पाने क लिए
मै इतनी कड़ी सजा नहीं भुगत सकता |"
स्वामी जी मुस्कुराते हुए बोले, " पेट पर इस पत्थर का बोझ तुमसे कुछ घंटे भी
नहीं उठाया गया और माँ अपने गर्भ में पलने वाले शिशु को पूरे नौ माह तक ढ़ोती
है और ग्रहस्थी का सारा काम करती है | संसार में माँ के सिवा कोई इतना
धैर्यवान और सहनशील नहीं है इसलिए माँ से बढ़ कर इस संसार में कोई और नहीं |
किसी कवी ने सच ही कहा है : -
जन्म दिया है सबको माँ ने पाल-पोष कर बड़ा किया |कितने कष्ट सहन कर उसने, सबको
पग पर खड़ा किया |माँ ही सबके मन मंदिर में, ममता सदा बहाती है |बच्चों को वह
खिला-पिलाकर, खुद भूखी सो जाती है |पलकों से ओझल होने पर, पल भर में घबराती है
|जैसे गाय बिना बछड़े के, रह-रह कर रंभाती है |छोटी सी मुस्कान हमारी, उसको
जीवन देती है |अपने सारे सुख-दुःख हम पर न्योछावर कर देती है |

Vivekananda Rock Memorial, Kanyakumari-

अपने भाइयों का नेतृत्व करने का नहीं , वरन् उनकी सेवा करने का प्रयत्न करो नेता बनने की इस कू्र उन्मतता ने बड़े -बड़े जहाजों को इस जीवनरूपी समुद्र में डुबो दिया है |
अगर धन दूसरों की भलाई करने में मदद करे, तो इसका कुछ मूल्य है, अन्यथा, ये सिर्फ बुराई का एक ढेर है, और इससे जितना जल्दी छुटकारा मिल जाये उतना बेहतर है.
"मानव-देह ही सर्वश्रेष्ठ देह है, एवं मनुष्य ही सर्वोच्च प्राणी है, क्योंकि इस मानव-देह तथा इस जन्म में ही हम इस सापेक्षिक जगत् से संपूर्णतया बाहर हो सकते हैं–निश्चय ही मुक्ति की अवस्था प्राप्त कर सकते हैं, और यह मुक्ति ही हमारा चरम लक्ष्य है।"

स्त्रियों की स्थिति में सुधार किये बिना संसार के कल्याण की कोई सम्भावना नही है | एक पक्षी का केवल एक पंख के सहारे उड़ सकना असम्भव है |

'' पराधीनता दैन्य है | स्वाधीनता ही सुख है | ''
जिस जाति की जनता में विद्या - बुद्धि का जितना ही अधिक प्रचार है , वह जाति उतनी ही उन्नत है |
चरित्र ही कठिनाइयों की संगीन दीवारें तोड़कर अपना रास्ता बना सकता है |
भारत की भूमि से मुझे प्यार है ,उसकी धूलि मेरे लिए पवित्र है , उसकी हवा मेरे लिए पावन है | वह एक पवित्र भूमि है , यात्रा का स्थान है , पवित्र तीर्थक्षेत्र है |

