Thursday, August 30, 2012

Fwd: {satyapravah} National interests and security must never be ignored.

 National interests and security must never be ignored.

Demographic aggression

S.K. Sinha


Sparks from Assam started dangerous fires in Mumbai and some other places last week. Mercifully, these did not last long. But they have the potential to start a gigantic fire engulfing the entire nation. This is a chilling reminder of the Partition holocaust, one of the greatest human tragedies in history.


Muhammed Ali Jinnah announced that his party would observe August 16, 1946, as Direct Action Day. He declared, "Today we bid good-bye to constitutional methods. Today we have forged a pistol and are in a position to use it. We mean every word of it." Bengal was the only province in the country where the Muslim League was in power. Direct Action was launched in Calcutta. Suhrawardy, the Muslim League chief minister, released his goons, as per plan.


There was a massacre of non-Muslims on the first two days. It was surprising that the British governor did not exercise his special powers to dismiss the Muslim League ministry and impose Governor's Rule. He remained a mute spectator. From the third day, non-Muslims, primarily Sikh taxi drivers and Bihari labourers, started retaliating in a big way and Muslims now suffered equally. Suhrawardy asked for help from the Army to restore order. He now turned on East Bengal, which had a hapless Hindu minority.


Hindu women were targeted and there was complete mayhem in Noakhali region. The Mahatma undertook a padyatra in Noakhali to restore peace. Thousands of Hindu refugees from East Bengal poured into Bihar seeking shelter. They narrated their tales of woe. Hindus in Bihar got inflamed and started attacking the local Muslim minority with a vengeance. Widespread communal violence in rural areas took place for the first time. This was difficult to control as it was spread over a vast area, devoid of suitable communications. Hitherto communal riots used to be an urban phenomenon.


The Bihar government promptly asked for Army assistance and normalcy was eventually restored. Several thousand Muslim families were massacred and their houses destroyed. The only redeeming feature was that Armymen remained totally impartial. Muslim priests from Peshawar, Rawalpindi and Lahore visited Bihar, saw the mayhem and went back with pictures of the atrocities. Soon the whole of North India, from Delhi to Peshawar, was in flames. The civil administration virtually collapsed; the Army was widely deployed. Most of the soldiers came from that region.


They saw how their kith and kin had suffered. The impartiality of the soldiers got seriously affected. With the announcement of Partition on June 3, 1947, the extent of violence increased further. Soldiers earmarked for different dominions now had divided loyalty. Millions perished and millions were uprooted in that holocaust.


The current violence in Assam has had a serious impact in several places. Pakistan launched a cyber war by sending SMSes and MMSes to Muslims to inflame communal passions. A mob of 50,000 Muslims collected at Azad Maidan in Mumbai to protest against atrocities on Muslims in Assam and Burma. Some burnt cars, targeted media, attacked shops, molested policewomen on duty and desecrated the Amar Jawan Smarak. Several policemen were injured. In Lucknow, mobs burnt shops, smashed cars and desecrated Buddha's statue.


There were similar incidents in Allahabad. Besides, thousands of SMSes were sent threatening students and others from the Northeast in Pune, Bengaluru, Hyderabad and Chennai, asking them to quit. Knowing how Delhi police had failed to provide security for students from the Northeast, they panicked. An exodus of over 20,000 people took place. Intelligence about these messages was available but no preventive measures were taken by the Central and state governments. Against this background it was irresponsible for the state government to permit the holding of the protest rally at Azad Maidan. It also failed, miserably, to stop the mayhem.


The Opposition in Parliament has very rightly announced full support in tackling the grave crisis and not to take any political advantage. Yet we must identify the fault lines. The biggest problem facing the Northeast has been demographic aggression by the unabated influx of millions of illegal migrants from Bangla-desh. Our vote-bank politicians have been blatantly assisting this with total disregard for national security. If a repeat of what happened at the time of Partition is to be avoided, the government must shed its slothful and "chalta hai" approach. Good governance, prompt preventive action and ability to foresee situations rather than be overcome by them are imperative. National interests and security must never be ignored.


The writer, a retired lieutenant-general, was Vice-Chief of Army Staff and has served as governor of Assam and Jammu and Kashmir.