मैं यहां से दूर एक गांव में रहता था। वहां हरिदास नाम का एक ब्राह्मण भी रहता था। हरिदास अपनी पत्नी, पुत्र और पुत्रवधू के साथ रहता था। वे इतने अधिक निर्धन थे कि अक्सर उन्हें भोजन भी नहीं मिलता था। हरिदास के पास कुछ धार्मिक ग्रंथ थे और उनमें से वह अतीत में हुए महान व्यक्तियों की कहानियां पढ़ा करता था। उन कथाओं को वह ग्रामवासियों को सुनाया करता था जिससे कि वे भी परोपकार और दया का पाठ सीख सकें। ग्रामवासी उसे भेंट में आटा, चावल, साग, फल आदि दिया करते थे। वह उन्हें घर जाकर सावधानी से चार बराबर भागों में बांटता, जिससे परिवार के चारों सदस्यों को समान हिस्सा मिल सके। हरिदास और उसके परिवार का जीवन इसी प्रकार चल रहा था।
कुछ समय बाद गांव में ऐसी स्थिति आई कि ग्रामवासियों के पास अपने लिये भी पर्याप्त भोजन नहीं रहता था। वर्षा न होने के कारण खेतों की सारी फसल सूख कर नष्ट हो गयी थी। तीन वर्ष तक वहां वर्षा नहीं हुई जिससे वहां के सारे कुएं भी सूख गये। दिन-प्रतिदिन दशा बिगड़ती गयी और वहां के लोग भूख-प्यास से व्याकुल रहने लगे। हरिदास और उसके परिवार के सदस्य भी अत्यधिक क्षुधा-पीड़ित रहने लगे। वे दुर्बल होने लगे और ऐसा प्रतीत होने लगा कि वे शीघ्र ही मृत्यु को प्राप्त हो जायेंगे।
एक बार कुछ यात्री उस गांव से गुजर रहे थे और उन्होंने जब गांव की दुर्दशा देखी तो गांव वालों को आटे का एक बड़ा बोरा दिया। गांव वाले आनन्द से भर उठे। परन्तु वे अपने गुरु और मित्र हरिदास को भूले नहीं। उन्होंने उसे भी थोड़ा आटा भिजवाया।
हरिदास प्रसन्नता से अपनी पत्नी को पुकार उठा, 'देखो! देखो! कुछ तो आया खाने के लिए।'
उसकी पत्नी ने आटे को देख कर कहा, 'यह तो चार व्यक्तियों के लिए पर्याप्त नहीं है। मैं आप तीनों के लिए रोटी बना दूंगी।'
'नहीं! नहीं!' हरिदास ने कहा- 'हम सभी तो भूखे हैं। तुम चारों के लिए छोटी-छोटी चार रोटियां बना लो।'
हरिदास की पत्नी और उसकी पुत्रवधू ने चार समान रोटियां बनाईं, तथा पुकार कर हरिदास को कहा-
'आओ जल्दी खा लें क्योंकि हम सब बहुत भूखे हैं।' उसने सबको एक-एक रोटी दी और एक अपने लिए रख ली। ठीक उसी समय बाहर से किसी ने दरवाजा खटखटाया।
'भला इस समय कौन आया है?' ऐसा सोचकर हरिदास ने अपनी रोटी रखी और उठकर दरवाजा खोलने गया। उसने वहां फटे चिथड़े में लिपटे एक भिखारी को खड़ा देखा।
'मैं आपकी क्या सेवा कर सकता हूं?' हरिदास ने पूछा।
आगन्तुक व्यक्ति ने कहा, 'मैं वाराणसी जा रहा हूं। मैंने रास्ते में बच्चों से एक भले आदमी के घर का ठिकाना पूछा। वे ही मुझे तुम्हारे घर ले आये। मैं भूखा और थका हुआ हूं। महाशय, क्या मैं यहां कुछ देर के लिए विश्राम कर सकता हूं? सचमुच मैं बहुत भूखा हूं।'
हरिदास ने ध्यान से उस व्यक्ति का चेहरा देखा। हां, वह बहुत थका हुआ और दुर्बल दिखाई पड़ रहा था। उसे भोजन की आवश्यकता थी।
हरिदास ने उस अतिथि का स्वागत किया। अतिथि की सेवा करना भगवान की ही सेवा करना है। वह उसे अपने कमरे में ले गया और बैठने के लिए स्थान दिया।
हरिदास कहने लगा, 'हमारे पास अधिक कुछ खाने को नहीं है, पर आज ही हमें कुछ आटा मिला जिससे हमने चार रोटियां बनाई हैं, एक मैं तुम्हारे लिये लाया हूं।' ऐसा कहकर हरिदास ने उसे अपनी रोटी दे दी।
अन्य तीन व्यक्ति उसे देख रहे थे कि किस प्रकार आतुरता से उसने रोटी खा ली। खाकर फिर उसने कहा, 'अहा! कितनी अच्छी थी रोटी- पर भूखे व्यक्ति की भूख तो थोड़ा-सा खा लेने से और भी अधिक बढ़ जाती है। बहुत भूख लग रही है- मेरा पेट जला जा रहा है, कहीं मेरे प्राण ही न निकल जायें।' हरिदास की पत्नी ने देखा और अपनी रोटी उसे दे दी।
हरिदास के प्रतिकार करने पर उसने कोमलता से कहा, 'हम गृहस्थ हैं, और हमारे घर एक भूखा अतिथि आया है। हमारा कर्तव्य है कि हम उसे खाना दें। आपने अपनी रोटी दे दी और अब आपकी पत्नी होने के नाते मेरा कर्तव्य है कि मैं अपनी रोटी भी उसे दे दूं।'
वह रोटी भी आगन्तुक शीघ्र ही खा गया। हरिदास की पत्नी ने पूछा, 'अब कुछ ठीक लगा?' 'अभी भी भूख बहुत लगी है', आगन्तुक ने कहा।
हरिदास के पुत्र ने कहा- 'पिता के कार्य को पूरा करना पुत्र का धर्म है, अत: मेरी यह रोटी तुम ले लो।' ऐसा कह कर हरिदास के बेटे ने अपनी रोटी उसे दे दी।
उसे भी खाकर जब वह तृप्त नहीं हुआ तब पुत्रवधू ने भी अपनी रोटी उसे दे दी और तब कहीं जाकर उसे शान्ति मिली।
उसने कहा, 'अब मैं ठीक हूं। अब मुझे अपनी यात्रा पर आगे बढ़ना चाहिए।' खड़े होकर उसने उन लोगों को आशीर्वाद दिया और पुन: यात्रा पर चल पड़ा।
उसी रात भूख से हरिदास, उसकी पत्नी, पुत्र और पुत्रवधू की मृत्यु हो गयी। ('विवेकानन्द की मनोरम कहानियां' से साभार)
तुम जो सोचोगे वही बन जाओगे ; यदि तुम अपने को दुर्बल समझोगे , तो तुम दुर्बल बन जाओगे ; वीर्यवान सोचोगे तो वीर्यवान बन जाओगे |
यदि कोई मनुष्य स्वार्थी है ,तो चाहे उसने संसार के सब मंदिरों के दर्शन क्यों न किये हो , सारे तीर्थ क्यों न गया हो और रंग भभूत रमाकर अपनी शक्ल चीते जैसी क्यों ना बना ली हो , शिव से वह बहुत दूर है |
" हिंदू समाज में से एक मुस्लिम या इसाई बने , इसका मतलब यह नहीं कि एक हिंदू कम हुआ , बल्कि हिंदू समाज का एक दुश्मन ओर बढ़ा | "
धर्म ही भारत की जीवन शक्ति है | अगर हिंदू जाति अपने पूर्वजो की विरासत 
न भूले तो दुनिया की कोई भी ताकत उन्हें नहीं मिटा सकती |

Thanks and Regards




V. C. GARG & CO.

Chartered Accountants


B.Com., FCA

K-34A, Kalkaji, New Delhi-110019

Phone:  011-26291583, 9810621995



Tuesday, January 22, 2013

} आतंकवाद का रंग है, बस काला !

दैनिक भास्कर (दिल्ली)

22 जनवरी 2012


आतंकवाद का रंग है, बस काला !


            हमारे गृह मंत्री श्री सुशीलकुमार शिंदे ने दुबारा बर्र के छत्ते में हाथ डाल दिया| क्या हमारे हर गृहमंत्री को यह खसलत तंग करती है? डेढ़-दो साल पहले तत्कालीन गृहमंत्री चिदंबरम ने भी भगवा आतंकवाद का जुमला उछाला था और अपनी भद्द पिटवाई थी| अगर यही बात कांग्रेस या कम्युनिस्ट पार्टी का कोई दिग्गज नेता भी कह देता तो उस पर लोग ज्यादा ध्यान नहीं देते| यह माना जाता कि यह वोट-बैंक की राजनीति है| अल्पसंख्यकों को पटाने का एक पैंतरा है| लेकिन यही बात जब किसी गृहमंत्री के मुंह से निकलती है तो इसमें आग की-सी लपट उठती है| इसीलिए शिंदे ने मुंह खोला नहीं कि संघ और भाजपा के प्रवक्ता ने आसमान सिर पर उठा लिया|

            श्री शिंदे ने श्री चिदंबरम को भी मात कर दिया| उन्होंने दो-टूक शब्दों में कहा कि भाजपा और संघ के प्रशिक्षण केंद्रों में आतंकवाद का पाठ पढ़ाया जाता है| उन्होंने यह भी कहा कि ऐसा उन्हें गृह मंत्रालयों की कुछ रपटों से पता चला है| इतना सुनते ही जब भाजपा ने उन पर आग बरसाई तो वे चिदंबरम के स्तर तक उठे और संयत हो गए! उन्होंने कहा कि मैंने हिंदू आतंकवाद नहीं कहा| वह भगवा आतंकवाद है और ऐसी बात कई अखबारों में भी लिखी गई थी| गृह मंत्री ने अपने कथन को सुधारा लेकिन अनेक कांग्रेसी नेताओं ने उनके मूल बयान का डटकर समर्थन कर दिया| गृह मंत्री पहले भी ऐसी असावधानी के शिकार हुए हैं और उन्होंने फिर सफाइयां पेश की हैं| उनसे आशा की जाती है कि वे अपने पद की महत्ता को ध्यान में रखे बगैर कोई बयान न दें| वे सिर्फ कांग्रेस के ही नहीं, पूरे देश के गृह मंत्री हैं|

            यहां प्रश्न यह भी उठता है कि ऐसा क्यों होता है? इसका एक कारण तो बिल्कुल स्वाभाविक है| जो भी राजनीति करता है, वह 'छपास' और 'दिखास' के लिए तड़पता रहता है| अखबारों में किसी तरह नाम छपता रहे और टीवी चैनलों पर चेहरा दिखता रहे, यह हर नेता की मजबूरी है| इसीलिए कई बार जान-बूझकर बिल्कुल अटपटे, बेढब और उत्तेजक बयान दे दिए जाते हैं| कभी-कभी लेने के देने पड़ जाते हैं| हमारी राजनीतिक दलों के कई अति संयत और सुनियंत्रित प्रवक्ताओं को भी इस खसलत के कारण घर बैठना पड़ जाता है| इसका दूसरा कारण यह है कि छोटे नेता अपने बड़े नेताओं को खुश करने के लिए भी इस तरह के बयान झाड़ देते हैं| उनके बड़े नेता तो इतने सावधान हैं कि अपना मुंह खोलने के पहले दस सलाहकारों से विचार-विमर्श करते हैं और उसके बावजूद अपना भाषण किसी न किसी राजनीतिक बाबू से लिखवाकर लाते हैं| ये शीर्ष नेतागण अभिनेताओं की तरह लिखे हुए या रटे हुए 'डायलाग' बोलने में भी नहीं झिझकते लेकिन छुटभैय्या लोग अपनी मशीनगन दनादन चलाने से नहीं चूकते| चैनलों और अखबारों की पौ-बारह इन्हीं नेताओं की वजह से बनी रहती है| बड़े मियां तो बड़े मियां, छोटे मियां सुभानअल्ला!