Rajendra  Kumar Chadha
National Joint Convener
Prajna Pravah
Sai Vatika
C-23 Baldav Park East
[Parwaana Road ]
Delhi  110051

M +919818603977

Wednesday, August 29, 2012

Muslim Behaviour Explained ....

Here is a perspective by Dr. Peter Hammond. 
Dr. Hammond's doctorate is in Theology.
He was born in Capetown in 1960, grew up in Rhodesia and converted to Christianity in 1977.

Islam is not a religion, nor is it a cult.
In its fullest form, it is a complete, total, 100% system of life.

Islam has religious, legal, political, economic, social, and military components.
The religious component is a beard for all of the other components.

Islamization begins when there are sufficient Muslims in a country to agitate for their religious privileges.

When politically correct, tolerant, and culturally diverse societies agree to Muslim demands for their religious privileges, some of the other components tend to creep in as well..

Here's how it works:

As long as the Muslim population remains around or under 2% in any given country, they will be for the most part be regarded as a peace-loving minority, and not as a threat to other citizens.
This is the case in:
United States -- Muslim 0..6%
Australia -- Muslim 1.5%
Canada -- Muslim 1.9%
China -- Muslim 1.8%
Italy -- Muslim 1.5%
Norway -- Muslim 1.8%

At 2% to 5%, they begin to proselytize from other ethnic minorities and disaffected groups, often with major recruiting from the jails and among street gangs.This is happening in:

Denmark -- Muslim 2%
Germany -- Muslim 3.7%
United Kingdom -- Muslim 2.7%
Spain -- Muslim 4%
Thailand -- Muslim 4.6%

From 5% on, they exercise an inordinate influence in proportion to their percentage of the population.
For example, they will push for the introduction of halal (clean by Islamic standards) food, thereby securing food preparation jobs for Muslims.
They will increase pressure on supermarket chains to feature halal on their shelves -- along with threats for failure to comply.This is occurring in:

France -- Muslim 8%
Philippines -- 5%
Sweden -- Muslim 5%
Switzerland -- Muslim 4.3%
The Netherlands -- Muslim 5.5%
Trinidad & Tobago -- Muslim 5.8%

At this point, they will work to get the ruling government to allow them to rule themselves (within their ghettos) under Sharia, the Islamic Law.
The ultimate goal of Islamist is to establish Sharia law over the entire world.

When Muslims approach 10% of the population, they tend to increase lawlessness as a means of complaint about their conditions.
In Paris , we are already seeing car-burnings.
Any non-Muslim action offends Islam, and results in uprisings and threats, such as in Amsterdam , with opposition to Mohammed cartoons and films about Islam.
Such tensions are seen daily, particularly in Muslim sections, in:

Guyana -- Muslim 10%
India -- Muslim 13.4%
Israel -- Muslim 16%
Kenya -- Muslim 10%
Russia -- Muslim 15%

After reaching 20%, nations can expect hair-trigger rioting, jihad militia formations, sporadic killings, and the burnings of Christian churches and Jewish synagogues, such as in:
Ethiopia -- Muslim 32..8%

At 40%, nations experience widespread massacres, chronic terror attacks, and on-going militia warfare, such as in:

Bosnia -- Muslim 40%
Chad -- Muslim 53.1%
Lebanon -- Muslim 59.7%

From 60%, nations experience unfettered persecution of non-believers of all other religions (including non-conforming Muslims), sporadic ethnic cleansing (genocide), use of Sharia Law as a weapon, and Jizya, the tax placed on infidels, such as in:

Albania -- Muslim 70%
Malaysia -- Muslim 60.4%
Qatar -- Muslim 77.5%
Sudan -- Muslim 70%

After 80%, expect daily intimidation and violent jihad, some State-run ethnic cleansing, and even some genocide, as these nations drive out the infidels, and move toward 100% Muslim, such as has been experienced and in some ways is on-going in:

Bangladesh -- Muslim 83%
Egypt -- Muslim 90%
Gaza -- Muslim 98.7%
Indonesia -- Muslim 86.1%
Iran -- Muslim 98%
Iraq -- Muslim 97%
Jordan -- Muslim 92%
Morocco -- Muslim 98.7%
Pakistan -- Muslim 97%
Palestine -- Muslim 99%
Syria -- Muslim 90%
Tajikistan -- Muslim 90%
Turkey -- Muslim 99.8%
United Arab Emirates -- Muslim 96%

100% will usher in the peace of 'Dar-es-Salaam' -- the Islamic House of Peace.. Here there's supposed to be peace, because everybody is a Muslim, the Madrasses are the only schools, and the Koran is the only word, such as in:

Afghanistan -- Muslim 100%
Saudi Arabia -- Muslim 100%
Somalia -- Muslim 100%
Yemen -- Muslim 100%

Unfortunately, peace is never achieved, as in these 100% states the most radical Muslims intimidate and spew hatred, and satisfy their blood lust by killing less radical Muslims, for a variety of reasons.

'Before I was nine I had learned the basic canon of Arab life.
It was me against my brother; me and my brother against our father ;
my family against my cousins and the clan ;
the clan against the tribe ;
the tribe against the world, and all of us against the infidel". --
Leon Uris, 'The Haj'

It is important to understand that in some countries, with well under 100% Muslim populations, such as France, the minority Muslim populations live in ghettos, within which they are 100% Muslim, and within which they live by Sharia Law.
The national police do not even enter these ghettos.
There are no national courts, nor schools, nor non-Muslim religious facilities.
In such situations, Muslims do not integrate into the community at large.
The children attend madrases.
They learn only the Koran.
To even associate with an infidel is a crime punishable with death.
Therefore, in some areas of certain nations, Muslim Imams and extremists exercise more power than the national average would indicate.

Today's 1.5 billion Muslims make up 22% of the world's population.
But their birth rates dwarf the birth rates of Christians, Hindus, Buddhists, Jews, and all other believers .. Muslims will exceed 50% of the world's population by the end of this century.

Adapted from Dr. Peter Hammond's book: Slavery, Terrorism and Islam:
The Historical Roots and Contemporary Threat.