            आश्चर्य यह है कि शिंदे के मूल बयान का कुछ जिम्मेदार कांग्रेसी नेताओं ने डटकर समर्थन कर दिया है| याने वे भाजपा और संघ को 'हिंदू आतंकवाद' के लिए वाकई जिम्मेदार मानते हैं| जब असीमानंद और प्रज्ञा का मामला तूल पकड़ा था तो भाजपा, संघ और विश्व हिंदू परिषद ने भी उनके कृत्यों की स्पष्ट निंदा की थी और आज भी वे हर प्रकार के आतंकवाद का विरोध करते हैं| कांग्रेस के जो नेता हिंदू या भगवा आतंकवाद की बात उछालते हैं, वे क्या यह नहीं जानते कि उनकी इस नासमझी का खामियाज़ा कांग्रेस और देश, दोनों को भुगतना पड़ सकता है? यदि हिंदू और भगवा शब्दों को आतंकवाद से जोड़ने के कारण वे अल्पसंख्यकों के वोटों को लुभा सकते हैं तो क्या इसका तार्किक दुष्परिणाम यह नहीं होगा कि बहुसंख्यक मतदाता कांग्रेस से बिदकने लगेंगे? अभी तक कांग्रेस मुसलमानों को अपनी ओर आकर्षित करने में सफल नहीं हुई है| ऐसे में वह हिंदू वोट क्यों खोना चाहती है? इसके अलावा आतंकवाद को 'इस्लामी' और 'हिंदू' नाम देना कहां तक उचित है? इस्लाम तो आतंकवाद का बिल्कुल भी समर्थन नहीं करता| उसके तो नाम का ही अर्थ है, सलामती और शांति का धर्म! जहां तक हिंदुत्व का प्रश्न है, जो धर्म 'आत्मवत्र सर्वभूतेषु' मानता है याने सभी प्राणियों में स्वयं को देखता है, वह आतंकवाद कैसे फैला सकता है?

            आतंकवाद की न तो कोई जात है और न ही मजहब! जिन लोगों का नाम लेकर आतंकवादी हिंसा करते हैं, अगर उन लोगों से पूछें तो उन्हें वे बिल्कुल रद्द कर देंगे| अपने आपको जिहादी कहनेवाले आतंकवादी क्या जिहाद का मतलब भी जानते हैं? जिहादी का मतलब होता है, जितेद्रिय! आतंकवादी तो कायर होते हैं| वे वीरों की तरह लड़ते नहीं हैं| वे हमला करते हैं और भाग जाते हैं| वे क्रांतिकारी भी नहीं होते| हमारे स्वाधीनता सेनानी कभी निहत्थी जनता पर हमला नहीं करते थे| पकड़े जाने पर झूठ बोलकर या कायराना बहाना बनाकर अपनी जान बचाने की कोशिश नहीं करते थे| ऐसे कायर लोग खुद को जिहादी कहें या साधु-महात्मा कहें, वे अपने वर्ग या समुदाय का प्रतिनिधित्व नहीं करते| इसीलिए इन सिरफिरों और पथभ्रष्ट लोगों के बहाने किसी भी व्यापक जन-समुदाय के चेहरे पर काला टीका लगा देना कहां की बुद्घिमानी है|

इसके अलावा अपने ही देश के कुछ बहके हुए लोगों के कारण हम पूरे देश को क्यों बदनाम करना चाहते हैं? आज यदि हिंदू या भगवा आतंकवाद शब्द दुनिया के देशों की जुबान पर चढ़ जाए तो उसका परिणाम क्या होगा? भारत बदनाम होगा| भारत उसी कतार में बैठ जाएगा, जिसमें पाकिस्तान बैठा है| पाकिस्तानी को इस्लामी आतंकवाद का जनक माना जाता है तो भारत को हिंदू आतंकवाद का जनक माना जाने लगेगा| लश्करे-तयैबा के सरगना हाफिज सईद के हाथ में शिंदे ने एक नया हथियार पकड़ा दिया है| सईद का कहना है कि आतंकवादी राष्ट्र पाकिस्तान नहीं, हिन्दुस्तान है|

            पाकिस्तान तो अपने आतंकवाद को निर्यात करता है| उसने आतंकवाद को बनाया ही था, निर्यात के लिए| भारत उसे कहां निर्यात करेगा? भारत में अगर 'हिंदू आतंकवाद' फैल गया तो वह सबसे ज्यादा किसका विनाश करेगा? भारतीयों का और भारतीयों में भी हिंदुओं का! दुनिया के सारे आतंकवादियों का इतिहास पढ़ लीजिए| कश्मीरी आतंकवादी सबसे ज्यादा किन्हें मार रहे हैं? और तालिबान? उनके शिकार सबसे ज्यादा मुसलमान ही होते रहे हैं| श्रीलंका के तमिल आतंकवादियों ने जितने सिंहल नेताओं को मारा, उनसे ज्यादा तमिल नेताओं को मारा| अमेरिका के उग्रवादी ईसाई क्लू क्लक्स क्लान आतंकवादियों ने ईसाइयों को ही मारा| हमारे बंगाल के माओवादी सबसे ज्यादा वामपंथियों को ही मारते हैं| हिंसा का विरोध करनेवाले लोग आतंकवादियों का पहला निशाना बनते हैं| भारत के अधिसंख्य लोग हिंसा-विरोधी हैं| 'हिंदू आतंकवाद' शब्द गढ़कर आप भारत को पाकिस्तान क्यों बनाना चाहते हैं? आतंकवाद कोई भी करे, चाहे वह हिंदू हो या मुसलमान या ईसाई या सिख- उसे उसके मजहब से मत जोडि़ए| वह उसका शुद्घ व्यक्तिगत फैसला है| यह ठीक है कि आतंकवादी अपने फैसले को मज़हब या मुल्क या जात से जोड़ने की पूरी कोशिश करेगा लेकिन इस कुचेष्टा में हम उसका साथ क्यों दें? किसी भी आतंकवाद को किसी मजहब से जोड़कर देखने का अर्थ है- उस आतंक को प्रतिष्ठा और समर्थन देना| आज जरुरी है कि आतंकवाद को पार्टी-चश्मों से न देखा जाए| पार्टी-चश्मों से देखेंगे तो वह कभी भगवा दिखेगा, कभी हरा, कभी लाल और कभी तिरंगा भी! यदि उसे राष्ट्रीय चश्मे से देखेंगे तो उसका एक ही रंग दिखेगा| वह है, काला|

Hindi Bhashya from M G vaidya

पाकिस्तान टिकने, उसे टिकाए रखने में क्या मतलब है?


जम्मू-कश्मीर की नियंत्रण रेखा पर तैनात पाकिस्तानी सेना की टुकडी ने नियंत्रण रेखा लांघकर- मतलब भारत की सीमा में घुसकर, दो भारतीय सैनिकों की हत्या की और उनमें से एक सैनिक का सिर भी काटकर ले गये. इस क्रूरता से सारा देश भड़क उठा. अनेक सियासी पार्टिंयों ने पाकिस्तान के इस कृत्य का तीव्र निषेध कर पाकिस्तान के साथ 'जैसे को तैसा' व्यवहार कर, सबक सिखाने की मॉंग की. लेकिन भारत सरकार शांत रही. उसने नियंत्रण रेखा के दोनों ओर के सेनाधिकारियों की शांति-बैठक (ध्वज मिटिंग) का प्रस्ताव रखा. पाकिस्तान की ओर से पहले तो उसे सकारात्मक प्रतिसाद नहीं मिला. भारत में वातावरण इतना गर्मा गया कि, हवाई सेना प्रमुख को, 'हमें अन्य विकल्पों का विचार करना पड़ेगा' ऐसा कहना पड़ा. स्थल सेनाध्यक्ष ने भी ऐसे ही कठोर निर्धार के शब्दों का प्रयोग किया. अंत में देर से ही सही, वह क्रूर घटना घटित होने के एक सप्ताह बाद, प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह को भी कहना पड़ा कि, ''इस राक्षसी कृत्य के बाद, पाकिस्तान से हमारे संबंध सामान्य नहीं रहेगे.'' प्रधानमंत्री अपने वक्तव्य से देश के जनता की भावना ही व्यक्त कर रहे थे.


क्षुब्धता का आविष्कार

८ जनवरी को नियंत्रण रेखा पर हुए उस निर्दयी कत्ल के बाद सारा देश क्षुब्ध हुआ. परिणामस्वरूप हॉकी खेलने के लिए भारत में आये पाकिस्तानी खिलाडियों को वापस लौटना पड़ा. महिला विश्‍व क्रिकेट के मॅच मुंबई में होने वाले थे. मुंबई के क्रिकेट नियामक मंडल ने बताया कि, ये मॅच मुंबई में नहीं हो सकेगे. फिर वे मॅच अहमदाबाद में लेने का विचार प्रकट हुआ. वहॉं के क्रिकेट मंडल ने भी वही भूमिका ली. अब, वे मॅच ओडिशा में होगे, ऐसा समाचार है.


शौर्य और क्रौर्य

लेकिन कुछ प्रसार माध्यमों को, भारत का यह द्वेष पसंद नहीं. उन्होंने इसकी 'भडकाऊ देशभक्ति'   (Chauvinistic Jingoism)  कहकर आलोचना की है. इन लोगों को  पाकिस्तान के 'हितचिंतक' कहा तो वह उन्हें जचेगा नहीं. लेकिन प्रश्‍न यह है कि, उन्हें पाकिस्तान 'हितचिंतक' क्यों न कहे? पाकिस्तान की सरकार और सेना कहती है कि, हमने भारत के सैनिक का सिर काटा ही नहीं. विपरीत उनका तो आरोप है कि भारत के ही सैनिकों ने नियंत्रण रेखा लांघकर पाकिस्तान की सीमा मे प्रवेश किया. कुछ समय के लिए हम यह मान भी ले कि, भारतीय सैनिकों ने नियंत्रण रेखा का उल्लंघन किया. इसलिए पाकिस्तान की सेना ने उन पर गोलियॉं चलाई और उन्हें मार डाला. लेकिन मारे हुए सैनिक का सिर क्यों काटा? पहले सिर काटकर, बाद में उसे मारा गया, ऐसा तो नहीं हुआ? और ऐसा होना असंभव नहीं. मुसलमानों के सिर पर कौनसा भूत सवार होता है पता नहीं, उन्हें क्रौर्य अधिक पसंद होता है. शौर्य और क्रौर्य का भेद ही उनके ध्यान में नहीं आता.


क्रौर्य का कारण?