Tuesday, August 28, 2012

M.G. Vaidya ji Article

भावी प्रधानमंत्री स्वयंसेवक होना चाहिए : मुस्लिम राष्ट्रीय मंच कि मांग

गत जून माह में राजस्थान के पुष्कर इस पवित्र क्षेत्र में मुस्लिम राष्ट्रीय मंच (मुरामं) का तीन दिनों का शिबिर संपन्न हुआ.
इस शिबिर का उद्घाटन पूर्व सरसंघचालक श्री सुदर्शन जी के हस्ते हुआ. उन्होंने अपने भाषण में कहा, ''भारतीय मुसलमान बाहर से नहीं आये है. वे इसी देश के है; और हिंदुओं के समान ही वे भी यहॉं के राष्ट्रीय जीवन के अभिन्न घटक है.''
सुदर्शन जी ने आगे कहा कि, ''इस देश में रहने वाले सब हिंदू है.'' उन्होंने जामा मस्जिद के इमाम के साथ घटित प्रसंग बताया. इमाम जब हज यात्रा को गए थे, तब उन्हें एक स्थान पर अपना परिचय देना पड़ा. उन्होंने बताया, मैं हिंदुस्थान से आया हूँ. रेकॉर्ड में उन्हें हिंदू दर्ज किया गया. इसलिए, सुदर्शन ने बताया, ''हम सब हिंदू है और हमारा देश हिंदुस्थान है.''
कार्यक्रम में मंच पर 'मुरामं' के राष्ट्रीय संयोजक महंमद अफजल, सहसंयोजक और शिबिर के प्रमुख अब्बास अली बोहरा, छत्तीसगढ़ वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष सलीम अश्रफी और पूर्व राष्ट्रीय संयोजक सलाबत खान उपस्थित थे.
राष्ट्रीय संयोजक महंमद अफजल ने अपने भाषण में कहा, ''१८५७ के स्वाधीनता संग्राम में हिंदू और मुसलमान एक थे. लेकिन ब्रिटिशों ने, उनमें फूट ड़ाली. स्वाधीनता के बाद कॉंग्रेस पार्टी ने, मुसलमानों को केवल एक व्होट बँक बना दिया.'' उन्होंने, जम्मू-कश्मीर की रियासत भारत में विलीन करने के लिए, संघ के द्वितीय सरसंघचालक श्रीगुरुजी ने, महाराज हरिसिंग को कैसे मनाया, यह भी स्पष्ट किया. उन्होंने मुस्लिम बंधुओं को आवाहन किया कि कॉंग्रेस की चाल पहचानों, केवल एक व्होट बँक के रूप में अपना अस्तित्व कायम रखने से सावधान रहो.
इस्लाम शांति का धर्म है और इस्लाम में आतंकवाद को कोई स्थान नहीं, यह उन्होंने जोर देकर बताया. दारूल-उलूम-देवबंद ने आतंकवाद के विरुद्ध जो फतवा निकाला है, उसके पीछे 'मुरामं' की भूमिका का प्रभाव है, ऐसा उन्होंने कहा.
उन्होंने आगे कहा, ''सब प्रकार के खतरे उठाकर 'रामुमं'ने श्रीनगर में तिरंगा फहराया था और वहॉं 'वंदे मातरम्' गाया था. अमरनाथ की यात्रा में भी हमने भाग लिया और १० लाख मुस्लिमों के स्वाक्षरीयों के साथ गोहत्या बंदी की मॉंग का निवेदन राष्ट्रपति को प्रस्तुत किया.''
सरसंघचालक श्री मोहन जी भागवत के एक विधान का उल्लेख कर उन्होंने कहा, ''भारत का भावी प्रधानमंत्री रा. स्व. संघ का स्वयंसेवक होना चाहिए.'' इसका उपस्थितों ने तालियों से स्वागत किया.
शिबिर में मंच के एक मार्गदर्शक श्री इंद्रेश कुमार जी का भी भाषण हुआ. उन्होंने जानकारी दी कि 'रामुमं' एक रक्तपेढी (ब्लड बँक) स्थापन करने जा रहा है. राजस्थान के संयोजक डॉ. मुन्नावर चौधरी ने प्रास्ताविक और राष्ट्रीय सहसंयोजक अबु बकर नकवी ने संचालन किया. तीन दिनों के इस शिबिर में २५ राज्यों में से २०० प्रतिनिधि आये थे.    
      ****              ****              ****
जिब्रान का 'वो देश'
खलिल जिब्रान लेबॅनॉन देश का लेखक. . . १८८३ में उसका जन्म हुआ; और १९३१ में उसकी मृत्यु हुई. ४८ वर्ष की अल्पायु में उसने अनेक पुस्तकें लिखी. उनमें से अधिकांश का विश् की प्रमुख भाषाओं में अनुवाद हुआ है. उसकी मर्मज्ञता, प्रतिभा और संक्षिप्त में सखोल आशय व्यक्त करने की शैली असामान्य है.
जिब्रान की कहानियों में एक पात्र- अल मुस्तफा 'वो देश' कैसा है इसका वर्णन कर रहा है. वह वर्णन हमारे देश को भी या ये कहें सब देशों को कैसे लागू होता है, यह देखने लायक है. जिब्रान लिखता है -