अब सेना के अधिकारी बता रहे है कि, ऐसे सिर काटकर ले जाने की यह कोई पहली ही घटना नहीं. इसके पहले भी दो बार भारतीय सैनिकों के बारे में ऐसी ही घृणास्पद घटनाएँ हो चुकी थी. तथापि, इस पर हमने आश्‍चर्य करने का कारण नहीं. कारगिल युद्ध के समय, भारतीय हवाई सेना का एक विमान चालक भूल से पाकिस्तान की सीमा में चला गया, तो उसे पकडकर, भीषण यातनाए देकर उसकी हत्या की गई. कुछ वर्ष पूर्व बांगला देश के सैनिकों के हाथ कुछ भारतीय सैनिक लगे. उन्हें केवल जान से मारा नहीं गया. उनकी चमडी उधेडी गई थी. महमद घोरी ने पृथ्वीराज चव्हाण की आँखें निकालकर फिर उसकी हत्या की. औरंगजेब ने भी संभाजी महाराज की आँखें निकालकर, फिर एक-एक अवयव पर शस्त्राघात कर उनकी हत्या की थी. यह जंगली अवस्था के मध्ययुग की घटनाए है, ऐसा हम मानते है. नही, यह मध्ययुग के जंगलीपन का आविष्कार नहीं. वह मुस्लिम समाज के अंतर्भूत क्रौर्य का आविष्कार होगा ऐसा लगता है. इसलिए ऐसा राक्षसी क्रौर्य २० वी और २१ वी सदी में भी हमें दिखाई देता है. यह घटनाए अपवादात्मक नहीं. कश्मीर की घाटी से कश्मिरी पंडितों को खदेडने के लिए यही तरीका घाटी के मुसलमानों ने अपनाया था. जिज्ञासू, तेज एन्. धर की पुस्तक  'Under the shadow of militancy : the diary of an unknown Kashmiri' पढ़े. आदमी को एकदम नहीं मारना. यातनाए देकर देखने वाले के मन में महशत निर्माण करना और फिर आदमी को खत्म करना, ऐसी यह रीति है. यह रीति इस्लाम की सीख से आई कहे या, अरब टोलियों के चरित्र के अनुकरण से आई ऐसा माने, यह विवाद का मुद्दा है. लेकिन वह मुसलमानों के शौर्य का, क्रौर्य का अविभाज्य घटक बना है. सन् १९७१ में, हमारे कब्जे में पाकिस्तान के, एक-दो नहीं, करीब ९२ हजार सैनिक कैदी थे. छॉंटा गया एक का भी सिर? सिमला समझौते के बाद उन कैदियों को पाकिस्तान वापस लौटाया गया. सैनिकों के वापसी का ऐेसा एक कार्यक्रम मैंने सीमा की वाघा चौकी पर देखा है. कैदी सैनिक हाथ में पवित्र कुरान की पुस्तक लेकर भारतीय सीमा में से, नो मॅन्स लॅण्ड में और वर्हां से पाकिस्तान की सीमा मे गये. ऐसा क्यों हुआ? और पाकिस्तान या बांगला देश का व्यवहार ऐसा क्यों नहीं हो सकता, इस प्रश्‍न का उत्तर मुसलमानों ने ही देना चाहिए.


द्वेष में से जन्म

भारत में के कई लोगों को लता है कि, पाकिस्तान के साथ हमारे संबंध अच्छे रहे. शांतता के हो. परस्पर व्यापार हो, यातायात चलता रहे. खेल, नाटक, सिनेमा आदि क्षेत्रों में परस्पर सहयोग रहे. इससे दोनों देशों के बीच के संबंध सुधरेगे. लेकिन यह अपेक्षा व्यर्थ है. हम सब, कम से कम समझदार लोग, प्रसार माध्यम और पाकिस्तान के प्रति 'प्रेम-भाव' रखने वाले सज्जन यह जान ले कि, यह संभव नहीं. कारण, पाकिस्तान की जनता भले ही शांततापूर्ण जीवन चाहती हो, वहॉं की सेना भारत के साथ सौहार्दपूर्ण संबंध रखना नहीं चाहती. पाकिस्तान का जन्म ही भारत के, सही में हिंदूओं के द्वेष से हुआ है. हाल ही में वकार अहमद इस लेखक का 'द आयडिऑलॉजी  ऑफ पाकिस्तान : अ थॉर्नी इश्यु' शीर्षक का लेख पढ़ा. लेखक प्रश्‍न करता है कि, पाकिस्तान का सिद्धांत क्या है? 'इस्लाम' कहे तो बांगला देश पाकिस्तान से विभक्त क्यों हुआ? १९४७ में तो बांगला देश पाकिस्तान का ही भाग था. वहॉं भी इस्लाम मानने वाले मुसलमान ही बहुसंख्य थे. ऐसा होते हुए भी टिक्काखान के सैनिकों ने मुसलमान बंगाली स्त्रियों पर अत्याचार क्यों किए? वकार अहमद प्रश्‍न उपस्थित करते है कि, स्वतंत्रता मिलने के बाद, हिंदुस्थान में जनतांत्रिक व्यवस्था में बहुसंख्य हिंदुओं का ही राज्य आएगा और उस राज्य में मुसलमानों की उन्नति और प्रगति नहीं हो पाएगी, इसलिए पाकिस्तान की मांग की गई ऐसा कहे तो बड़ी संख्या में मुसलमानों को भारत में ही क्यों रहने दिया गया? हम साथ रहते तो हमारी (मुसलमानों की) जनसंख्या ४० प्रतिशत होती. इससे हमारे सियासी अधिकार प्राप्त करने के लिए हमें अधिक ताकत मिलती. फिर विभाजन की मांग क्यों? वकार अहद के प्रश्‍नों का सही उत्तर एक ही है और वह है हिंदूओं का द्वेष.


राष्ट्र निर्माण का आधार इस्लाम नहीं

सब समझ ले कि, इस्लाम, राष्ट्र निर्माण का आधार नही हो सकता. अन्यथा अरेबिया, येमेन, सीरिया, इराक, इरान, अफगाणिस्थान यह अलग राष्ट्र बनते ही नहीं और न उनके बीच परस्पर संघर्ष होते. ये संघर्ष अभी भी चल ही रहे है. राष्ट्र बनने के लिए लोगों का एक समान इतिहास आवश्यक होता है. समान परंपरा आवश्यक होती है. वर्तमान का संबंध भूतकाल से होना चाहिए. कुछ जीवन मूल्य मतलब अलग संस्कृति चाहिए. यह शर्ते जो समाज पूर्ण करता है, उसका राष्ट्र बनता है. उस समुदाय को उस संस्कृति के मूल्यों का भान होना चाहिए. पाकिस्तान के पास ऐसा कुछ भी नहीं है. १९४७ के पूर्व का संपूर्ण पाकिस्तान का अलग इतिहास नहीं है. महापुरुष नहीं. समान सांस्कृतिक मूल्य भी नहीं. 'इस्लाम' मजहब यही एकमात्र जोडने वाला बंध था. लेकिन वह राष्ट्रभाव निर्माण नहीं कर सकता, यह ऊपर बताया ही है. उसमें वह सामर्थ्य होता, तो बांगला देश विभक्त ही न होता. उर्दू के आग्रह से पाकिस्तान के टुकड़े हुए ऐसा कहे, तो उर्दू उनकी धर्मभाषा है ही नहीं. पवित्र कुरान उर्दू में नहीं लिखा गया. इरान या इराक की भाषा या करीब के अफगाणिस्थान की भाषा भी उर्दू नहीं; फिर उर्दू का दुराग्रह क्यों? मेरा तो मत है कि वह एक बहाना था. संपूर्ण पाकिस्तान की जनसंख्या में पूर्व पाकिस्तान की- मतलब आज के बांगला देश की जनसंख्या अधिक थी. पाकिस्तान के सत्ता-सूत्र बंगाली भाषी मुस्लिमों के हाथ न जाए, इसलिए सब उठापटक थी. इस कारण ही अवामी लीग को बहुमत मिलने के बाद भी, उस पार्टी के नेता मुजीबुर रहमान को प्रधानमंत्री नहीं बनने दिया. उन्हें कैद में डाल दिया. उसके बाद का इतिहास सर्वज्ञात है.


अशांत पाकिस्तान

मुझे यहॉं यह अधोरेखित करना है कि, पाकिस्तान राष्ट्र है ही नहीं. वह एक कृत्रिम राज्य है. अँग्लो-अमेरिकनों की वैश्‍विक सियासी सुविधा के लिए उसकी निर्मिति हुई है और उनकी वह सुविधा ही पाकिस्थान को टिकाए रखे है. लेकिन, अब दुनिया की राजनीति में आमूलाग्र परिवर्तन हुआ है. रूस का भय नहीं रहा. शीतयुद्ध समाप्त हो चुका है और इधर पाकिस्तान अशांत है. हाल ही में पाकिस्तान के बलुचीस्थान प्रान्त में, एक घटना में, करीब एक सौ शिया पंथी मुसलमानों की हत्या की गई. क्यों? कारण एक ही कि, वे मुस्लिम थे लेकिन अल्पसंख्यक शिया पंथी थे. बलुचीस्थान अशांत है. सिंध में स्वायत्तता के लिए अनुकूल हवाएँ फिर चलने लगी है. १९४७ तक वायव्य सरहद प्रान्त में कॉंग्रेस पार्टी की सरकार थी. लेकिन पश्तुभाषी पठान भारत के  साथ संलग्नता चाहते थे. आज क्या स्थिति है, बताया नहीं जा सकता. लेकिन इस प्रान्त के कुछ भागों में पाकिस्तान सरकार की हुकुमत नहीं चलती, टोली वालों का हुक्म चलता है, यह वस्तुस्थिति है.


तानाशाही से लगाव

पाकिस्तान एक असफल राज्य  (Failed State) है. वह टिकना संभव नहीं. वहॉं गत पॉंच वर्षों से जनतांत्रिक व्यवस्था दिखाई दे रही है. लेकिन यह अमेरिका के दबाव में हुआ है. ऐसा लगता है कि इस्लाम का जनतंत्र से बैर है. तुर्कस्थान जैसा एखाद अपवाद छोड़ दे, तो करीब सब मुस्लिम राष्ट्रों में अभी-अभी तक तानाशाही थी. अमेरिका के दबाव में जनतंत्र का दिखावा चल रहा है. अमेरिका ने हस्तक्षेप रोक दिया तो फिर सर्वत्र तानाशाही स्थापित होगी. और देशों को छोड़ दे. हमारे करीब के अफगाणिस्थान और पाकिस्तान का ही विचार करते है. एक वर्ष बाद अफगाणिस्थान से अमेरिका और उसके साथ अन्य 'नाटो' राष्ट्र अपनी फौज वापस ले जाने वाले है. उसके बाद अफगाणिस्थान में पुन: तालिबान की सत्ता आएगी इस बारे में संदेह नहीं. पाकिस्तान में कभी भी जनतांत्रिक व्यवस्था स्थिर नहीं हो पाई. १९५८ में अयूब खान यह फौजी सत्ताधारी बने. उन्होंने ११ वर्ष सत्ता चलाई. १९६९ में याह्या खान ने उन्हें हटाकर अपनी सत्ता स्थापन की. याह्या खान भी फौजी अधिकारी ही थे. उनके बाद याह्या खान ने झुल्फिकार अली भुत्तो को सत्ता सौंपी. उनके चुनाव के माध्यम से स्थिर होने के पूर्व ही झिया-उल-हक इस फौजी अधिकारी ने उन्हें पदच्युत कर और एक बनावट मुकद्दमे का आधार लेकर फॉंसी पर लटका दिया. फिर एक विमान दुर्घटना में झिया-उल-हक की मौत हुई. फिर कुछ समय के लिए जनतांत्रिक व्यवस्था कायम हुई, और सेनापति मुशर्रफ ने प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को बरखास्त कर सत्ता अपने हाथ में ली. अब २०१३ में पाकिस्तान में चुनाव होने है. लेकिन पाकिस्तान के फौजी प्रमुख कयानी की सत्ता पर नज़र है. कयानी ने जरदारी को पदच्युत कर सत्ता हथियाने का समाचार मिलने के लिए बहुत लंबे समय राह देखनी पड़ेगी ऐसा नहीं लगता.