''वो देश दयनीय है, जो निर्दयी मनुष्य को शूरवीर समझता है और घमण्ड़ दिखानेवाले को उदार समझता है.''
''वो देश दयनीय है, जो स्वयं बनाए कपड़े परिधान नहीं करता और अपने देश में बनी मदिरा नहीं पीता.''
''वो देश दयनीय है, जो स्वप्न में विशिष्ट इच्छा का तिरस्कार करता है और जागृति में उसी इच्छा के स्वाधीन रहता है.''
''वो देश दयनीय है, जो शवयात्रा के अलावा अन्य समय अपनी आवाज नहीं उठाता, अपने इतिहास के प्राचीन अवशेषों के अलावा अभिमान करने जैसी कोई भी वस्तु जिसके पास नहीं, जो गर्दन पर तलवार का आघात होने की नौबत आए बिना कभी विद्रोह नहीं करता.''
''वो देश दयनीय है, जिसकी राजनीतिज्ञ एक लोमड़ी है, जिसका तत्त्वज्ञ एक जादुगर है और जिसकी कला बहुरूपिये के स्वांग से आगे नहीं गई है.''
''वो देश दयनीय है, जो अपने नए राजा का धूमधाम से स्वागत करता है और तुरंत ही उसकी अवहेलना कर उसको बिदा करता है- इसलिए कि नए राजा का धूमधाम से स्वागत करने की व्यवस्था हो.''
''वो देश दयनीय है, जिसके महान् पुरुष अनेक वर्षों से गूंगे हैं और जिनके शूरवीर अभी पालने में सोए हैं.''
''वो देश दयनीय है, जो अनेक टुकड़ों में बँटा है और हर टुकड़ा स्वयं को संपूर्ण देश समझता है''
       ****             ****              ****
                             राम का डाक टिकट
इंडोनेशिया में १९६२ में रामायण पर आधारित डाक टिकटों की एक मालिका निकाली गई. १० रुपयों के टिकट पर राम, तो ३० रुपये के टिकट पर राम, सीता और सुवर्णमृग के चित्र थे. इंडोनेशिया मुस्लिमबहुल देश है. वहॉं मुसलमानों की संख्या ८६ प्रतिशत से अधिक है; और हिंदू है करीब प्रतिशत. राम और रामायण के बारे में उस देश को त्यंतिक प्रेम और आदर है.
इंडोनेशिया के समान ही दक्षिण-पूर्व एशिया में म्यांमार और व्हिएतनाम के बीच लाओस नाम का देश है. यह कम्युनिस्ट देश है. लेकिन उस देश ने भी अनेक बार राम और उससे संबंधित व्यक्तियों पर डाक टिकट निकाले हैं. यह बौद्धों का देश है. ९४ प्रतिशत जनसंख्या बौद्ध है. उसने १९७३ में रामायणाधारित डाक टिकट प्रकाशित किए और १९९६ में और .

हमारे भारत के बारे में पूछें. इस दुर्भाग्यशाली देश की सरकार ने राम का ऐतिहासिक अस्तित्व ही नकारा है.
       ****             ****              ****
                        सेंट मेरी चर्च में 'हिंदू दिवस'
इंग्लैंड के नैर्ऋत्य में सेंट मेरी चर्च है. इस चर्च द्वारा, ब्रिडपोर्ट गॉंव में एक प्राथमिक शाला चलाई जाती है. उस शाला ने २०१२ के मई माह में, एक दिन 'हिंदू दिवस' मनाया. सब बच्चें हिंदू वेषभूषा में आये थे. उन बच्चों ने हिंदू पद्धति से संपन्न हुआ विवाह समारोह देखा; और हिंदू पद्धति के नृत्य का प्रदर्शन भी किया.
शाला की वेबसाईट पर कहा है कि, बच्चों में हिंदू धर्म के बारे में अधिक जानने की इच्छा निर्माण हुई है. बच्चों की आध्यात्मिक उन्नति हो, ऐसी शाला के संचालकों की इच्छा है. उस दृष्टि से हिंदू धर्म के बारे में विद्यार्थीयों को जानकारी दी जाती है.   
       ****             ****              ****
                        अंतरिक्ष में उपनिषद
सुनीता विल्यम्स यह भारतीय मूल की धाडसी महिला दुनिया में सुपरिचित है. गत १४ जुलाई को वह अंतरिक्ष में गई है. उसकी यह अंतरिक्ष यात्रा माह चलेगी. इस दीर्घ यात्रा में पढ़ने के लिए वह कौनसी पुस्तके ले गई है? सब पुस्तकों की सूची तो उपलब्ध नहीं. लेकिन उन पुस्तकों में उपनिषद है. उसके पिता दीपक पंड्या ने ही उसके साथ उपनिषदों का अंग्रेजी अनुवाद दिया है. श्री पंड्या कहते है, ''इस पृथ्वी से वह जितनी अधिक ऊँचाई पर जाएगी, उतना ही उसे अपने भारतीय मूल का ज्ञान होगा.'' वे आगे बताते है, ''पिछली बार की उसकी अंतरिक्ष यात्रा में मैंने उसके साथ भगवद्गीता दी थी. उसने वह पढ़ी. वापस आने के बाद भगवद्गीता के बारे में उसने मुझे अनेक प्रश् पूछें. उसे उन सब प्रश्नों के उत्तर निश्चित ही उपनिषद में मिलेंगे.'' 
       ****             ****              ****
                        दिव्यराज की मानवसेवा
उसे सब कुमार नाम से जानते है. वह कोई काम नहीं करता. भटकता रहता है. रेल के प्लॅटफार्म पर सोता है. कोई जो कुछ देता है, उसी से गुजारा करता है. वह तिरुपुर गॉंव का निवासी है. यह गॉंव तमिलनाडु में है.
एक दिन अनोखी घटना हुई. वह रास्ते के किनारे लेटा था. उसी समय, एक कार आकर उसके पास रुकी. उसमें से कुछ लोग उतरे. उनके हाथों में कैची और कंघी थी. उन्होंने कुमार को अच्छी तरह से बिठाकर, तरीके से उसके बाल काटे. दाढी भी बनाई. उसे एक नया कुर्ता और खाने के लिए कुछ अन्न दिया, फिर चले गए.     
किसका था यह अनोखा उपक्रम. उस व्यक्ति का नाम है एन. दिव्यराज. वह 'हेअर स्टायलिस्ट' है. वह 'न्यू दिव्या हेअर आर्टस ट्रस्ट' नाम की संस्था चलाता है. इस संस्था में उसके कुछ मित्र और उसके घर के लोग भी उसे मदद करते हैं. जो मानसिक या शारीरिक दृष्टी से अपंग है, दरिद्र भिकारी है, उनके चेहरों को दिव्यराज का यह ट्रस्ट नया, सुंदर रूप देता है. गत चार वर्षों से यह उपक्रम चल रहा है.
दिव्यराज के साथ १२ लोग काम करते हैं. वे ऐसे लोगों की खोज करते रहते है. उनके एक दिन के भोजन की व्यवस्था भी करते है. तीन माह में एक बार वे तिरुपुर के बाहर जाकर सेवा देते है. इस उपक्रम में उन्होंने दिंडीगल, त्रिचनापल्ली, इरोड, नामकल्ल और करूर इन गॉंवों को भेट दी है. ९४४२३७२६११ इस मोबाईल क्रमांक पर कोई भी उनसे संपर्क कर सकता है.
       ****             ****              ****
मध्य प्रदेश में नीमच नाम का एक जिला है. उस जिले में बासनियां नाम का एक छोटा गॉंव है. गॉंव की जनसंख्या है केवल ४००. लेकिन गॉंव में मोरों की संख्या इससे दुगुनी मतलब ८०० है. यह बासनियां सही अर्थ में 'मोरगॉंव' बन गया है.
अरवली पर्वत की तलहटी में बसे इस गॉंव के लोगों का पशु-पक्षियों के साथ बहुत ही प्रेम का रिश्ता कायम हुआ है. गॉंव में सर्वत्र मोर दिखाई देंगे. खेतों में, रास्ते पर और घरों के छत पर भी!
मोर और मनुष्यों के बीच ऐसे प्रेमसंबंध निर्माण हुए है कि, मनुष्यों को देखकर मोर भागते नहीं. दौड़कर उनके पास आते हैं. उन्हें विश्वास है कि, मनुष्यों से उन्हें खतरा नहीं है.
                  ('संस्कारवान' मासिक, जुलाई २०१२ से)
       ****             ****              ****
                              वेद सब के हैं
वेद सब के हैं और संन्यास कोई भी ले सकता है, यह आद्य शंकराचार्य ने स्थापन किए चार मठों में से एक - शृंगेरी - मठ ने दिखा दिया है. दलित के घर में पैदा हुए, शिवानंद नाम के व्यक्ति को वहॉं संन्यास की दीक्षा दी गई है, वह वहॉं आजन्म ब्रह्मचारी रहने वाला है. अर्थात् उसका उपनयन संस्कार हुआ है, उसने वेदोपनिषदों का भी अध्ययन किया है.

- मा. गो. वैद्य

Vishwa Samvad Kendra