नई रणनीति

यह सब ब्यौरा देने का कारण यह कि, पाकिस्तान मतलब पाकिस्तान की सरकार मतलब पाकिस्तान की जनता ऐसा समझने की गल्ती हम न करे. पाकिस्तान मतलब पाकिस्तान की फौज यह समीकरण हमने ध्यान में लेना चाहिए; और उस फौज का पराभव करके ही हम पाकिस्तानी जनता को सुखी कर सकते है. खेल या अन्य मनोरंजन के माध्यमों के सद्भाव पर पाकिस्तान सरकार या पाकिस्तानी फौज की नीति निर्भर नहीं रहेगी. अत: हमें पाकिस्तान को टिकाए रखने में रुचि होने का कारण नहीं. पाकिस्तान का विघटन ही हमारी दृष्टि से हितप्रद होगा. शुरुवात पाकव्याप्त कश्मीर से करने में हर्ज नहीं. महाराजा हरिसिंह द्वारा भारत में विलीन किया गया संपूर्ण जम्मू-कश्मीर राज्य, भारत का अविभाज्य घटक है, यह हमारी अधिकृत भूमिका है. वह हमने राष्ट्र संघ में रखी भी है. २२ फरवरी १९९४ को हमारी सार्वभौम संसद के दोनों सदनों ने एकमत से पारित किए प्रस्ताव में इस भूमिका का पुनरुच्चार किया गया है. इस जम्मू-कश्मीर राज्य का कुछ भाग पाकिस्तान ने आक्रमण कर, अवैध रूप में अपने कब्जे में रखा है. वह वापस लेने का हमे अधिकार है. वैसा मौका, कारगिल युद्ध के समय हमें प्राप्त हुआ था. अब पुन: १४ वर्ष बाद, हमारे सैनिकों के बर्बर कत्ल के बाद हमें वह मौका मिला है. इस पाकव्याप्त कश्मीर की बहुतायत जनता पाकिस्तान की चुंगुल से छूटना चाहती है. इसका हमें लाभ मिल सकता है. उन्हें भारत से मदद की अपेक्षा है.


बलुचीस्थान और सिंध भी स्वतंत्र होने के लिए उत्सुक है. वहॉं के लोगों को हमारी मदद चाहिए. भारत से पंजाब को तोड़ने के लिए पाकिस्तान खलिस्थान वालों को मदद कर सकता है, तो हमने बलूच और सिंधी लोगों की मदद क्यों नहीं करनी चाहिए? श्रीमती इंदिरा गांधी की नीति का अनुसरण करना चाहिए. कैसे और कितनी मदद करना यह ब्यौरे और रणनीति के विषय है. केवल इतना ही ध्यान में लेना चाहिए कि, पाकिस्तान के टिके रहने और उसे टिकाए रखने में हमें आस्था होने का कारण नहीं. फिर लघु दृष्टि के सेक्युलॅरिस्ट और सतही सोच रखने वाले प्रसार माध्यम कुछ भी कहे. इसका अर्थ पाकिस्तान के स्वातंत्र्योत्सुक प्रान्तों को भारत के साथ राजनीतिक दृष्टि से संलग्न करे यह नहीं. प्रथमतः सांस्कृतिक दृष्टि से वे हमारे नजदिक आने चाहिए. फिर उन्हें समावेशकता के तत्त्व का (inclusiveness) महत्त्व समझ आएगा. जैन, बौद्ध, सिक्ख ये सब अपनी धार्मिक विशेषताएँ और पंथोपपंथों का अस्तित्व कायम रखते हुए एक विशाल संस्कृति के - जिसे हिंदू संस्कृति कहा जा सकता है - भाग बने है. मुसलमान भी वैसे बन सकते है. फिर सुन्नी, शिया, कादियानी, सूफी सब समन्वय के साथ रह सकेगे और भारतीय जनता के साथ, इन प्रान्तों की जनता के सही अर्थ में स्नेह-बंध निर्माण हो सकेगे. हमें ऐसे ही स्नेह-बंध अपेक्षित है!


- मा. गो. वैद्य

(अनुवाद : विकास कुलकर्णी )